News Nation Logo

LAC पर चीन को दो टूक, टकराव वाली सभी जगहों से PLA के सैनिक पूरी तरह हटें

भारत ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर टकराव वाले सभी स्थानों से चीन को अपने सैनिकों को पीछे करने के लिए कहा है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 03 Aug 2020, 07:50:36 AM
LAC

5वें चरण की बातचीत में भारत अपने रुख पर अड़ा. पीछे हटें चीनी सैनिक. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में भारत और चीन के मध्य जारी तनाव के बीच रविवार को दोनों देशों के शीर्ष कमांडरों के बीच 5वें चरण की बातचीत हुई. सैन्य कमांडर स्तर की यह बातचीत करीब 11 घंटे तक चली. इस दौरान भारत ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर टकराव वाले सभी स्थानों से चीन को अपने सैनिकों को पीछे करने के लिए कहा है. तनाव कम करने के लिए दोनों देशों के बीच कूटनीतिक और सैन्य दोनों स्तर पर बातचीत की जा रही है।

यह भी पढ़ेंः रूस ने कैसे बना ली दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन, ये है इसके पीछे की वजह

सर्दियों के लिए तैयार है भारतीय सेना
अधिकारियों के मुताबिक, यह बैठक एलएसी पर चीन की तरफ मोलदो में पूर्वाह्न 11 बजे से शुरू हुई और रात 10 बजे तक जारी रही. दोनों पक्ष कूटनीतिक और सैन्य वार्ता में लगे हुए हैं. हालांकि, भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख के सभी प्रमुख क्षेत्रों में कड़ाके की सर्दियों के महीनों में सीमा रेखा पर अपनी मौजूदा ताकत बनाए रखने के लिए पर्याप्त तैयारी कर रही है. उन्होंने कहा कि बैठक के दौरान भारतीय पक्ष ने जल्द से जल्द चीनी सैनिकों को पूरी तरह हटाने पर जोर दिया और पूर्वी लद्दाख के सभी क्षेत्रों में 5 मई से पहले वाली स्थिति की तत्काल बहाली की बात कही, जब पैंगोंग सो में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के कारण सीमा पर तनाव उत्पन्न हो गया था.

यह भी पढ़ेंः सुशांत सिंह सुसाइड की जांच को मुंबई पहुंचे एसपी पटना को किया गया जबरन क्वारंटीन

11 घंटे तक चली बातचीत
भारतीय और चीनी सेना के शीर्ष कमांडरों के बीच रविवार को पांचवें चरण की बातचीत लगभग 11 घंटे तक चली. वार्ता की जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने कहा कि बातचीत के दौरान भारत ने पैंगोंग सो और पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास टकराव वाले सभी स्थानों से चीनी सैनिकों के जल्द से जल्द पूरी तरह पीछे हटने को लेकर जोर डाला. उन्होंने बताया कि यह बैठक एलएसी पर चीन की तरफ मोलदो में पूर्वाह्न 11 बजे से शुरू हुई और रात 10 बजे तक जारी रही. अधिकारियों ने कहा कि दोनों पक्ष कूटनीतिक और सैन्य वार्ता में लगे हुए हैं.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तान के इस न्यूज चैनल पर लहराता रहा तिरंगा, जाने क्या है पूरा मामला

सर्दियों के लिए दोनों ही पक्ष तैयार
हालांकि, भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख के सभी प्रमुख क्षेत्रों में कड़ाके की सर्दियों के महीनों में सीमा रेखा पर अपनी मौजूदा ताकत बनाए रखने के लिए पर्याप्त तैयारी कर रही है. उन्होंने कहा कि वार्ता के दौरान भारतीय पक्ष ने यथाशीघ्र चीनी सैनिकों को पूरी तरह हटाने पर जोर दिया और पूर्वी लद्दाख के सभी क्षेत्रों में पांच मई से पहले वाली स्थिति की तत्काल बहाली पर भी जोर दिया, जब पैंगोंग सो में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के कारण सीमा पर तनाव उत्पन्न हो गया था.

यह भी पढ़ेंः  शिवसेना ने वादे के अनुसार राम मंदिर राम निर्माण के लिये एक करोड़ रुपये दिये : अनिल देसाई

लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया भारत का नेतृत्व
रविवार को हुई बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित 14 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व दक्षिणी शिनजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर, मेजर जनरल लियू लिन ने किया. इससे पहले, कोर कमांडर स्तर की पिछली वार्ता 14 जुलाई को हुई थी, जो करीब 15 घंटे तक चली थी. बातचीत में, भारतीय पक्ष ने चीनी सेना (पीपुल्स लिबरेशन आर्मी) को 'बहुत स्पष्ट' संदेश दिया कि पूर्वी लद्दाख में पहले की स्थिति बरकरार रखी जाई और उसे इलाके में शांति बहाल करने के लिए सीमा प्रबंधन के संबंध में उन सभी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा, जिन पर परस्पर सहमति बनी है.

यह भी पढ़ेंः 'आडवाणी, जोशी को राम मंदिर ट्रस्ट ने भेजा भूमि पूजन का आमंत्रण'

फिंगर-4 और फिंगर-8 बना है रोड़ा
वार्ता के बाद, सेना ने कहा कि दोनों पक्ष सैनिकों के “पूरी तरह से पीछे हटने” को लेकर प्रतिबद्ध हैं. साथ ही कहा था कि प्रक्रिया 'जटिल' है और इसके 'लगातार प्रमाणीकरण' की जरूरत होगी. सूत्रों ने कहा कि चीनी सेना गलवान घाटी और टकराव वाले कुछ अन्य स्थानों से पहले ही पीछे हट चुकी है, लेकिन भारत की मांग के अनुसार पैंगोंग सो में फिंगर इलाकों से सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया अभी शुरू नहीं हुई है. भारत इस बात पर जोर देता आ रहा है कि चीन को फिंगर-4 और फिंगर-8 के बीच वाले इलाकों से अपने सैनिकों को वापस बुलाना चाहिए. दोनों पक्षों के बीच 24 जुलाई को, सीमा मुद्दे पर एक और चरण की कूटनीतिक वार्ता हुई थी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 03 Aug 2020, 07:50:36 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.