News Nation Logo
ओमिक्रॉन पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी 66 और 46 साल के दो मरीज आइसोलेशन में रखे गए भारत में ओमीक्रॉन वायरस की पुष्टि कर्नाटक में मिले ओमीक्रॉन के 2 मरीज सीएम योगी आदित्यनाथ ने प. यूपी को गुंडे-माफियाओं से मुक्त कराकर उसका सम्मान लौटाया है: अमित शाह जहां जातिवाद, वंशवाद और परिवारवाद हावी होगा, वहां विकास के लिए जगह नहीं होगी: योगी आदित्यनाथ पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में देश में चक्रवात से संबंधित स्थिति पर हुई समीक्षा बैठक प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट किया जा रहा है: सत्येंद्र जैन दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से कोविड मामले और पॉजिटिविटी रेट काफी कम है: सत्येंद्र जैन आंदोलनकारी किसानों की मौत और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में नारेबाजी की दिल्ली में आज भी प्रदूषण का स्तर काफी खराब, AQI 342 पर पहुंचा बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, मुंबई BJP के एक नेता ने दर्ज कराई FIR यूपी सरकार ने भी ओमीक्रॉन को लेकर कसी कमर, बस स्टेशन- रेलवे स्टेशन पर होगी RT-PCR जांच

महाराष्ट्र : अमरावती में भाजपा के बंद के दौरान हिंसा के बाद निषेधाज्ञा लागू, शांति

महाराष्ट्र : अमरावती में भाजपा के बंद के दौरान हिंसा के बाद निषेधाज्ञा लागू, शांति

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 13 Nov 2021, 09:05:01 PM
BJP

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

अमरावती (महाराष्ट्र): महाराष्ट्र सरकार ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रायोजित बंद के दौरान हिंसा से प्रभावित अमरावती शहर में निषेधाज्ञा लागू कर दी।

प्रभारी पुलिस आयुक्त संदीप पाटिल ने किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सीआरपीसी की धारा 144 (1), (2), (3) लागू करने का आदेश जारी किया।

वन-पेजर के अनुसार, चिकित्सा आपात स्थिति को छोड़कर, किसी भी व्यक्ति को अपने घरों से बाहर आने की अनुमति नहीं दी जाएगी और पांच या अधिक व्यक्तियों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध है।

भाजपा ने रजा अकादमी और अन्य मुस्लिम संगठनों द्वारा राज्यव्यापी प्रदर्शनों और रैलियों के दौरान शुक्रवार को नासिक, अमरावती और नांदेड़ में हुई हिंसा के विरोध में बंद का आह्वान किया था।

शहर में कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच सुबह भारी भीड़ झंडे लहराते, बैनर लिए और नारेबाजी करते हुए सड़कों पर उमड़ पड़ी।

कुछ ही देर बाद कुछ वर्गो ने निजी या सार्वजनिक वाहनों, दुकानों और प्रतिष्ठानों पर पथराव शुरू कर दिया और हिंसा को रोकने के लिए पुलिस ने बदमाशों को लाठियां बरसाईं।

मुस्लिम समूहों की कार्रवाई शुक्रवार को त्रिपुरा राज्य में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के विरोध में अपना विरोध दर्ज कराने के लिए थी, जिसके परिणाम यहां थे, और वस्तुत: महा विकास अघाड़ी सरकार को अनजाने में पकड़ लिया।

शुक्रवार शाम नांदेड़, अमरावती और मालेगांव (नासिक) से हिंसा की खबर आने के बाद गृह मंत्री दिलीप वलसे-पाटिल ने देर रात सभी समूहों से संयम बरतने की वीडियो अपील की।

वाल्से-पाटिल ने आग्रह किया, कृपया शांत रहें .. मैं सभी हिंदुओं और मुस्लिम भाइयों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं। उन्होंने इस मामले पर अन्य एमवीए नेताओं के साथ चर्चा की।

नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने शांति की अपील करते हुए कहा कि घटनाओं पर ऐसी प्रतिक्रिया महाराष्ट्र में पहले कभी नहीं आई।

फडणवीस ने कहा, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। यह एक सुनियोजित साजिश प्रतीत होती है, क्योंकि अमरावती में हिंदू दुकानों को आग लगा दी गई थी। इससे भी अधिक गंभीर बात यह कि एमवीए के मंत्री भड़काऊ बयान दे रहे हैं।

इससे पहले शनिवार की सुबह, भाजपा के नेतृत्व वाले बंद में हिंसा, पथराव की कई घटनाएं हुईं, जिसमें कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए, आगजनी की मामूली घटनाओं ने पुलिस को हल्की कैनिंग का सहारा लेने के लिए मजबूर किया।

वाल्से-पाटिल ने शनिवार को कहा, मैं वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की मदद से पूरी स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहा हूं और वरिष्ठ विपक्षी नेताओं के साथ चर्चा कर रहा हूं। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। हम सभी को सामाजिक सद्भाव बनाए रखना चाहिए और मैं सभी से हमारे साथ सहयोग करने का अनुरोध करता हूं। मैं पुलिसर्मी भाइयों से भी स्थिति को सावधानी से संभालने और शांति बनाए रखने में मदद का अनुरोध करता हूं।

शिवसेना सांसद संजय राउत, मंत्री अब्दुल सत्तार, अशोक चव्हाण और यसोमती ठाक (कांग्रेस), नवाब मलिक (राकांपा), एआईएमआईएम सांसद सैयद इम्तियाज जलील, विदर्भ के किसान नेता किशोर तिवारी (राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त) और अन्य ने शनिवार के बंद में हिंसा भड़काने का भाजपा पर आरोप लगाते हुए उसकी खिंचाई की।

महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल और समाजवादी पार्टी की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अबू आसिम आजमी और अन्य नेताओं ने राज्य सरकार से अमरावती में कानून व्यवस्था बनाए रखने का आग्रह किया और तीन शहरों में शुक्रवार को हुई हिंसा की निंदा की, हालांकि विरोध प्रदर्शन के दौरान राज्य के बाकी हिस्सों में शांतिपूर्ण था।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 13 Nov 2021, 09:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.