News Nation Logo

बाबरी विध्वंस मामले में हाजी महबूब दाखिल करेंगे HC में याचिका, देगें CBI कोर्ट के फैसले को चुनौती

बाबरी विध्वंस के पैरोकार हाजी महबूब आज हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में रीट फाइल करेंगे. उनका कहना है कि सीबीआई की अदालत के द्वारा फैसला सही नहीं दिया गया.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 08 Jan 2021, 01:12:36 PM
Babri Masjid

बाबरी विध्वंस मामले में हाजी महबूब दाखिल करेंगे HC में याचिका (Photo Credit: फाइल फोटो)

लखनऊ/अयोध्या:

अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला का मामला एक बार फिर न्यायालय की चौखट पर दस्तक देने वाला है. इस मामले में लखनई की विशेष सीबीआई कोर्ट के आदेश को चुनौती देते हुए आज इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की जाएगी. बाबरी विध्वंस के पैरोकार हाजी महबूब आज हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में रीट फाइल करेंगे. उनका कहना है कि सीबीआई की अदालत के द्वारा फैसला सही नहीं दिया गया.

यह भी पढ़ें: धन्नीपुर मस्जिद के डिजाइन पर विवाद, इकबाल अंसारी बोले- म्यूजियम जैसा है नक्शा

बाबरी विध्वंस के पैरोकार हाजी महबूब ने कहा है कि सभी जानते हैं कि इन्हीं लोगों (बीजेपी नेताओं) के कहने पर ही मस्जिद गिराई गई थी. बाबरी विध्वंस के आरोपी में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, विनय कटियार सहित कई मुख्य हैं. इसके साथ ही हाजी महबूब ने राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सहमति जताई. उन्होंने कहा कि रामजन्मभूमि परिसर में मंदिर निर्माण से आपत्ति नहीं है, लेकिन बाबरी विध्वंस के सभी आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए.

यह भी पढ़ें: राम मंदिर बनने के बाद अयोध्या विश्व की सांस्कृतिक राजधानी बनकर उभरेगा, जानें किसने कही ये बात

उल्लेखनीय है कि अयोध्या में 6 दिसंबर 1992 को विवादित ढांचा विध्वंस केस में सीबीआई की विशेष अदालत ने सितंबर 2020 में अपना फैसला सुनाया था. सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एस के यादव ने लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार समेत सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया था. कोर्ट ने कहा था कि विवादित ढांचा विध्वंस की घटना पूर्व नियोजित नहीं थी. सिर्फ तस्वीरों से आरोपियों के घटना में शामिल होने का सबूत नहीं मिल जाता. 

First Published : 08 Jan 2021, 01:03:24 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.