News Nation Logo

कांग्रेस के बाद अब राजस्थान BJP में मचा जबरदस्त घमासान, पढ़ें पूरी खबर

पूर्व सीएम वसुंधरा राजे और उनके अनुयायियों की कल्पना की उड़ान अचानक उतरती दिख रही है क्योंकि भगवा ब्रिगेड का केंद्रीय नेतृत्व रेगिस्तानी राज्य में उनके खेमे के पंख काटने में व्यस्त है. राजस्थान बीजेपी में सियासी हलचल मची है.

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 26 Jun 2021, 11:19:21 PM
vasundhara raje

वसुंधरा राजे (Photo Credit: फाइल)

highlights

  • कांग्रेस के बाद राजस्थान बीजेपी में घमासान
  • पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को पर कतरने की कोशिश
  • पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा को पार्टी के खिलाफ बोलने के लिए नोटिस

जयपुर:

पूर्व सीएम वसुंधरा राजे और उनके अनुयायियों की कल्पना की उड़ान अचानक उतरती दिख रही है क्योंकि भगवा ब्रिगेड का केंद्रीय नेतृत्व रेगिस्तानी राज्य में उनके खेमे के पंख काटने में व्यस्त है. कहानी तीन राज्यों में उपचुनाव प्रचार के दौरान उनके पोस्टर हटाने के साथ शुरू हुई, तब उनके पोस्टर राज्य पार्टी मुख्यालय से हटा दिए गए थे. हाल ही में उनके खेमे के एक पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा को पार्टी के कामकाज के खिलाफ बोलने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था. उन्हें 15 दिन में जवाब देने की चेतावनी दी गई है अन्यथा उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी.

आरएसएस के नेता सतीश पूनिया को बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के बाद से राजे महीनों से पार्टी मुख्यालय से दूरी बनाए हुई हैं. तब से, उनके खेमे के पार्टी कार्यकर्ता पार्टी के खिलाफ बोल रहे थे और राज्य भाजपा संगठन के समानांतर इकाई चला रहे थे. हाल ही में, इस खेमे ने दावा किया कि राजस्थान में राजे बीजेपी है और बीजेपी राजे है. यह बयान राज्य के पार्टी नेताओं को रास नहीं आया और फिर दोतरफा युद्ध शुरू हो गया.

पूनिया और विपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया ने पलटवार करते हुए कहा कि कोई भी नेता पार्टी से ऊंचा नहीं होता और पार्टी का अनुशासन पहले आता है. हालांकि, राजे के अनुयायी नहीं रुके और लगातार हमला करते रहे, जिसके कारण केंद्रीय नेताओं को हस्तक्षेप करने के लिए जयपुर जाना पड़ा. प्रदेश पार्टी प्रभारी अरुण सिंह ने जयपुर आकर बागी नेताओं को पार्टी अनुशासन का पालन करने या संगीत का सामना करने के लिए तैयार रहने की खुलेआम चेतावनी दी.

यह भी पढ़ेंःLAC पर चीन के खिलाफ सैन्य तैयारियों का जायजा लेंगे रक्षामंत्री राजनाथ

उन्होंने कहा, पार्टी के नेताओं को अनुशासन में रहना चाहिए और एक बयान जारी करने से पहले दो बार सोचना चाहिए कि क्या इससे पार्टी को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी या उसकी संभावनाओं में सेंध लगेगी. सभी पार्टी कार्यकर्ताओं को पार्टी के संवैधानिक मानदंडों का पालन करना चाहिए और अनुशासन में रहना चाहिए या अन्यथा उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी. इस चेतावनी के तुरंत बाद प्रदेश पार्टी नेतृत्व ने राजे खेमे से भाजपा के वरिष्ठ नेता रोहिताश्व शर्मा को कारण बताओ नोटिस जारी किया. शर्मा ने अलवर में हुई एक बैठक में मीडिया से कहा था कि भाजपा कार्यकर्ता जमीन पर काम नहीं कर रहे हैं, बल्कि अपने कार्यालयों तक सीमित हैं, जिसके कारण वह दो उपचुनाव हार गई.

यह भी पढ़ेंःकथावाचक बनकर बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय फिर सुर्खियों में छाए

हालांकि, पूनिया ने उनके दावे का खंडन किया और कहा, कोविड महामारी के दौरान भाजपा के 600 कार्यकर्ताओं ने जमीन पर काम करते हुए अपनी जान गंवाई. इस तरह के बयान उन कार्यकर्ताओं के प्रति अनादर दिखाते हैं जिन्होंने जमीन पर अपना बलिदान दिया. इस बीच शर्मा ने पार्टी के अनुशासन का पालन नहीं किया और दावा किया कि राजे उनकी नेता हैं और पार्टी उनकी मां है और कोई भी उनकी मां से बेटे को अलग नहीं कर सकता है. उन्होंने कहा कि मैं दिल्ली में अपनी लड़ाई लड़ूंगा और भूख हड़ताल करूंगा. दोनों ओर से घमासान में कोई कमी नहीं दिख रही, लेकिन पार्टी ने फिर से चेतावनी दी है कि पार्टी लाइन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ और कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ेंः21 वर्षीय साली को जीजा ने बनाया अपनी हवस का शिकार, पत्नी ने दिया पति का साथ

उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण ने शिशुपाल की 99 गलतियों को माफ कर दिया लेकिन उनकी 100वीं गलती को माफ नहीं किया गया, इसलिए यहां भी 100वीं गलती माफ नहीं की जाएगी. इस बीच, राज्य में जिस बात ने हंगामा खड़ा कर दिया है, वह है अरुण सिंह का यह बयान कि संसदीय बोर्ड सीएम के चेहरे पर फैसला लेगा. राजे के अनुयायी महीनों से सोशल मीडिया पर उन्हें 2023 के चुनावों के लिए मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने की मांग कर रहे हैं. हालांकि, पार्टी कार्यकर्ताओं ने मीडिया को बताया, राजे और उनके अनुयायी सफेद हाथियों की तरह हैं, जो कुछ भी योगदान नहीं दे रहे हैं, लेकिन पार्टी की संभावनाओं को सेंध लगा रहे हैं, इसलिए उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई जरूरी है.

यह भी पढ़ेंःVIDEO:श्रीनगर के बारबार शाह में CRPF पार्टी पर ग्रेनेड हमला, 3 नागरिक घायल

राष्ट्रीय भाजपा उपाध्यक्ष के रूप में राजे पार्टी में क्या योगदान दे रही हैं, उन्होंने कहा, यह आश्चर्य की बात है कि पार्टी ने उन्हें अपने कर्तव्यों को निभाने से मुक्त कर दिया है. ऐसे मामलों में, उनके जैसे वरिष्ठ नेताओं को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए और यह सुनिश्चित करने के लिए पहल करना शुरू करना चाहिए. वे अपनी उपस्थिति दर्ज कराते रहते हैं. जो ऐसा नहीं करते वे गुमनामी में चले जाते हैं, यही राजनीति का नियम है. तो क्या बागी नेताओं के खिलाफ और कार्रवाई हो रही है और क्या उनके पंख और भी काटे जाएंगे? इस पर पूनिया ने मीडिया से बातचीत में बताया कि रुको और देखो.

First Published : 26 Jun 2021, 11:09:51 PM

For all the Latest States News, Rajasthan News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो