News Nation Logo
Banner

अब गर्मियों में बर्फ पिघल जाएगी लेकिन आइसक्रीम नहीं, जानिए कैसे

बच्चों और बड़ों दोनों को ही आइसक्रीम बेहद पसंद होती है. साथ ही ये हर मौसम में खाई जाने वाली चीज है. सर्दी हो या गर्मी, आइसक्रीम खाना सबको पसंद आता है. लेकिन, जहां ये सर्दियों में पिघलती नहीं है. वहीं गर्मियों में ये हाथ में लेते ही पानी हो जाती है.

News Nation Bureau | Edited By : Megha Jain | Updated on: 11 Sep 2021, 11:12:35 AM
Icecream

Icecream (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

बच्चों और बड़ों दोनों को ही आइसक्रीम बेहद पसंद होती है. साथ ही ये हर मौसम में खाई जाने वाली चीज है. सर्दी हो या गर्मी, आइसक्रीम खाना सबको पसंद आता है. लेकिन, जहां ये सर्दियों में पिघलती नहीं है. वहीं गर्मियों में ये हाथ में लेते ही पानी हो जाती है. जिससे खाने वाले का मू़ड थोड़ी देर में ही खराब हो जाता है. लेकिन, अब आपको अपना मूड खराब करने की जरूरत नहीं है क्योंकि आज हम आपके लिए एक ऐसी टेकनीक लेकर आए हैं. जिससे आपकी आइसक्रीम (Icecream) जल्दी नहीं पिघलेगी और आपका टेस्ट भी खराब नहीं होगा. क्योंकि अब गर्मियों में भी आइसक्रीम ना पिघलने का सीक्रेट साइनटिस्ट (scientist) ने पता लगा लिया है. जो आज हम आपको भी बताएंगे.

यह भी पढ़े : अगर दिखना है खूबसूरत और जवान, इस पोजीशन में सोएं जनाब

आइसक्रीम जल्दी ना पिघले इस पर कोलंबिया यूनिवर्सिटी (colambia university) के कनाडियन (canadian) रीसरचर्स (researhers) ने एक ऐसा तरीका ढूंढा है. जिससे आइसक्रीम धीरे-धीरे मेल्‍ट होगी. रीसरचर्स (researhers) ने रीसर्च के दौरान ये रीपोर्ट जारी कि है कि केले के पेड़ में पाया जाने वालर सेलूलोज फाइबर (cellulose fiber) आइसक्रीम (ice-cream) को पिघलने से रोक सकता है. इतना ही नहीं, ये आइसक्रीम को लंबे समय तक खराब होने से भी बचाता है. इस फाइबर से अब आइसक्रीम की क्रीम और बनावट को पहले से भी बेहतर किया जा सकता है.

रीसरचर्स का मानना है कि केले के पेड़ से निकलने वाला सेल्युलोज, नैनो फाइबर्स (nano fibers) बेकार जाता है. इस फाइबर का इस्तेमाल आइसक्रीम को बेहतर बनाने में मदद कर सकता हैं. इस फाइबर को खासतौर से मोटी लेयर और ज्यादा टेस्टी आइसक्रीम बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. जिससे आइसक्रीम लंबे टाइम तक नहीं पिघलेगी. इससे लोग आराम से लंबे टाइम तक आइसक्रीम का मजा लेते हुए इसे खा सकते हैं. यहां तक की गर्मियों में भी आइसक्रीम का मजा लंबे टाइम तक लिया जा सकेगा.

यह भी पढ़े : वजन घटाने (Weight loss) में ओअट्स या दलिया (Oats or Daliya), जानें कौन है बेहतर

वैसे तो इसकी रीसर्च काफी टाइम से की जा रही थी, कि आइसक्रीम को तेजी से पिघलने से कैसे रोके जाए. तो, इसके लिए रीसरचर्स ने पेड़ के तने के तने से सेलूलोज़ (cellulose) और स्ट्रॉबेरी (stawberry) से पॉलीफेनॉल कंपाउंड (polyfenol compound) निकाल कर इस्तेमाल किया. बता दें, केले के पेड़ से निकलने वाला सेलूलोज़ फाइबर इंसानों के बालों से भी हजार गुना पतला होता है. इसीलिए इसे आसानी से आइक्रीम में मिलाया जा सकता है. 

यह भी पढ़े : डायबिटीज (diabetes) और शुगर क्रेविंग (sugar craving) को करें दूर, बस खाएं इसे भरपूर

रीसरचर्स ने ये भी पाया है कि आइसक्रीम में फाइबर मिलाने से आइसक्रीम का पिघलना पहले के मुकाबले कम हो चुका है. रीसर्च में ये भी पाया गया कि सेलूलोज फाइबर से ठंडे और गर्म मौसम के हिसाब से आइसक्रीम के खराब होने के चांसिज भी कम हो गए हैं. इसके अलावा ये आइसक्रीम लो फैट (low fat) और ज्यादा क्रीमी (creamy) भी हो गई है. साथ ही इसकी शेप में भी बदलाव आ गया है. हालांकि रीसरचर्स इस पर और ज्यादा काम करते हुए आइसक्रीम में मौजूद फैट को कम करने पर काम कर रहे हैं.

First Published : 11 Sep 2021, 11:12:35 AM

For all the Latest Lifestyle News, Others News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.