News Nation Logo
Banner

इशांत शर्मा कम करते थे एमएस धोनी से बात, लेकिन 2013 के बाद....

इशांत शर्मा ने कहा कि उस दौरान उन्होंने एमएस धोनी से ज्यादा बातें कीं और इसी दौरान उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी के शांत स्वाभाव को समझा और जाना कि वह युवाओं के साथ कैसे पेश आते हैं.

By : Pankaj Mishra | Updated on: 04 Jul 2020, 10:16:00 AM
dhoni ishant

एमएस धोनी और इशांत शर्मा (Photo Credit: gettyimages)

New Delhi:

तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने कहा है कि वह सही मायने में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) को 2013 के बाद से अच्छे से समझ सके. इशांत शर्मा  (Ishant Sharma) ने कहा कि उस दौरान उन्होंने एमएस धोनी (MS Dhoni) से ज्यादा बातें कीं और इसी दौरान उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी के शांत स्वाभाव को समझा और जाना कि वह युवाओं के साथ कैसे पेश आते हैं. इशांत शर्मा ने स्टार स्पोर्ट्स के शो पर कहा कि शुरुआत में धोनी के साथ मेरी बातचीत कम थी, लेकिन 2013 के बाद मैंने उनसे बात करना और उन्हें समझना शुरू किया. 

यह भी पढ़ें ः आईपीएल में खेलना चाहते है श्रीसंत, इन टीमों का लिया नाम

इशांत शर्मा ने कहा कि तब मुझे पता चला कि वो कितने शांत हैं और वह कितने अच्छे से युवाओं से बात करते हैं, कैसे उनसे पेश आते हैं. वह मैदान पर भी ऐसे ही होते हैं. उन्होंने हमसे कभी भी कमरे में आने को मना नहीं किया. आप मोहम्मद शमी से पूछ सकते हैं, वे धोनी के कमरे में ज्यादा जाते हैं. वह हमेशा से ऐसे रहे हैं. इशांत ने अपने करियर की अधिकतर क्रिकेट धोनी के मार्गदर्शन में खेली है. उन्होंने 2016 में अपना आखिरी वनडे और 2013 में अपना आखिरी टी-20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेला था लेकिन वह भारत की टेस्ट टीम का अभिन्न हिस्सा हैं.

यह भी पढ़ें ः विश्व कप 2019 के समय डरी थी पाकिस्‍तानी टीम, पूर्व कप्‍तान ने किया खुलासा

इसी के साथ ही चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने भी कहा है कि मैदान पर एमएस धोनी की कमी उन्हें खलती है जो विकेट के पीछे से काफी मददगार साबित होते थे. महेंद्र सिंह धोनी से मैदान पर काफी बारीकियां सीखने वाले भारतीय लेग स्पिनर कुलदीप यादव को उनकी कमी खलती है और उनका मानना है कि विकेट के पीछे पूर्व कप्तान के रहने से उनके जैसे गेंदबाजों को काफी मदद मिलती थी. कुलदीप यादव ने कहा कि मैंने जब कैरियर की शुरूआत की तो मैं पिच को भांप नहीं पाता था. एमएस धोनी के साथ खेलने के बाद मैंने वह सीखा. वह बताते थे कि गेंद को कहां स्पिन कराना है. वह फील्ड जमाने में भी माहिर थे. उन्हें पता होता था कि बल्लेबाज कहां शॉट खेलेगा और उसी के हिसाब से फील्ड लगाते थे. कुलदीप यादव ने कहा कि इससे मुझे अधिक आत्मविश्वास के साथ गेंदबाजी में मदद मिली. जब से वह वनडे क्रिकेट नहीं खेल रहे हैं, यह भी चला गया. 

यह भी पढ़ें ः एमएस धोनी के टीम में न होने से इस गेंदबाज को हुआ भारी नुकसान, जानिए क्‍यों

आपको बता दें कि टीम इंडिया के पूर्व कप्‍तान एमएस धोनी ने पिछले साल विश्व कप के बाद से क्रिकेट नहीं खेला है. इसी साल के आईपीएल के जरिये उनकी क्रिकेट के मैदान में वापसी के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण आईपीएल स्थगित हो गया है. अभी पिछले तीन महीने छोड़ दें तो टीम इंडिया ने लगातार अपने देश और विदेशी जमीन पर मैच खेले, लेकिन टीम को कहीं न कही एमएस धोनी की कमी जरूर खलती रही, समय समय पर टीम के कई बड़े खिलाड़ी इसका जिक्र भी करते रहे हैं.

(एजेंसी इनपुट)

First Published : 04 Jul 2020, 10:12:20 AM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो