News Nation Logo
Banner

कृषि मंत्री बोले- कल सभी किसान यूनियन से बात करेगी सरकार

केंद्र सरकार ने एक बार फिर 30 दिसंबर को किसानों को बातचीत के लिए आमंत्रित किया. किसान कांग्रेस ने सोमवार को मांग की कि अगर इन कानूनों को निरस्त नहीं किया गया तो वह देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 29 Dec 2020, 02:02:19 PM
Farmers Protest Live Updates

किसान आंदोलन (Photo Credit: @Google)

नई दिल्ली:

दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन का आज 34वां दिन है. किसान संगठनों और सरकार में अभी तक कोई सहमति नहीं बन पाई है. वहीं, कई दौर की बातचीत के बाद केंद्र सरकार ने एक बार फिर 30 दिसंबर को किसानों को बातचीत के लिए आमंत्रित किया. किसान कांग्रेस ने सोमवार को मांग की कि अगर इन कानूनों को निरस्त नहीं किया गया तो वह देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी. किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोलंकी ने कहा कि कड़ाके की सर्दी में हजारों किसान दिल्ली सीमा पर जमा हो गए हैं और पिछले एक महीने में हमारे 40 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है, लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार जो कॉरपोरेट्स की कठपुतली बन गई है, वह अपने काले कानूनों को वापस नहीं लेने के लिए कृतसंकल्प है.

LIVE TV NN

NS

NS

नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कल होने वाली बैठक में सभी किसान यूनियन के साथ सरकार बात करेगी. हमें विश्वास है कि हम सकारात्मक और अच्छी दिशा में आगे बढ़ेंगे.

संयुक्त किसान मोर्चा ने सरकार को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने कहा कि एजेंडे के मुताबिक वार्ता हो.

अमित शाह के घर तोमर और पीयूष गोयल की बैठक खत्म हो गई है.

गृह मंत्री अमित शाह के घर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और नरेंद्र सिंह तोमर पहुंचे हैं. किसानों के मुद्दे पर बैठक हो रही है.

पटना में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समिति और अन्य वाम संगठनों के सदस्यों ने केंद्र के तीन कृषि कानूनों को लेकर गवर्नर हाउस में विरोध मार्च निकाला. 


एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से संयुक्त किसान मोर्चा के महाराष्ट्र से जुड़े किसान नेताओ ने मुलाकात की. ये किसान नेता सिंघु बॉर्डर और पलवल पर प्रदर्शन में शामिल हैं और सरकार के साथ बातचीत में भी हिस्सा ले चुके हैं. किसान नेताओ के अनुसार, पवार ने किसान नेताओ ने कहा कि अगर 30 तारीख तक हल नहीं निकाला तो तमाम विपक्ष की पार्टियों के साथ बैठक कर किसानों के पक्ष में खड़े रहेंगे.

अखिलेश यादव ने बीजेपी की प्रदेश सरकार पर निशाना साध हैं. उन्होंने कहा कि देश में इतने मुकदमे किसी पर नहीं लगे होंगे, जितने की किसान आंदोलन में समाजवादी पार्टी के लोगों पर लग रहे हैं, ये काम वही कर सकता है, जिसका छोटा दिल हो, सरकार कह रही है कि MSP नहीं खत्म होगी, कहां मिली MSP, किसानों का धान 900 रुपये के रेट में लूट गया. BJP के फैसलों ने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया.

पानीपत में समालखा के पास जीटी रोड पर स्थित रिलायंस के पेट्रोल पंप को किसानों ने सोमवार को बंद करा दिया. पोस्टर और बैनर फाड़ दिए. पुलिस ने केस दर्ज किया है. 3 पुलिसकर्मियों को पंप पर तैनात किया गया है.

कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग पर डटे एक किसान ने अपने शरीर पर पेंट से तिरंगा, बांहों और चेहरे पर उत्तर प्रदेश के किसानों के नारे लिखे हुए थे.

First Published : 29 Dec 2020, 06:33:37 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.