News Nation Logo

स्‍पिन पिच पर बल्‍लेबाजों को रखना चाहिए इसका ध्‍यान, जानिए दिलीप वेंगसरकर ने क्‍या कहा 

पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर करीब तीन दशकों तक इंग्लैंड के खिलाफ उनकी ही पिच लॉडर्स पर हावी रहने के अलावा घर में भी स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ एक मास्टर बल्लेबाज थे.

IANS | Updated on: 01 Mar 2021, 08:20:25 AM
Dilip Vengsarkar

Dilip Vengsarkar (Photo Credit: IANS)

अहमदाबाद :

पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर करीब तीन दशकों तक इंग्लैंड के खिलाफ उनकी ही पिच लॉडर्स पर हावी रहने के अलावा घर में भी स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ एक मास्टर बल्लेबाज थे. कटक के विकेट पर श्रीलंका के खिलाफ उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ 166 रनों पारी एक ऐसी पारी है, जो उनकी क्षमता को बयां करता है. भारत और इंग्लैंड के बीच दूसरे और तीसरे टेस्ट के लिए चेन्नई और अहमदाबाद में बल्लेबाज स्पिन-अनुकूल पिचों पर बल्लेबाज परेशानियों का सामना कर रहे हैं. भारत के लिए 115 टेस्ट मैच खेलने वाले दिलीप वेंगसरकर ने ऐसे तरीके बताए, जिससे कि ऐसी पिचों पर स्पिनरों का सामना किया जा सके.

यह भी पढ़ें : मोटेरा के नरेंद्र मोदी स्‍टेडियम की पिच पर नाथन लियोन ने कही ये बड़ी बात 

भारत ने मुश्किल विकेट पर आखिरी दो टेस्ट जीते हैं और दिलीप वेंगसरकर का कहना है कि ऐसी पिचों पर बल्लेबाजी करते समय बल्लेबाजों को कई बातों का ध्यान रखना चाहिए. उन्होंने कहा कि भारत के लिए फायदा यह था कि हम अच्‍छे स्पिनरों के खिलाफ स्थानीय क्रिकेट और घरेलू क्रिकेट खेलने के आदी हैं. जिससे हमें काफी मदद मिली. आम तौर पर आप देखते हैं कि जब गेंद सीम कर रही है या टर्न हो रही है, तो आपको रनों के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी. जब गेंद घूम रही होती है, तो किसी को बहुत देर तक खेलना चाहिए. इसके अलावा, आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि डिफेंस करने के लिए आपका बल्ला पहली लाइन में होना चाहिए.

यह भी पढ़ें : ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ी हेड कोच से नाखुश, जस्‍टिन लेंगर ने कही ये बात 

रविचंद्रन अश्विन के खिलाफ बल्लेबाजी करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इस पर दिलीप वेंगसरकर ने कहा कि सबसे पहली और महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको यह देखना होगा कि आप किस तरह के विकेट पर बल्लेबाजी कर रहे हैं और फिर उसी के अनुसार आप परिस्थितियों के अनुसार ढलते हैं. अश्विन टॉप क्लास के स्पिनर हैं. इसलिए जब आप टॉप क्लास स्पिनर की भूमिका निभा रहे होते हैं, तो आप जानते हैं कि वह किसी चीज पर निर्भर होगा. उन्हें अपनी आस्तीन पर कुछ और विविधता मिली है, इसलिए आपको यह अनुमान लगाना होगा कि वह आगे क्या करने वाले हैं. यह बहुत महत्वपूर्ण है. यह सब विकेट और मैच की स्थिति पर निर्भर करता है. आप यह नहीं कह सकते कि मैं इस तरह या उस तरह से बल्लेबाजी करूंगा, आपको तब और वहां सुधार करना होगा.

यह भी पढ़ें : ICC Test Ranking : रोहित शर्मा ने लगाई लंबी छलांग, जानिए किस नंबर पर पहुंचे 

दिलीप वेंगसरकर को लॉडर्स मैदान से काफी लगाव था. वह लॉडर्स में तीन टेस्ट शतक लगाने वाले एकमात्र बल्लेबाज हैं. यह पूछे जाने पर कि ये कैसे संभव हुआ तो उन्होंने कहा कि उन दिनों इंग्लैंड का दौरा करते समय, हम काउंटी टीमों के खिलाफ अधिक मैच खेलते थे, यानी टेस्ट क्रिकेट के बाहर के मैच. इससे हमें विशेषकर इंग्लैंड में परिस्थितियों के अनुकूल होने में मदद मिली. एक बार जब आप परिस्थितियों के अनुकूल हो जाते हैं, तो आप बीच में अधिक समय बिता सकते हैं और रन बना सकते हैं, ताकि आपको आत्मविश्वास मिले. इसने मुझे आत्मविश्वास दिया.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 01 Mar 2021, 08:20:25 AM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.