News Nation Logo

यूपी में 1 दिन के लिए 9 लड़कियां बनीं अधिकारी

सुनैना मिश्रा को एसडीएम के रूप में सर्विस करने का मौका मिला. सर्कल ऑफिसर के रूप में नैंसी गुप्ता, तहसीलदार के रूप में दीक्षा अहिरवार, कृषि अधिकारी के रूप में वंशिका, शिक्षा अधिकारी के रूप में कृतिका, एसएचओ के रूप में काम करेंगी.

IANS | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 26 Oct 2020, 02:15:27 PM
9 Girls Became Officers for 1 Day in UP

1 दिन के लिए 9 लड़कियां बनीं अधिकारी (Photo Credit: IANS)

झांसी:

बोर्ड परीक्षा में टॉप करने वाली नौ मेधावी छात्राओं को एक दिन के लिए झांसी जिले के विभिन्न विभागों का शीर्ष प्रशासनिक अधिकारी बनाया गया. नवरात्र पर्व में माता के नौ अवतार के प्रतीक स्वरूप इन लड़कियों को अधिकारी बनाया गया. ऐसा महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए उत्तर प्रदेश में चल रहे 'मिशन शक्ति' कार्यक्रम के हिस्से के रूप में किया गया. मौरानीपुर तहसील में शनिवार को यह कार्यक्रम आयोजित हुआ.

यह भी पढ़ें : सीएम केजरीवाल के घर धरने पर बैठे दिल्ली के तीनों मेयर

सुनैना मिश्रा को एसडीएम के रूप में सर्विस करने का मौका मिला. सर्कल ऑफिसर के रूप में नैंसी गुप्ता, तहसीलदार के रूप में दीक्षा अहिरवार, कृषि अधिकारी के रूप में वंशिका, शिक्षा अधिकारी के रूप में कृतिका, एसएचओ के रूप में कुमकुम, बीडीओ के रूप में अंजलि गुप्ता, सीएचसी प्रमुख के रूप में आशी गुप्ता और ईओ के रूप में कंचन अग्रवाल को प्रभार मिला.

यह भी पढ़ें : महबूबा मुफ्ती के बयान से खफा BJP ने PDP ऑफिस पर फहराया तिरंगा

सभी नौ लड़कियों को शनिवार की सुबह, आधिकारिक वाहनों में उनके घर से उनके कार्यालयों में लाया गया और एक दिन के लिए अधिकारियों के रूप में सेवा करने का अवसर दिया गया. उन्होंने उन अधिकारियों के मार्गदर्शन में पूरे दिन के लिए अपने आधिकारिक कर्तव्यों का निर्वहन किया जो उनकी मदद के लिए मौजूद थे. लड़कियों ने आदेश पारित किए और निर्देशों के साथ संबंधित विभागों को शिकायतकर्ताओं के आवेदन मार्क किए. सुनैना, जो एसडीएम के रूप में सेवा कर रही थीं, ने बाद में पत्रकारों को बताया कि वह उत्साहित थीं और ड्यूटी को संभालने के लिए रोमांचित थीं.

यह भी पढ़ें :  चीन और पाक से युद्ध के लिए पीएम ने चुन ली है तारीख : स्वतंत्र देव सिंह

सुनैना 12वीं कक्षा में दूसरे स्थान पर रहीं और नीट की तैयारी कर रही हैं और एसडीएम के रूप में सेवा देने के अपने अनुभव के बाद, उन्होंने कहा कि वह अब एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद सिविल सेवा परीक्षा जरूर देंगी. नैंसी गुप्ता, जो सर्कल अधिकारी (सीओ) बनी थीं, ने बीएससी के लिए दाखिला लिया है और डॉक्टरेट करने का लक्ष्य रखा है. मौरानीपुर के एसडीएम अंकुर श्रीवास्तव, जिनका इसके पीछे हाथ रहा, ने कहा कि यह प्रयोग संतुष्टिदायक रहा. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह बच्चों को उनके लक्ष्य हासिल करने के लिए प्रेरित करेगा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 26 Oct 2020, 02:15:27 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.