News Nation Logo

यात्री गाड़ियों के किराये में बढ़ोतरी को लेकर भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने दी सफाई, जानिए क्या है मकसद?

Indian Railway-IRCTC: भारतीय रेलवे यह सूचित करना चाहता है कि यात्रियों और अन्य कम दूरी की रेलगाड़ियों के लिए ये थोड़ा अधिक किराया लोगों को अनावश्यक यात्रा को हतोत्साहित करने के लिए शुरू किया गया था.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 25 Feb 2021, 10:24:06 AM
Indian Railway-IRCTC

Indian Railway-IRCTC (Photo Credit: newsnation)

highlights

  • यात्रियों और अन्य कम दूरी की रेलगाड़ियों के लिए ये थोड़ा अधिक किराया लोगों को अनावश्यक यात्रा को हतोत्साहित करने के लिए शुरू किया गया था
  • बढ़ने वाले किराए को रेलगाड़ियों में भीड़ को रोकने और कोविड को फैलने से रोकने के लिए रेलवे की सक्रियता के रूप में देखा जाना चाहिये: रेलवे

नई दिल्ली:

Indian Railway-IRCTC: मीडिया में हाल ही में प्रकाशित कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि कम दूरी पर यात्री रेलगाड़ियों में यात्रा करने वाले यात्रियों से अधिक कीमत वसूल की जा रही है. भारतीय रेलवे यह सूचित करना चाहता है कि यात्रियों और अन्य कम दूरी की रेलगाड़ियों के लिए ये थोड़ा अधिक किराया लोगों को अनावश्यक यात्रा को हतोत्साहित करने के लिए शुरू किया गया था. ये किराया समान दूरी के लिए मेल / एक्सप्रेस रेलगाड़ियों के अनारक्षित मूल्य पर तय किया जाता है. कोविड का प्रकोप अब भी मौजूद है और वास्तव में कुछ राज्यों में कोविड की स्थिति और अधिक बिगड़ रही है. कई राज्यों के आगंतुकों को अन्य क्षेत्रों में प्रवेश करने पर स्क्रीनिंग के लिए भेजा जा रहा है और यात्रा के लिए हतोत्साहित किया गया है. बढ़ने वाले किराए को रेलगाड़ियों में भीड़ को रोकने और कोविड को फैलने से रोकने के लिए रेलवे की सक्रियता के रूप में देखा जाना चाहिये.

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल के बाद LPG सिलेंडर में लगी आग, 3 महीने में बढ़े 200 रुपये

22 मार्च, 2020 को कोविड की वजह से लगे राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण नियमित रेलगाड़ियों को किया गया था बंद
यहां पर यह उल्लेख किया जाना ज़रूरी है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकए के उपाय के रूप में भारतीय रेलवे को 22 मार्च, 2020 को कोविड से संबंधित राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण नियमित रेलगाड़ियों को चलाना बंद करना पड़ा था. भारतीय रेलवे चरणबद्ध रूप से यात्री रेलगाड़ियों की संख्या में लगातार वृद्धि कर रहा है। कोविड समय से पहले यात्री रेलगाड़ियों की नियमित सेवाओं की पूर्ण बहाली के बारे में कई कारकों और परिचालन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए विचार किया जाना है. कोविड के चुनौतीपूर्ण समय के दौरान, भारतीय रेलवे ने लॉक डाउन से पहले के समय की तुलना में लगभग 65 प्रतिशत मेल / एक्सप्रेस रेलगाड़ियों और 90 प्रतिशत से अधिक उपनगरीय सेवाओं का परिचालन किया है.

कुल 1250 मेल / एक्सप्रेस, 5350 उपनगरीय रेल सेवाएं और 326 से अधिक यात्री रेलगाड़ियों  का वर्तमान में दैनिक औसत आधार पर परिचालन किया जा रहा है. वर्तमान में चलने वाली कम दूरी की यात्री रेलगाड़िया कुल रेलगाड़ियों के 3 प्रतिशत से भी कम हैं। इस तरह की और रेलगाड़ियों को राज्य सरकारों के परामर्श से चलाने की योजना है. इस तरह की कम दूरी की रेलगाड़ियों में सभी संबंधित पक्षों के बीच विचार विमर्श और सहमति की आवश्यकता होती है. मौजूदा कोविड के स्थिति को ध्यान में रखते हुए, मेल / एक्सप्रेस रेलगाड़ियों की शुरुआत के बाद, रेलवे सभी आवश्यक सावधानी बरतते हुए और अतिरिक्त प्रयास कर के आने वाले दिनो में  धीरे-धीरे यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन शुरू कर रही है. सामान्य परिचालन शुरू करने से पहले राज्यों की स्वास्थ्य स्थिति, और राज्य सरकारों के विचार, आदि को में ध्यान में रखा जाने की आवश्यकता है.

यह भी पढ़ें: जानिए अब तक कितने किसानों को मिला PM किसान योजना का फायदा, ऐसे चेक कर सकते हैं अपना नाम

यह ध्यान देने योग्य है कि यात्री परिचालन को हमेशा रेलवे द्वारा सब्सिडी दी गई है। आम तौर पर, रेलवे एक यात्री द्वारा हर यात्रा पर नुकसान उठाना पडता है. रेलवे ज्यादातर कोविड के चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के समय में रेलगाड़ियों को चला रहा है। कई रेलगाड़ियों को लोगों के लाभ के लिए कम यात्रियों के बावजूद चलाया जा रहा है. यही नहीं, रेलवे ने रेलगाड़ियों में सबसे कम किराया वाली रेलगाड़ियों में यात्रा करने वालों के बारे में विशेष ध्यान रखा है ताकि कोविड के समय में भी वे कम से कम आर्थिक भार उठाएं। अन्य सभी वर्गों के अलावा जो रेलगाड़िया चलाई जा रही हैं, उन सभी रेलगाड़ियों में बड़ी संख्या में बैठने वाले द्वितीय श्रेणी के कोच हैं, जिनका आरक्षित वर्ग में सबसे कम किराया है. यात्रियों में से 40 प्रतिशत ने कोविड स्थिति से पूर्व की तुलना में बहुत बेहतर स्थितियों में बैठने वाले द्वितीय अनारक्षित श्रेणी में यात्रा की है.

स्टेशनों और रेलगाड़ियों में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए, कोविड से पहले के समय की तुलना में यात्री रेलगाड़ियों का किराया थोड़ा अधिक लिया जा रहा है और इसके संरक्षण पर कड़ी नजर रखी जा रही है। कोविड के समय के दौरान आवश्यक प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए सेवाओं की बहाली सुनिश्चित करने के लिए स्थिति की लगातार निगरानी की जा रही है. (इनपुट पीआईबी)

First Published : 25 Feb 2021, 10:23:17 AM

For all the Latest Utilities News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो