News Nation Logo

पीएम मोदी बोले, अयोध्य़ा में श्रीराम मंदिर आधुनिक भारत का प्रतीक, पढ़े 10 बातें

राम के सब काम हनुमान ही करते हैं. राम के आदर्शों की कलियुग में रक्षा की जिम्मेदारी हनुमान की है. उन्हीं के आशीर्वाद से राम मंदिर का भूमि पूजन हुआ.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 05 Aug 2020, 02:36:21 PM
PM Narendra Modi

भगवान श्रीराम की महिमा का बखान किया पीएम मोदी ने पहली ईंट रखने के बाद. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

अयोध्या:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अयोध्या में श्रीराम के भव्य मंदिर (Ayodhya Ram Mandir) के लिए पहली ईंट रख आधुनिक भारत के लिए एक नये युग का सूत्रपात किया. वैदिक रीति-रिवाजों के साथ अनुष्ठान के बीच भूमि पूजन (Bhoomi Pujan) कर पीएम मोदी ने एक संदेश भी दिया. इसमें उन्होंने प्राचीन भारत से लेकर आधुनिक भारत का एक खाका खींचा. खास बात यह रही है कि इस खाके के केंद्र में भगवान श्रीराम ही केंद्र में दिखे.

रामकाज किन्हें बनु मोहे कहां विश्रामः वर्षों से टाट और टेंट के नीचे रहे हमारे रामलला के लिए एक भव्य मंदिर का निर्माण होगा. टूटना और फिर से खड़ा हो जाना सदियों से इस गति क्रम से राम जन्मभूमि आज मुक्त हुई है. गुलामी के शासन में कोई ऐसा समय नहीं था, जब आजादी के लिए आंदोलन न चला हो. कोई भू-भाग नहीं था जहां बलिदान नहीं हुआ. ठीक उसी तरह राम मंदिर के लिए कई-कई सदियों तक, कई-कई पीढ़ियों ने अखंड अविरल प्रयास किया. उन सभी को कोटि-कोटि नमन.

यह भी पढ़ेंः  राम मंदिर के भूमिपूजन के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने नाम किए यह 3 रिकॉर्ड

राम मंदिर राष्ट्रीय भावना का प्रतीकः यहां आने से पहले मैंने हनुमानगढ़ी का दर्शन किया. राम के सब काम हनुमान ही करते हैं. राम के आदर्शों की कलियुग में रक्षा की जिम्मेदारी हनुमान की है. उन्हीं के आशीर्वाद से राम मंदिर का भूमि पूजन हुआ. राम मंदिर आधुनिक समय का प्रतीक बनेगा. हमारी शाश्वस्त आस्था का प्रतीक बनेगा. हमारी राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा. ये मंदिर करोड़ों लोगों की सामूहिक संकल्प शक्ति का भी प्रतीक बनेगा. ये मंदिर आने वाली पीढ़ियों को आस्था, श्रद्धा और संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा. इस मंदिर के बनने के बाद अयोध्या की भव्यता ही नहीं बढ़ेगी बल्कि इस क्षेत्र का पूरा अर्थतंत्र बदल जाएगा. हर क्षेत्र में अवसर बढ़ेंगे.

मंदिर राष्ट्र को जोड़ने का महोत्सवः राम मंदिर के निर्माण की प्रक्रिया राष्ट्र को जोड़ने का महोत्सव है. यह नर को नारायण से जोड़ने का उपक्रम है. आज का यह ऐतिहासिक पल युगों-युगों तक भारत की कीर्ति पताका फहराते रहेंगे. आज का यह दिन करोड़ों रामभक्तों के संकल्प की सत्यतता का प्रमाण है. यह न्यायप्रिय भारत की एक अनुपम भेंट है.

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी ने राम जन्मभूमि परिसर में लगाया पारिजात का पौधा, जानें क्या है धार्मिक महत्व और मान्यता

देश ने दिखाई श्रीराम जैसी मर्यादाः कोरोना से बनी स्थितियों के कारण भूमि पूजन का ये कार्यक्रम अनेक मर्यादाओं के बीच हो रहा है. श्रीराम के काम में जैसी मर्यादा पेश की जानी चाहिए देश ने वैसा ही उदाहरण पेश किया है. इसी मर्यादा का अनुभव हमने तब भी किया, जब सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया था. उस समय भी देशवासियों ने शांति के साथ सभी की भावनाओं का ख्याल करते हुए व्यवहार किया था. आज भी हम हर तरफ हम वही मर्यादा देख रहे हैं.

इतिहास खुद को दोहरा भी रहाः मंदिर के निर्माण से सिर्फ नया इतिहास ही नहीं रचा जा रहा है बल्कि इतिहास भी खुद को दोहरा रहा है. आज देशभर के लोगों के सहयोग से राम मंदिर निर्माण का यह पुण्य कार्य शुरू हुआ है. जैसे पत्थरों पर श्रीराम लिखकर राम सेतु बनाया गया था. वैसे ही घर-घर, गांव-गांव से श्रद्धापूर्क पूजी गई शिलाएं यहां ऊर्जा का स्रोत बन गई है. देशभर के धामों, मंदिरों से लाई गई मिट्टी, नदियों का जल वहां के लोगों की भवानाएं यहां की अमोघ शक्ति बन गई है. वाकई ये न भूतो, न भविष्यति. भारत की आस्था, भारत के लोगों की सामूहिकता और इसकी अमोघ शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय है.

यह भी पढ़ेंः सदियों का सपना साकार, देश में आनंद की लहर, भूमिपूजन के बाद बोले मोहन भागवत

श्रीराम भारत के प्रकाश स्तंभः श्रीराम को तेज में सूर्य के सामान, क्षमा में पृथ्वी के तुल्य बुद्धि में बृहस्तपति के तुल्य और यश में इंद्र के समान माना गया है. वह सत्य पर अडिग रहने वाले थे. श्रीराम संपूर्ण हैं. वह हजारों वर्षों से भारत के लिए प्रकाश स्तंभ बने हुए हैं. श्रीराम ने सामाजिक समरसता को शासन को आधारशिला बनाया. उन्होंने प्रजा से विश्वास प्राप्त किया.

हर पहलू से प्रेरणा देते हैं रामः जीवन का कोई ऐसा पहलू नहीं है जहां हमारे राम प्रेरणा नहीं देते हों. भारत की आस्था में राम, आदर्शों में राम, दिव्यता में राम, दर्शन में राम हैं. जो राम मध्य युग में तुलसी, कबीर और नानक के जरिए भारत को बल दे रहे थे. वही राम बापू के समय में अहिंसा के रूप में थे. भगवान बुद्ध भी राम से जुड़े हैं. सदियों से अयोध्या नगरी जैन धर्म की आस्था का केंद्र रहा है.

यह भी पढ़ेंः भूमि पूजन के बाद CM योगी बोले- PM मोदी की सूझबूझ के चलते आज 135 करोड़ लोगों का संकल्प पूरा हो रहा

शरणगात की रक्षा करना धर्मः जो शरण में आए उसकी रक्षा करना धर्म है. असली मातृभूमि फर्ज से बढ़कर होती है. यह भी श्रीराम की नीति है भय के बिना प्रीत नहीं हो सकती. राम की यही नीति. राम की यही रीति. सदियों से भारत का मार्ग दर्शन करती रही. महात्मा गांधी ने राम राज का सपना देखा. देश काल अवसर और परिस्थिति के अनुसार बोलते हैं. राम के हमें समय के साथ बढ़ना-चलना सिखाते हैं. राम परिवर्तन और आधुनिकता के पक्ष में हैं.

श्रीराम से मिली कर्तव्य पालन की सीखः श्रीराम के प्रेरणाओं, आदर्शों के साथ भारत आगे बढ़ रहा है. श्रीराम ने कर्तव्य पालन की सीख दी. विरोध से निकल बोल और शोध का मार्ग दिखाया. आपसी प्रेम भाईचारे का रास्ता दिखाया, हम सबके साथ सबके विश्वास से सबका विकास करना है. परिश्रम और शक्ति से आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करना है. अब देरी नहीं करनी है अब हमें आगे बढ़ना है. आज भारत के लिए भी भगवान राम का यही संदेश है. विश्वास है हम सब आगे बढ़ेंगे, देश आगे बढ़ेगा.

यह भी पढ़ेंः Ayodhya Ram Mandir: राम मंदिर के लिए भक्तों ने इतना सोना-चांदी दान किया कि ट्रस्ट ने जोड़ लिए हाथ

श्रीराम मंदिर मानवता का प्रेरक बनेगाः श्रीराम का मंदिर युगों-युगों तक मानवता को प्ररेणा देता रहेगा. मार्गदर्शन करता रहेगा. कोरोना की वजह से जैसे हालात है, वैसे में प्रभु राम की मर्यादा की और जरूरत है. दो गज की दूरी सभी के लिए जरूरी. राम-जानकी सभी को स्वस्थ सुखी रखे यही प्रार्थना है. इन्हीं शुभकामनाओं के साथ कोटि-कोटि बधाईयां.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 05 Aug 2020, 02:36:21 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.