News Nation Logo
Banner

Corona डर से काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश पर रोक

अब बाबा विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 10 Apr 2021, 01:20:56 PM
Kashi Vishwanath Temple

वाराणसी में बढ़ते कोरोना मामलों पर उठाया गया कदम. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • काशी विश्वनाथ मंदिर में लगाए गए कोरोना प्रतिबंध
  • गर्भगृह में प्रवेश पर रोक के साथ बाहर लगा अरघा
  • संकट मोचन मंदिर में भी नहीं मिलेगा चरणामृत

वाराणसी:

देश में कोरोना (Corona) कहर बढ़ता ही जा रहा है. इसके असर से धर्मनगरी वाराणसी भी अछूती नहीं बची है, जहां एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामलों ने रफ्तार पकड़ ली है. हालांकि अन्य प्रदेशों की तरह इस बार पिछली बार की अपेक्षा कम समय में ज्यादा की संख्या में केस आ रहे हैं. यही वजह है कि बीते साल की तरह इस बार भी धीरे-धीरे मंदिरों और मठों पर भी इसका असर पड़ना शुरू हो गया है. नतीजतन पूरी दुनिया में आस्था के केंद्र काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) में बाबा के दरबार में भी कोरोना को लेकर कई प्रतिबंध लगा दिए गए हैं. अब बाबा विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है.

गर्भगृह के बाहर ही अरघा लगा
बढ़ते कोरोना मामलों के मद्देनजर मंदिर प्रशासन की तरफ से गर्भगृह के बाहर ही अरघा लगा दिया गया है, जहां से आपका जल बाबा को अर्पित हो जाएगा. सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक सिर्फ झांकी दर्शन होगा. शिवलिंग का स्पर्श प्रतिबंधित रहेगा. तड़के होने वाली मंगला आरती में भी भक्तों के प्रवेश पर रोक लग गई है. मंगला आरती के टिकट की बुकिंग अगले आदेश तक बंद कर दी गई है. गौरतलब है कि हर रोज सैकड़ों भक्त बाबा दरबार पहुंचते हैं और दर्शन करते हैं. भक्तों की चाह सबसे ज्यादा मंगला आरती को लेकर होती है.

यह भी पढ़ेंः कोरोना का कहर जारी, एक दिन में रिकॉर्ड 1.45 लाख मामले, लगीं ये नई पाबंदियां

संकट मोचन अंदिर में चरणामृत बंद
काशी विश्वनाथ मंदिर के साथ-साथ संकट मोचन मंदिर में भी कोरोना के बढ़ते आंकड़ों का असर पड़ने लगा है. संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए यहां भी प्रसाद के रूप में मिलने वाला चरणामृत अब नहीं मिलेगा. यही नहीं, यहां चढ़ने वाली फूल-मालाओं को भी अलग से निर्देश जारी किए गए हैं. संकट मोचन में माला फूल टोकरी में रखना होगा जो कि हर 4 घंटे में हनुमानजी को अर्पित होंगे. संकट मोचन में सुबह और रात की आरती में सिर्फ मंदिर के लोग ही शामिल होंगे.

यह भी पढ़ेंः बंगाल में भारी हिंसा, वोटिंग के बीच मतदान केंद्र पर फायरिंग, 4 की मौत

डीएम भी पड़े बीमार
गौरतलब है कि शुक्रवार को 929 कोरोना संक्रमित मिलने के बाद वाराणसी में अब तक एक दिन में मिलने मरीजों का पिछला रिकार्ड टूट गया है. शुक्रवार को दो लोगों की मौत हो गई. कुल मरीजों की संख्या 27 हजार को पार कर गई. बढ़ते संक्रमण के बीच वाराणसी के डीएम कौशलराज शर्मा भी बीमार हो गए हैं. वे सीएम की समीक्षा बैठक में भी नहीं पहुंचे. चर्चा है कि वो कोविड-19 पॉजीटिव हैं. हालांकि इस बारे में उनकी ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 10 Apr 2021, 01:15:26 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.