logo-image
लोकसभा चुनाव

भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद का देश के लिए क्या योगदान है?

Dr. Rajendra Prasad: देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने राष्ट्रीय सुरक्षा, शिक्षा, और सांस्कृतिक विकास के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कदम उठाए.

Updated on: 15 Jan 2024, 02:00 PM

नई दिल्ली:

Dr. Rajendra Prasad: डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, भारतीय राजनीतिक और स्वतंत्रता सेनानी, भारत के पहले राष्ट्रपति थे. उनका जन्म 3 दिसम्बर 1884 को बिहार के जीरादाई में हुआ था. उन्होंने अपनी शिक्षा को वाराणसी और कोलकाता के कई स्थानों से पूरा किया और विश्वविद्यालय ऑफ डब्ल्यू आईस्ट इंडिया से कानून में स्नातक की डिग्री प्राप्त की. डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने स्वतंत्रता संग्राम में भी अपना योगदान दिया और उन्होंने महात्मा गांधी के साथ मिलकर भारत को स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए संघर्ष किया. 1950 में, भारत को गणराज्य घोषित होने पर, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में चुना गया.

ये भी पढ़ें: Republic Day 2024 : तिरंगे का हर अंग देता है संदेश, हर भारतीय के लिए जानना है जरूरी

उन्होंने राष्ट्रपति के पद की कड़ी मेहनत, ईमानदारी, और नेतृत्व के साथ निभाया. उनके कार्यकाल में, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने राष्ट्रीय सुरक्षा, शिक्षा, और सांस्कृतिक विकास के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कदम उठाए. उन्होंने धरोहर संरक्षण का महत्वपूर्ण दिया और राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्रहण के हीरों के स्मारकों की रचना के लिए पहल की. उनकी महत्वपूर्ण भूमिका में, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने देश को समृद्धि और स्वराज्य की दिशा में मार्गदर्शन किया और उनका योगदान भारतीय इतिहास में अमूर्त्य है. उनका आत्मप्रशासन, सेवाभाव, और सार्थक योगदान आज भी याद किया जाता है.

धरोहर प्रबंधन

राष्ट्रपति पद पर रहते हुए, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने देश की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक धरोहरों का संरक्षण करने के लिए कई पहल की.

ये भी पढ़ें: चंडीगढ़ में AAP-कांग्रेस के बीच करार!, चुनाव में उतरेगा गठबंधन का मेयर

निर्माण कार्यक्रमों का समर्थन

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने देश के विकास के लिए निर्माण कार्यक्रमों का पूरा समर्थन किया.

राष्ट्रीय सुरक्षा

उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने के लिए सैन्य और सुरक्षा के क्षेत्र में कई पहलुओं का ध्यान रखा.

राजनीतिक समर्थन

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने देश के राजनीतिक संस्थाओं को मजबूती प्रदान करने के लिए अपने सामर्थ्य का प्रदर्शन किया और देश में राजनीतिक स्थिति को स्थिर किया.

ये भी पढ़ें: Makar Sankranti: पीएम मोदी ने देशवासियों को दी मकर संक्रांति की शुभकामनाएं

शिक्षा क्षेत्र में समर्थन

उन्होंने शिक्षा को मजबूती प्रदान करने के लिए कई पहलुओं का समर्थन किया और विभिन्न शिक्षा कार्यक्रमों की शुरुआत की.

निरस्त्रीकरण और ग्रामीण विकास

उन्होंने देश के निरस्त्रीकरण और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में कई योजनाएं आरंभ की और ग्रामीण क्षेत्रों को विकसित करने के लिए कई पहलुओं का समर्थन किया.

सामाजिक न्याय और समर्थन

उन्होंने सामाजिक न्याय को मजबूत करने के लिए भी कई कदम उठाए और न्यायिक प्रणाली में सुधार करने का प्रयास किया.

इन सभी कदमों के माध्यम से डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने देश को समृद्धि, विकास, और समृद्धि की दिशा में आगे बढ़ाने का प्रयास किया और उनका योगदान भारतीय समाज के लिए महत्वपूर्ण रहा है.

ये भी पढ़ें: Ram Mandir Photos: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए तैयार हुआ गर्भगृह, सामने आईं राम मंदिर की नई तस्वीरें