News Nation Logo

BREAKING

Banner

भगोड़े जाकिर नाइक ने पाकिस्तान में हिंदू मंदिर तोड़ जाने को सही ठहराया

कुरान की एक आयत सुनाते हुए जाकिर ने कहा कि मूर्ति कहीं भी नहीं बनाई जानी चाहिए और अगर ऐसा कुछ है तो इसे तोड़ दिया जाना चाहिए.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 03 Jan 2021, 10:37:30 AM
Zakir Naik

भगोड़े जाकिर नाइक ने फिर उगला जहर. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

कुआलालंपुर:

अपने जहरीले भाषण से भोले-भाले लोगों को बरगला कर जिहाद के लिए प्रेरित करने वाले भगोड़े इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक ने एक बार फिर सांप्रदायिक जहर घोलने वाला बयान दिया है. हिंदुस्तान की सरजमीं पर पले इस नाग ने पाकिस्तान के खबर पख्तूनख्वा में मंदिर तोड़े जाने की वारदात का समर्थन किया है. यही नहीं, इस दोगलेबाज ने यह भी कहा है कि इस्लामिक देश में मंदिर नहीं होने चाहिए. अगर इस्लामिक देश में कोई मंदिर है तो उसे भी तोड़ देना चाहिए. अपनी जहरीली बात को सही साबित करने के लिए नाइक ने एक बार फिर पवित्र कुरान को आधार बनाया है. 

जहरीली बात को साबित करने दिया कुरान का उदाहरण
अपने एक ताजा वीडियो में भगोड़े ने कहा है कि इस्लाम में फोटो बनाना मना है. कुरान की एक आयत सुनाते हुए जाकिर ने कहा कि मूर्ति कहीं भी नहीं बनाई जानी चाहिए और अगर ऐसा कुछ है तो इसे तोड़ दिया जाना चाहिए. उसने मुसलमानों की पाक किताब कुरान को उद्धत करते हुए कहा, 'जब मोहम्‍मद साहब काबा लौटे थे, तो उन्‍होंने काबा में मौजूद लगभग सभी 360 मूर्तियों को तोड़ दिया था.' जाकिर नाइक का यह जहरीला बयान ऐसे समय पर आया है जब पाकिस्तान में एक हिंदू मंदिर को तोड़ दिया गया और उसमें आग लगा दी गई.

यह भी पढ़ेंः बंगाल में BJP के लिए फिर माहौल बनाएंगे जेपी नड्डा और अमित शाह

खैबर के सीएम ने दिया धार्मिक स्थलों की सुरक्षा का भरोसा
गौरतलब है कि पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में बुधवार को एक मौलवी के नेतृत्‍व में कट्टरपंथियों की भीड़ ने मंदिर में तोड़फोड़ की थी. करक जिले के टेरी गांव में मंदिर पर हुए हमले की मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और हिंदू समुदाय के नेताओं ने कड़ी निंदा की. इसके विरोध में पाकिस्तान के बाहर रह रहे मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने भी कड़ा विरोध जताया है. ऐसे में खैबर पख्तूनख्वा के मुख्य मंत्री महमूद खान ने प्रांत में अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थलों की सुरक्षा करने का संकल्प लेते हुए कहा कि पुलिस ने मंदिर पर हुए हमले में संलिप्त रहने के संदेह में कई लोगों को गिरफ्तार किया है.

यह भी पढ़ेंः उत्तर भारत में बढ़ा ठंड का टॉर्चर: दिल्ली समेत कई हिस्सों में बारिश

जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम का नेता रहमत सलाम खट्टक गिरफ्तार
मंदिर पर हमले के सिलसिले में 45 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें से ज्यादातर लोग एक कट्टरपंथी इस्लामी पार्टी के सदस्य हैं. जमीयत उलेमा-ए- इस्लाम का नेता रहमत सलाम खट्टक भी गिरफ्तार किया गया है. गुरुवार को खान के विशेष सूचना सहायक एवं प्रांतीय सरकार के प्रवक्ता कामरान बंगश ने कहा था कि प्रांत की सरकार ने अधिकारियों को क्षतिग्रस्त मंदिर का पुनर्निर्माण करने का आदेश दिया है. इस बीच, अल्पसंख्यकों के अधिकारों से संबद्ध एक आयोग ने घटनास्थल का दौरा किया है. आयोग के प्रतिनिधिमंडल ने स्थानीय शांति समिति के सदस्यों और हिंदू समुदाय के सदस्यों से मुलाकात की तथा इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना की निंदा की.

यह भी पढ़ेंः Corona Vaccine पर बड़ा ऐलान आज, देश को मिलेंगे 2 COVID-19 टीके

एनआईए कर रही जाकिर नाइक की जांच
नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी जाकिर नाइक के मामले की जांच कर रही है. जाकिर नाइक जांच के डर से भारत से भागकर मुस्लिम बहुल देश मलेशिया में रह रहा है. नायक पर मनी लॉड्रिंग और नफरत फैलाने वाले भाषण देने का आरोप है. उसका नाम 2016 में ढाका में हुए बम धमाकों में भी आया था. इन धमाकों में सैकड़ों लोग मारे गए थे. इन धमाकों में शामिल एक आरोपी ने बाद में स्वीकार किया था कि नाइक के भाषणों के कारण वह यह घिनौना काम करने के लिए प्रेरित हुआ. एनआईए के अधिकारियों के मुताबिक नाइक पिछले करीब 4 साल से मलेशिया में रह रहा है. भारत में उसके भाषण पीस टीवी पर प्रसारित होते थे जिस पर अब प्रतिबंध लगा दिया गया है. ब्रिटेन और कनाडा ने उसे वीजा देने से इनकार कर दिया था जिसके बाद मलेशिया ने उसे स्थाई नागरिकता दे दी.

First Published : 03 Jan 2021, 10:37:30 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.