News Nation Logo
Banner

पूरी तरह बर्बाद हो सकती है अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था, संयुक्त राष्ट्र की चेतावनी

तालिबान के कब्जे के बाद विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) समेत कई वैश्विक संस्थाओं के द्वारा अफगानिस्तान को मिलने वाली आर्थिक सहायता पर रोक लगा दी गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 10 Sep 2021, 03:37:32 PM
Afghanistan-United Nations

Afghanistan-United Nations (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • अफगानिस्तान में 72 फीसदी लोग एक दिन में करीब एक डॉलर पर जीवन गुजार रहे हैं
  • UN के शीर्ष राजदूत ने फंड और मानवीय स्थिति को दूर करने के प्रयासों का आह्वान किया

नई दिल्ली:

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने चेतावनी दी है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय अगर अफगानिस्तान को मदद जारी रखने के लिए कोई तरीका नहीं निकालता है तो वहां की अर्थव्यवस्था पूरी तरह ढह सकती है. बता दें कि तालिबान के कब्जे के बाद विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) समेत कई वैश्विक संस्थाओं के द्वारा अफगानिस्तान को मिलने वाली आर्थिक सहायता पर रोक लगा दी गई है. संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने चेतावनी दी है कि अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था के ढहने की वजह से देश में भयंकर गरीबी आ सकती है. यूएनडीपी का कहना है कि 18 मिलियन की आबादी वाला यह देश दुनिया के सबसे गरीब देशों में से एक है. अफगानिस्तान में 72 फीसदी लोग एक दिन में करीब एक डॉलर पर जीवन गुजार रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत का कहना है कि अफगान अर्थव्यवस्था को कुछ और महीने चलाने की अनुमति मिलनी चाहिए. उनका कहना है कि इसके जरिए यह देखा जा सकता है कि तालिबान इस बार किस तरह से शासन को चलाता है.  

यह भी पढ़ें: तालिबान को भी फांस रहे इमरान, पाकिस्तानी रुपए में व्यापार की पेशकश

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सदस्यों ने अरबों डॉलर की संपत्ति और दानकर्ता निधि को फ्रीज किया
अफगानिस्तान के लिए संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष राजदूत ने देश में फंड और गंभीर मानवीय स्थिति को दूर करने के प्रयासों का आह्वान किया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सदस्यों ने अरबों डॉलर की संपत्ति और दानकर्ता निधि को फ्रीज कर दिया गया है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव डेबोरा लियोंस ने कहा, अपरिहार्य प्रभाव, हालांकि, एक गंभीर आर्थिक मंदी होगी जो कई और लाखों लोगों को गरीबी और भुखमरी की ओर धकेल सकती है. अफगानिस्तान से शरणार्थियों की एक बड़ी लहर पैदा हो रही है, और वास्तव में यह अफगानिस्तान में कई पीढ़ियों तक रह सकती है. उन्होंने सुरक्षा परिषद को गुरुवार को एक ब्रीफिंग में बताया, जैसा कि अफगान मुद्रा में गिरावट आई है, ईंधन और भोजन की कीमतें आसमान छू रही हैं. निजी बैंकों के पास अब वितरित करने के लिए नकदी नहीं है, जिसका मतलब है कि संपत्ति वाले अफगान भी उन तक नहीं पहुंच सकते हैं. साथ ही वेतन का भुगतान नहीं किया जा सकता है. 

लियोंस ने कहा, अर्थव्यवस्था और सामाजिक व्यवस्था को पूरी तरह से टूटने से रोकने के लिए अफगानिस्तान में फंड की अनुमति देनी चाहिए. उन्होंने कहा, यह सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा उपाय बनाए जाने चाहिए कि यह पैसा वहीं खर्च किया जाए जहां इसे खर्च करने की आवश्यकता है, और अधिकारी इसका दुरुपयोग नहीं कर सकें. लियोंस ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को पहले से मौजूद मानवीय संकट पर ध्यान देना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस संकट से निपटने के लिए तालिबान नेताओं के खिलाफ प्रतिबंध हटाने के संबंध में राजनीतिक फैसलों का इंतजार नहीं किया जा सकता क्योंकि लाखों आम अफगानों को मदद की सख्त जरूरत है.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान को तालिबान से रिश्ते पड़ रहे भारी, 31 फीसद कम हुआ FDI

उन्होंने कहा, इसका मतलब है कि संयुक्त राष्ट्र या गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) के माध्यम से आवश्यक मानवीय सहायता प्रदान की जानी चाहिए. इसके अतिरिक्त ऐसे देश भी हैं जिनके अपने प्रतिबंध हैं जो कुछ सदस्यों या समूहों पर लागू होते हैं जो अब वास्तविक प्राधिकरण का हिस्सा हैं. संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों और गैर सरकारी संगठनों को आवश्यक मानवीय राहत प्रदान करने की अनुमति देने के लिए प्रासंगिक तंत्र जल्दी से खोजा जाना चाहिए.

First Published : 10 Sep 2021, 03:35:19 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो