News Nation Logo

अयोध्या में भूमिपूजन के बाद मुस्लिम संगठन ने दी धमकी- मंदिर गिराकर बनाएंगे मस्जिद

अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन के बाद मुस्लिम संगठन और धर्मगुरुओं की जुबान जहर उगलने लगी है. ऑल इंडिया इमाम एसोसिएशन ने मंदिर के भूमिपूजन के एक दिन बाद भड़काऊ बयान दिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 06 Aug 2020, 02:35:33 PM
Sajid Rashidi

मुस्लिम संगठन ने दी धमकी- राम मंदिर गिराकर बनाएंगे मस्जिद (Photo Credit: ANI)

लखनऊ:

अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन के बाद मुस्लिम संगठन और धर्मगुरुओं की जुबान जहर उगलने लगी है. ऑल इंडिया इमाम एसोसिएशन ने मंदिर के भूमिपूजन के एक दिन बाद भड़काऊ बयान दिया है. एसोसिएशन ने तो राम मंदिर को गिराने की धमकी तक दे डाली है. एसोसिएशन के अध्यक्ष साजिद रशीदी का कहना है कि राम मंदिर को तोड़कर वहां मस्जिद बनाई जाएगी. इतना ही नहीं, रशीदी ने नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा और कहा कि प्रधानमंत्री ने राम मंदिर के भूमि पूजन में जाकर संविधान का उल्लघंन किया है.

यह भी पढ़ें: बाबरी मस्जिद पर ट्वीट कर फंसे ओवैसी, दिल्ली में शिकायत दर्ज

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, साजिद रशीदी ने कहा, 'इस्लाम कहता है कि मस्जिद हमेशा मस्जिद ही रहेगी. कुछ और निर्माण करने के लिए मस्जिद को तोड़ा नहीं जा सकता. हमारा मानना है कि बाबरी मस्जिद वहां थी और वह हमेशा मस्जिद के रूप में वहां रहेगी.' रशीदी ने आगे कहा, 'मंदिर को गिराने के बाद मस्जिद का निर्माण नहीं किया गया था, लेकिन अब मस्जिद बनाने के लिए मंदिर को ध्वस्त कर दिया जाएगा.'

यह भी पढ़ें: राम मंदिर पर बयान देकर प्रियंका गांधी ने मोल ली आफत, सहयोगी हुए नाराज

इससे पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने कहा कि बाबरी मस्जिद थी और वह हमेशा रहेगी, क्योंकि एक बार जब कोई मस्जिद एक जगह पर स्थापित हो जाती है, तो वह अनंत काल तक रहती है. एआईएमपीएलबी ने अपने एक बयान में कहा कि हम वही कह रहे हैं जो शरीयत कहता है. बोर्ड की ओर से कहा गया, 'बाबरी मस्जिद पहले भी एक मस्जिद थी, आज भी मस्जिद है और हमेशा मस्जिद रहेगी.'

यह भी पढ़ें: सिर्फ देश ही नहीं विदेशी मीडिया भी हुआ राममय, देखें विदेशी मीडिया ने की कैसी कवरेज

बयान में आगे कहा गया, 'मस्जिद थी और हमेशा मस्जिद रहेगी. हागिया सोफिया हमारे लिए एक महान उदाहरण है. एक अन्यायपूर्ण, दमनकारी, शर्मनाक और बहुसंख्यक तुष्टिकरण फैसले द्वारा भूमि का रद्दीकरण इसकी स्थिति को बदला नहीं जा सकता है. दिल तोड़ने की जरूरत नहीं है. परिस्थिति हमेशा एक सी नहीं रहती है. यह राजनीति है.'

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 06 Aug 2020, 02:35:33 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.