News Nation Logo

30 लाख कर्मियों को बोनस, J&K में पंचायती राज कानून को मंजूरी

कैबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले हुए. इसमें 30 लाख कर्मचारियों को बोनस और जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में पंचायती राज अधिनियम, 1989 को लागू करने जैसे निर्णय प्रमुख हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 22 Oct 2020, 06:47:13 AM
PM Narendra Modi

पीएम मोदी की दिवाली से पहले कर्मचारियों को सौगात. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले हुए. इसमें 30 लाख कर्मचारियों को बोनस और जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में पंचायती राज अधिनियम, 1989 को लागू करने जैसे निर्णय प्रमुख हैं. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बताया कि कैबिनेट ने विजयादशमी या दुर्गा पूजा से पहले 30 लाख नॉन गजेटेड कर्मचारियों को 3,737 करोड़ का बोनस देने का निर्णय लिया. इन कर्मचारियों को बोनस डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए तुरंत दिया जाएगा.

यह भी पढ़ेंः बिहारः राजनाथ सिंह ने BJP-JDU की तुलना सचिन-सहवाग की जोड़ी से की, देखें वीडियो

जम्मू-कश्मीर में त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था
प्रकाश जावडेकर ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में पंचायती राज अधिनियम को लागू करने का फैसला लिया है. इसके तहत वहां पर त्रिस्तरीय पंचायत व्यवस्था स्थापित हो पाएगी. इस फैसले से देश के अन्य हिस्सों की तरह जम्मू-कश्मीर में भी जमीनी स्तर पर लोकतंत्र के तीनों स्तरों को स्थापित करने में मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ेंः जमुई में गरजे योगी आदित्यनाथ, कहा- बीजेपी के लिए पूरा देश ही परिवार, कुछ के लिए पार्टी ही देश

सीए कर सकेंगे मलेशिया में पढ़ाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) और मलेशियन इंस्टीट्यूट ऑफ सर्टिफाइड पब्लिक एकाउंटेंट्स (एमआईसीपीए) के बीच परस्पर मान्यता समझौते को मंजूरी दी गई. इससे इन दोनों संस्थानों में से किसी भी एक के योग्य चार्टर्ड एकाउंटेंट्स सदस्यों को अपनी मौजूदा एकाउंटेंसी योग्यता के समुचित अंकों के आधार पर दूसरे इंस्टीट्यूट में दाखिला लेने का मौका मिलेगा.

यह भी पढ़ेंः एकनाथ खडसे ने बीजेपी को दिया तगड़ा झटका, पार्टी से इस्तीफा दे लगाया ये बड़ा आरोप

भारत-नाइजीरिया संबंधों पर मुहर
कैबिनेट ने भारत और नाइजीरिया के बीच शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए बाहरी अंतरिक्ष की खोज और इसके उपयोग में सहयोग पर हुए समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी. एमओयू पर जून, 2020 में बेंगलुरु में भारत के भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और अगस्त 13, 2020 को अबूजा में नाइजीरिया के राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुसंधान और विकास एजेंसी (एनएएसआरडीए) ने हस्ताक्षर किए हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 22 Oct 2020, 06:47:13 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.