News Nation Logo
Banner

अब हज हाउस घोटाले में आजम खां की बढ़ी मुश्किलें, SIT कर सकती है कार्रवाई

यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां पर अब हज हाउस निर्माण घोटाले का शिकंजा कस रहा है. दरअसल, मामले की जांच तेज करते हुए एसआईटी अब इसमें अनियमितता के लिए कार्यदायी संस्था सीएनडीएस के अभियंताओं की भूमिका की जांच कर कही है.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 29 Dec 2020, 07:58:10 AM
Azam Khan

आजम खान (Photo Credit: न्यूज नेशन)

लखनऊ:

पिछले दस महीनों से जेल में बंद यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां पर अब हज हाउस निर्माण घोटाले का शिकंजा कस रहा है. दरअसल, मामले की जांच तेज करते हुए एसआईटी अब इसमें अनियमितता के लिए कार्यदायी संस्था सीएनडीएस के अभियंताओं की भूमिका की जांच कर कही है. जल्द ही नोटिस भेजकर संस्था के अधिकारियों और अभियंताओं से पूछताछ की तैयारी है. इसमें कई और राज भी खुल सकते हैं. माना जा रहा है कि जल्दी ही इस मामले में कोई बड़ी कार्रवाई हो सकती है. 

यह भी पढ़ें : कड़ाके की ठंड में नंगे शरीर पर किसान ने पेंट किया तिरंगा, लिखा-मोदी मुर्दाबाद

जानकारी के अनुसार, गाजियाबाद के आला हजरत हज हाउस और लखनऊ के मौलाना अली मियां मेमोरियल हज हाउस के निर्माण में जरूरत से ज्यादा धन खर्च किया गया था. बता दें कि लखनऊ हज हाउस का निर्माण 2004 से 2006 की मुलायम सरकार के कार्यकाल में हुआ था. उसी समय गाजियाबाद में हिंडन नदी के किनारे हज हाउस के लिए जमीन ली गई थी. वहीं 2012 की सपा सरकार में जब अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बने तो गाजियाबाद हज हाउस का निर्माण पूरा हुआ. इन दोनों सपा सरकारों में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री आजम खान ही थे. 

यह भी पढ़ें : अमित शाह के बाद अब बोलपुर में ममता बनर्जी का आज रोड शो

इसी साल फरवरी में प्रशासन ने गाजियाबाद में बने हज हाउस को एनजीटी के आदेश पर सील कर दिया था. आरोप था कि इसमें सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट नहीं है, जिसकी वजह से इससे निकलने वाला पानी हिंडन को गंदा कर रहा है. इन दोनों हज हाउस घोटाले की जांच अब अंतिम दौर में पहुंचने की दशा में कुछ लोगों से फिर पूछताछ की जानी है. बता दें कि योगी की सरकार आने के बाद प्रशासन ने हज हाउस को सील कर दिया था.

First Published : 29 Dec 2020, 07:53:26 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.