News Nation Logo
Banner

कूचबिहार जाने पर रोक से चुनाव आयोग पर बिफरीं ममता बनर्जी, बोले- MCC का नाम बदल रख लें मोदी कोड ऑफ कंडक्ट

चुनाव आयोग पर ममता बनर्जी बिफर पड़ी हैं. उन्होंने चुनाव आयोग को MCC (मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट) का नाम बदलकर मोदी कोड ऑफ कंडक्ट रख लेना चाहिए. ममता ने इस दौरान केंद्र सरकार पर भी हमला बोला है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 11 Apr 2021, 11:46:21 AM
Mamata Banerjee

कूचबिहार जाने पर लगी रोक से बिफरी ममता बनर्जी, सुनाई खरी खोटी (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • कूचबिहार हिंसा के बाद नेताओं के दौरे पर रोक
  • कूचबिहार जाने पर रोक से बिफरी ममता बनर्जी
  • टीएमसी की मुखिया ने EC को सुनाई खरी खोटी

नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधानसभा चुनाव के बीच कूचबिहार की घटना को लेकर सियासी संग्राम तेज हो गया है. हिंसा के बाद कूचबिहार जिले में चुनाव आयोग ने 72 घंटे पहले ही प्रचार खत्म कर दिया. साथ ही बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) के कूचबिहार दौरे पर भी रोक लग गई. जिसके बाद अब टीएमसी की मुखिया ममता बनर्जी चुनाव आयोग (Election Commission) पर बिफर पड़ी हैं. उन्होंने चुनाव आयोग को MCC (मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट) का नाम बदलकर मोदी कोड ऑफ कंडक्ट रख लेना चाहिए. ममता ने इस दौरान केंद्र सरकार पर भी हमला बोला है.

यह भी पढ़ें: Assembly Election LIVE Updates : बंगाल में कूचबिहार हिंसा के बाद सियासी संग्राम, आज ममता बनर्जी और अमित शाह होंगे आमने सामने

ममता बनर्जी ने रविवार को ट्वीट कर कहा, 'चुनाव आयोग को मोदी कोड ऑफ कंडक्ट के रूप में एमसीसी का नाम बदलना चाहिए. बीजेपी अपनी ताकत का इस्तेमाल कर सकती है, लेकिन इस दुनिया में कोई भी मुझे अपने लोगों के साथ होने और अपना दर्द साझा करने से नहीं रोक सकता. वे मुझे कूच बिहार में 3 दिनों के लिए अपने भाइयों और बहनों से मिलने से रोक सकते हैं, लेकिन मैं 4 वें दिन वहां पहुंचूंगी.'

इससे पहले कूचबिहार मामले को लेकर ममता बनर्जी ने कहा कि सीतलकुची जाने से रोकना दुर्भाग्यपूर्ण है. पीड़ित परिवार से मैं मिलना चाहती थी. चुनाव आयोग ने मुझे पीड़ित परिवार से मिलने से रोका. चुनाव हो गया, फिर भी मुझे रोका जा रहा है. उन्होंने कहा कि मैं 14 अप्रैल को कूचबिहार जाऊंगी. ये लड़ाई मेरी नहीं, सभी के लिए है. ममता ने कूचबिहार की घटना को नरसंहार बताया है.

यह भी पढ़ें: कूच बिहार की घटना पर EC का स्पष्टीकरण, गलतफहमी के कारण लोगों ने CISF पर किया हमला

दरअसल, शनिवार को मतदान के बीच कूच बिहार जिले में दो अलग-अलग घटनाओं में कुल पांच लोग मारे गए. माथाभांगा ब्लॉक के शीतलकूची विधानसभा क्षेत्र में केंद्रीय बलों ने एक भीड़ पर गोलियां चला दीं, जिससे चार लोगों की मौत हो गई, जबकि एक ही निर्वाचन क्षेत्र में एक अन्य घटना में, पहली बार एक मतदाता मारा गया. बूथ नंबर 126 यह घटना हुई थी. हालांकि पुलिस ने दावा किया कि सीआईएसएफ के जवानों ने आत्मरक्षा में गोली चला दी, जिससे चार लोगों की मौत हो गई. शनिवार को मरने वाले चार लोगों की पहचान अमजद हुसैन (28), चालमू मियां (23), जोबेद अली (20) और नाम मिया (20) के रूप में हुई.

घटना के बाद, चुनाव आयोग ने बूथ में मतदान स्थगित कर दिया और विशेष पर्यवेक्षकों और मुख्य निर्वाचन अधिकारी एरीज आफताब से शनिवार शाम तक रिपोर्ट मांगी. बाद में चुनाव आयोग ने जिले में 72 घंटे पहले ही प्रचार पर रोक लगा दी. चुनाव आयोग ने शनिवार शाम को एक नोट जारी कर यह भी कहा कि वह मुख्यमंत्री की शीतलकूची की यात्रा की योजना को रोक सकता है. यानी इस आदेश के बाद सभी राजनीतिक नेताओं के साथ-साथ ममता बनर्जी पर भी कूच बिहार जाने पर पाबंदी रहेगी. हालांकि राज्य की मुख्यमंत्री की हैसियत से ममता बनर्जी कूच बिहार जाना चाहती थीं. इस रोक से ममता बनर्जी खफा हैं.  कूच बिहार में तीन दिन तक के लिए नेताओं की एंट्री बैन हो गई है तो टीएमसी चीफ ने चुनाव आयोग और पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 Apr 2021, 11:29:06 AM

For all the Latest States News, West Bengal News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.