News Nation Logo
शोपियां के द्रगाड इलाके में मुठभेड़ के दौरान दो अज्ञात आतंकवादी मारे गए। सर्च ऑपरेशन जारी बर्बाद फ़सलों का आकलन हो रहा है, डेढ़ महीने में किसानों को मुआवज़ा मिलने की उम्मीद है: सीएम, दिल्ली आर्यन खान पर फैसला आज दोपहर 2.45 पर आएगा बारिश से जिन किसानों की फसलें बर्बाद हुईं, उन्हें 50,000 रु./हे. मुआवज़ा दिया जाए: अरविंद केजरीवाल उत्तर प्रदेश: पीएम नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर में श्रीलंका के मंत्री नमल राजपक्षे से मुलाकात की यूपी में कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के उद्घाटन समारोह में आज 12 देशों के राजनयिक शामिल हुए मौसम खुल चुका है और चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है: उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार दुनिया में जहां-जहां भी बुद्ध के विचारों को आत्मसात किया गया, वहां प्रगति के रास्ते बने: पीएम मोदी उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है: पीएम मोदी कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा उनकी श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है: पीएम मोदी भारत विश्व भर के बौद्ध समाज की श्रद्धा, आस्था और प्रेरणा का केंद्र है: कुशीनगर में पीएम मोदी 50 से अधिक नए या ऐसे एयरपोर्ट जो पहले सेवा में नहीं थे, उन्हें चालू किया जा चुका है: पीएम मोदी CBI-CVS कांफ्रेंस में बोले पीएम मोदी-भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा नहीं हो सकता है लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी अहम सुनवाई. पंजाब में कांग्रेस का बढ़ा दलित प्रेम. राहुल गांधी आज दिखाएंगे शोभा यात्रा को हरी झंडी आज शाम उत्तराखंड जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लेंगे जायजा क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान को आज मिलेगी बेल या रहेंगे जेल में ही

नहीं सुधरेगा चीन, अब LAC पर बना रहा मॉड्यूलर आर्मी शेल्टर

अब चीन एक बार फिर वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से लगे इलाकों में अपनी नापाक साजिशों को मूर्त रूप दे रहा है.

Written By : नीतू कुमारी | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 27 Sep 2021, 02:19:40 PM
China

बाज नहीं आ रहा है चीन अपनी नापाक साजिशों से. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • एलएसी पर 8 जगहों पर किया चीन ने आर्मी शेल्टर का निर्माण
  • यानी निकट भविष्य में चीन नहीं हटाएगा अपने पीएलए सैनिक
  • भारत ने भी तैनात कर रखे हैं 50 हजार सैनिक और तोपखाना

नई दिल्ली:

बीते साल पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में हिंसा के बाद भारत (India) और चीन के बीच जारी तनाव पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है. यह तब है जब भारत-चीन (China) के बीच दर्जन भर सैन्य और कूटनीतिक स्तर की बातचीत हो चुकी है. इसकी एक वजह ड्रैगन का अड़ियल रवैया या बीच-बीच में की जाने वाली उकसावे वाली कार्रवाई है. अब चीन एक बार फिर वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से लगे इलाकों में अपनी नापाक साजिशों को मूर्त रूप दे रहा है. हालिया खुफिया रिपोर्ट से पता चला है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) पूर्वी लद्दाख के सामने एलएसी के साथ कम से कम 8 जगहों पर अपने सैनिकों के लिए नए मॉड्यूलर कंटेनर शेल्टर का निर्माण कर रहा है.

संकेत है कि चीन नहीं हटाने वाला पीएलए सैनिक
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह नए आर्मी शेल्टर उत्तर में काराकोरम दर्रे से लेकर वहाब ज़िल्गा, पियू, हॉट स्प्रिंग्स, चांग ला, ताशीगोंग, मांज़ा और चुरुप तक फैले हुए हैं. यह इलाका एलएसी के पास दक्षिण में आता है. इस घटनाक्रम से परिचित एक सूत्र के मुताबिक प्रत्येक शेल्टर में सात समूहों में 80 से 84 कंटेनर बनाए गए हैं. ये नए शेल्टर इस बात का संकेत हैं कि बीजिंग प्रशासन आने वाले समय में भी अग्रिम मोर्चे से अपने सैनिकों को हटाने की कोई मंशा नहीं रखता है. इसके पहले अप्रैल-मई में सैन्य गतिरोध के बाद चीन ने एलएसी के पास सैनिकों के लिए घरों का निर्माण किया था.

यह भी पढ़ेंः PM मोदी ने लांच किया आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन, जानें क्या होगा फायदा

भारत-चीन के 50 हजार सैनिकों का जमावड़ा
रिपोर्ट के मुताबिक भारत और चीन दोनों ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर होवित्जर, टैंक और सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल समेत 50 हजार सैनिकों की तैनाती की हुई है. दोनों देश तनाव कम करने के प्रयासों के बीच ऊंचाई वाले दुर्गम इलाकों में अपने सैनिकों की अदला-बदली कर तैनात कर रहे हैं. इसके अलावा भारत औऱ चीन ने एक-दूसरे पर परस्पर नजर रखने के लिए विमान और ड्रोन तैनात कर रखे हैं. गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच 3,488 किमी लंबे एलएसी पर कई जगहों पर विवाद है. ड्रैगन अरुणाचल को तिब्बत का हिस्सा बताकर अपना दावा करता है, जबकि भारत ने साफ कर दिया है कि एक इंच जमीन पर भी कोई घुसपैठ नहीं कर सकता. भारत और चीन के बीच पैंगोंग लेक के किनारे, गोगरा हाइट्स और हॉटस्प्रिंग इलाके का विवाद है. 

First Published : 27 Sep 2021, 02:16:19 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.