News Nation Logo

BREAKING

Banner

दिल्ली हिंसाः कुछ बड़ा करना चाहता था ताहिर हुसैन, तो हिंसा ही भड़का दी

फंसाए जाने का आरोप लगा रहे आम आदमी पार्टी (AAP) के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) ने अंततः दिल्ली को दंगे (Delhi Violence) की आग में झोंकने में अपनी भूमिका स्वीकार कर ली है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 03 Aug 2020, 11:44:08 AM
Tahir Hussain

ताहिर हुसैन ने दिल्ली दंगों में अपनी भूमिका कबूली. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

अपनी गिरफ्तारी तक निर्दोष होने और फंसाए जाने का आरोप लगा रहे आम आदमी पार्टी (AAP) के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) ने अंततः दिल्ली को दंगे (Delhi Violence) की आग में झोंकने में अपनी भूमिका स्वीकार कर ली है. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध-प्रदर्शन के नाम पर उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुई हिंसा न सिर्फ सुनियोजित थी, बल्कि इसके लिए लोगों को उकसाया गया. यही नहीं, दिल्ली पुलिस से पूछताछ में ताहिर हुसैन ने जेएनयू (JNU) के पूर्व छात्र उमर खालिद (Umar Khalid) से मुलाकात भी कबूल की है. गौरतलब है ताहिर हुसैन पर दिल्ली हिंसा को भड़काने के लिए आईबी कर्मी अंकित शर्मा की हत्या के आरोप में भी चार्जशीट दायर की हुई है.

यह भी पढ़ेंः राम मंदिर भूमि पूजन में कोरोना निगेटिव वाले ही होंगे शामिल, आमंत्रण मिलने वालों को कराना होगा कोविड-19 टेस्ट

उमर खालिद से की मुलाकात
प्राप्त जानकारी के मुताबिक आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन दिल्ली पुलिस से पूछताछ में लोगों को उकसाने और हिंसा कराने की बात मानी है. हुसैन ने माना है कि उसका इरादा कुछ बड़ा करने का था. इसके लिए वह जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद से 8 जनवरी को शाहीन बाग स्थित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कार्यालय में भी मिला था. दिल्ली पुलिस के अनुसार, हुसैन का काम ज्यादा से ज्यादा शीशे की बोतल, पेट्रोल, एसिड, पत्थर को अपने छत पर इकट्ठा करना था. हुसैन के एक परिचित खालिद सैफी का काम सड़कों पर लोगों को प्रदर्शन के लिए एकत्र करने का था.

यह भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश में कोरोना टेस्ट के बाद गायब हो गए 2290 संक्रमित मरीज, तलाश जारी

खालिद सैफी से करवाया दंगा
सूत्रों के मुताबिक हुसैन ने पुलिस जांच में बताया, 'खालिद सैफी अपने दोस्तों, इशरत जहां के साथ पहले खुर्जी में शाहीन बाग की तरह धरना शुरू करवाया. 4 फरवरी को अबु फैजल इनक्लेव में मैं खालिद सैफी से मिलकर दंगे की योजना के लिए मिला.' हुसैन ने कहा, '4 फरवरी को अबु फैजल इनक्लेव में यह तय किया गया कि नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में धरने पर बैठे लोगों को उकसाना है और सरकार को घुटने के बल पर लाने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान कुछ बड़ा करना है.'

यह भी पढ़ेंः Live: सुशांत केस में सच सामने न आ जाए, इस भय से SP को क्वारंटीन किया- BJP विधायक

छत पर जमा किए पेट्रोल-डीजल बम
दिल्ली पुलिस की जांच में खुलासा हुआ कि हुसैन ने भारी मात्रा में एसिड, पेट्रोल, डीजल और पत्थर अपने छत पर जमा किया था. उसने दंगे में इस्तेमाल करने के लिए पुलिस स्टेशन से अपनी पिस्टल भी ली थी. दिल्ली पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक, हुसैन आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या के मुख्य आरोपियों में भी शामिल हैं. उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान शर्मा का शव चांद बाग के नाले से 26 फरवरी को मिला था.

First Published : 03 Aug 2020, 11:44:08 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो