News Nation Logo
CM Channi के गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी पहुंचने पर अध्यापकों का ज़ोरदार प्रदर्शन अध्यापकों की मांग - 7वें पे कमीशन की सिफारिशें पंजाब हों लागू ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

US में सिख नौसैनिक के लिए बड़ा फैसला, 246 साल बाद पगड़ी पहनने की इजाजत

अमेरिका के इतिहास में सिख नौसैनिक के लिए एक बड़ा फैसला लिया गया है. नौसेना में शामिल एक 26 वर्षीय सिख-अमेरिकी नौसैनिक अधिकारी को कुछ सीमाओं के साथ पगड़ी पहनने की इजाजत दी गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 27 Sep 2021, 05:00:26 PM
Sikh Officer

Sikh Officer (Photo Credit: Newwork Times)

highlights

  • कुछ सीमाओं के साथ पगड़ी पहनने की इजाजत मिली
  • लंबे समय पगड़ी पहनने की अनुमति को लेकर कर रहे थे संघर्ष
  • वाशिंगटन और ओहायो में पले-बढ़े हैं नौसैनिक अधिकारी तूर

वाशिंगटन:

अमेरिका के इतिहास में सिख नौसैनिक के लिए एक बड़ा फैसला लिया गया है. नौसेना में शामिल एक 26 वर्षीय सिख-अमेरिकी नौसैनिक अधिकारी को कुछ सीमाओं के साथ पगड़ी पहनने की इजाजत दी गई है. सुखबीर तूर नामक यह सिख व्यक्ति इस प्रतिष्ठित बल के 246 साल के इतिहास में ऐसा करने की अनुमति पाने वाला वह पहला व्यक्ति है। द न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के अनुसार, 'लगभग पांच साल से हर सुबह लेफ्टिनेंट सुखबीर तूर अमेरिकी नौसैनिक कोर की वर्दी धारण करते आए हैं और गुरुवार को सिर पर सिख पगड़ी पहनने की उनकी तमन्ना भी पूरी हो गई.  तूर ने इस अधिकार को प्राप्त करने के लिये संघर्ष किया है. इस साल जब वह पदोन्नति पाकर कैप्टन बने तो उन्होंने अपील का फैसला किया. खबर के अनुसार यह इतने लंबे समय तक चला केस इस तरह का पहला मामला था.

यह भी पढ़ें : तालिबान की वापसी से अफगानिस्तान में हिजाब, पगड़ी की कीमतों में आया उछाल

26 वर्षीय लेफ्टिनेंट तूर ने एक साक्षात्कार में कहा, "आखिरकार मुझे यह चुनने की ज़रूरत नहीं है कि मैं किस जीवन के लिए प्रतिबद्ध होना चाहता हूं, मेरा विश्वास या मेरा देश. "मैं वह हो सकता हूं जो मैं हूं. मैं दोनों पक्षों का सम्मान करता हूं. उनका मामला संयुक्त राज्य की सेना में दो मौलिक मूल्यों के बीच लंबे समय से चल रहे संघर्ष में सबसे नया है. अनुशासन और एकरूपता की परंपरा और संवैधानिक स्वतंत्रता की रक्षा के लिए सशस्त्र बलों को बनाया गया था, जबकि ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में सिख सैनिकों ने लंबे समय से वर्दी में पगड़ी पहनती रही है और सिख अब सेना की अन्य शाखाओं में भी ऐसा करते हैं. मरीन कॉर्प्स के 246 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है लेफ्टिनेंट तूर पगड़ी पहनेंगे. वाशिंगटन और ओहायो में पले-बढ़े भारतीय प्रवासी के बेटे तूर को कुछ सीमाओं के साथ ड्यूटी पर पगड़ी पहनने की अनुमति मिली है.

लेफ्टिनेंट तूर सामान्य ड्यूटी स्टेशनों पर प्रतिदिन पोशाक में पगड़ी पहन सकता है. हालांकि उसे संघर्ष क्षेत्र में तैनाती के दौरान या औपचारिक यूनिट में पगड़ी पहनने की इजाजत नहीं होगी. लेफ्टिनेंट तूर ने मरीन कॉर्प्स कमांडेंट को प्रतिबंधात्मक निर्णय की अपील की है और उनका कहना है कि अगर उन्हें पूर्ण आवास नहीं मिला तो वह कोर पर मुकदमा करेंगे. "हम एक लंबा सफर तय कर चुके हैं, लेकिन अभी और भी बहुत कुछ जाना बाकी है.  वर्तमान में लगभग 100 सिख पूरी दाढ़ी और पगड़ी पहनकर सेना और वायु सेना में सेवा करते हैं. 

First Published : 27 Sep 2021, 05:00:26 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो