News Nation Logo

अशोक गहलोत के हाथ से निकल रही राजस्थान सरकार, पायलट समर्थक 24 विधायक होटल पहुंचे

ऐसा लग रहा है कि राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot) मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के हश्र को प्राप्त हो रही है. पार्टी के बीच जारी आंतरिक कलह के बीच गहलोत सरकार पर संकट बढ़ता जा रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 12 Jul 2020, 01:55:55 PM
Ashok Gehlot Sachin Pilot

सचिन पायलट भी ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरह बीजेपी का दामन थामेंगे.... (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • मध्य प्रदेश के कांग्रेसी सीएम कमलनाथ की गति को प्राप्त हो सकते हैं गहलोत.
  • सचिन पायलट के करीबी विधायक और मंत्री मानेसर के एक होटल में पहुंचे.
  • सचिन पायलट के बारे में चर्चा है कि वह बीजेपी के संपर्क में हैं.

नई दिल्ली:

ऐसा लग रहा है कि राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot) मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के हश्र को प्राप्त हो रही है. पार्टी के बीच जारी आंतरिक कलह के बीच गहलोत सरकार पर संकट बढ़ता जा रहा है. डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) से बढ़ती तनातनी के बीच अशोक गहलोत तीखे अंदाज में बीजेपी (BJP) पर सरकार गिराने का आरोप लगा चुके हैं. इस बीच कांग्रेस के 24 विधायक एक होटल में पहुंच गए हैं. मामले की नजाकत को देखते हुए अशोक गहलोत सरकार ने सूबे से लगती सभी राज्यों की सीमाओं को सील कर दिया है. ऊपरी तौर पर इसे बढ़ते कोरोना संक्रमण से उपजी जरूरत बताया जा रहा है, लेकिन अंदरूनी तौर पर यह सियासी घमासान के बीच उठाया गया एहतियाती कदम है.

यह भी पढ़ेंः उत्तरी कश्मीर के सोपोर में एनकाउंटर, सुरक्षाबलों ने 2-3 आतंकियों को घेरा

राज्य की सीमाएं की गईं सील
सियासी घमासान के बीच राजस्थान से लगती सभी राज्यों की सीमाएं एक बार फिर सील कर दी गई हैं. देर रात जारी गृह विभाग के आदेशों के मुताबिक अब राजस्थान से बाहर जाने के लिए सरकारी अनुमति जरूरी होगी. अन्य राज्यों से आने वालों की जांच बॉर्डर पर की जाएगी. हालांकि आदेश में इसकी वजह कोरोना के बढ़ते संक्रमण को बताया जा रहा है. सियासी गर्मी को देखते हुए कलेक्टरेट, थाने, रेलवे स्टेशन पर पास बनाने की सुविधा दी गई है. हालांकि इस बार ऑनलाइन पास बनवाने की सुविधा नहीं दी गई है.

यह भी पढ़ेंः दाऊद का सहयोगी पैरोल पर रिहा अपराधी अवैध हथियार के साथ गिरफ्तार

गहलोत-पायलट में खींचतान तेज
शनिवार को एक नाटकीय घटनाक्रम में सीएम अशोक गहलोत के बीजेपी पर सरकार गिराने के आरोप के बाद राज्य में सियासी गतिविधियां तेज हो गई हैं. देर शाम तक पार्टी के भीतर गहलोत के खिलाफ सुगबुगाहट होने लगी थी. सूत्रों की मानें तो सीएम गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच आपसी खींचतान तेज हो गई है. शुक्रवार से पायलट के दिल्ली में होने से इन चर्चाओं को और बल मिला है. शनिवार की रात हरियाणा के मानेसर में राजस्थान के 24 विधायक एक बड़े होटल में पहुंचे. यह कुछ वैसी ही स्थिति बनती दिख रही है, जैसे मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक तमाम विधायक पहले हरियाणा के गुड़गांव और फिर कर्नाटक में जाकर एक रिसोर्ट में ठहरे थे.

यह भी पढ़ेंः अमिताभ के साथ अभिषेक बच्चन भी निकले कोरोना पॉजिटिव, Tweet कर दी जानकारी

बीजेपी के संपर्क में हैं पायलट?
रोचक बात यह पता चली है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी यंग ब्रिगेड के अहम सदस्य रहे पायलट और सिंधिया दोनों आपस में बहुत अच्छे दोस्त हैं. तमाम चर्चाओं के बीच एक चर्चा यह भी है कि पायलट बीजेपी के संपर्क में हैं. सूत्रों के मुताबिक पार्टी की ओर से जब संपर्क करने की कोशिश की गई तो राजस्थान के कई विधायकों के फोन स्विच ऑफ मिले. पता चला है कि कांग्रेस महासचिव एवं राज्य के प्रभारी अविनाश पांडे भी शनिवार को जयपुर पहुंच चुके हैं.

यह भी पढ़ेंः  अजब-गजब : एक ही मंडप में एक दूल्‍हे ने दो दुल्‍हनों के साथ रचाई शादी

बैठक से पायलट और समर्थक मंत्री नदारद
तेजी से बदलते घटनाक्रम के बीच सीएम अशोक गहलोत ने देर रात अपने मंत्रियों की एक बैठक बुलाई जिसमें पायलट और उनके तमाम समर्थक मंत्री शामिल नहीं हुए. पायलट के लिए कहा जा रहा है कि दिल्ली में होने के चलते वह उस बैठक में शामिल नहीं हो पाए. हालांकि प्रदेश अध्यक्ष होने के बावजूद राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने पर पार्टी द्वारा उन्हें सीएम ने बनाए जाने पर पहले से ही नाराजगी चल रही है.

First Published : 12 Jul 2020, 07:41:13 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.