logo-image
लोकसभा चुनाव

सिक्किम में भारी बारिश के बाद भूस्खलन, अब तक 9 लोगों की मौत, सैकड़ों पर्यटक फंसे

Sikkim Landslide: उत्तर भारत में जहां प्रचंड गर्मी से लोग परेशान हैं तो वहीं पूर्वोत्तर के राज्य सिक्किम में भारी बारिश लोगों के लिए मुसीबत बन गई है. राज्य में भारी बारिश के चलते भूस्खलन हो रहा है जिसमें अब तक 9 लोगों की मौत हो चुकी है.

Updated on: 15 Jun 2024, 12:55 PM

highlights

  • सिक्किम में भारी बारिश के बाद भूस्खलन
  • राज्य में अब तक नौ लोगों की मौत
  • 1200 से ज्यादा पर्यटक फंसे

New Delhi:

Sikkim Landslide: पूर्वोत्तर के राज्य सिक्किम में इनदिनों भारी बारिश के चलते कई इलाकों में भूस्खलन हो रहा है. जिसके चलते अब तक नौ लोगों के मारे जाने की जानकारी सामने आई है. बताया जा रहा है कि उत्तरी सिक्किम के मंगन जिले में लगातार हो रही बारिश से बड़े पैमाने पर भूस्खलन हुआ है. जिसके चलते 15 विदेशी नागरिकों समेत 1,200 से ज्यादा पर्यटक फंस गए हैं.  एक अधिकारी के मुताबिक, भूस्खलन और भारी बारिश के चलते पर्वतीय राज्य में 9 लोगों की मौत हो गई है और संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचा है. इसके साथ ही कई क्षेत्रों में सड़क संपर्क टूट गया है.

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में सुरक्षा बलों को मिली बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में मार गिराए आठ नक्सली

भारी बारिश और भूस्खलन से बिजली और खाद्य आपूर्ति तथा मोबाइल नेटवर्क भी बाधित हुआ है. राज्य के पर्यटन एवं नागर विमानन विभाग के प्रधान सचिव सी एस राव ने कहा कि, रिपोर्ट के मुताबिक भारी बारिश और भूस्खलन के चलते सड़क अवरुद्ध हो गई है जिससे करीब 1,200 घरेलू और 15 विदेशी पर्यटक मंगन जिले के लाचुंग में फंस गए हैं. इनमें थाईलैंड के दो, नेपाल के तीन और बांग्लादेश के 10 पर्यटक शामिल हैं.

सीएम ने की उच्च स्तरीय बैठक

वहीं प्रशासन भी पूरी घटना पर नजर बनाए हुए हैं. सिक्किम के सीएम प्रेम सिंह तमांग ने भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन के बाद स्थिति का जायजा लिया.  इसके लिए उन्होंने मिंटोकगांग में एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई. बता दें कि पर्वतीय राज्य सिक्किम भूस्खलन से बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. राज्य के स्थानीय अधिकारियों ने वहां फंसे पर्यटकों से अपने-अपने स्थानों पर ही रहने तथा जोखिम मोल लेने से बचने की सलाह दी है.

ये भी पढ़ें: PM Modi Bihar Visit: नतीजों के बाद इतनी जल्दी क्यों बिहार पहुंच रहे पीएम मोदी, कुछ बड़ा होने वाला है!

अधिकारियों का कहना है कि सभी फंसे हुए पर्यटकों के लिए राशन का पर्याप्त भंडार है. मुख्य सचिव कार्यालय ने मौसम की स्थिति के आधार पर सभी पर्यटकों को हवाई मार्ग से लाने के लिए केंद्र के साथ बातचीत शुरू की है. प्रधान सचिव सी एस राव ने पर्यटकों को इस प्राकृतिक आपदा में हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया. राव ने कहा कि केवल लाचुंग ही राज्य के बाकी हिस्सों से कटा हुआ है और सिक्किम के अन्य सभी हिस्से खुले और यात्रा के लिए सुरक्षित हैं.

जलमग्न हुए कई मकान

एक अन्य अधिकारी के मुताबिक, जिले में भारी बारिश के चलते भूस्खलन हुआ है. जिससे कई सड़कें अवरुद्ध हो गईं, साथ ही कई मकान जलमग्न हो गए हैं या क्षतिग्रस्त हो गए हैं. इसके साथ ही कई बिजली के खंभे भी पानी के साथ बह गए हैं. अधिकारियों के मुताबिक, लगातार हो रही बारिश से गुरुवार को मंगन जिले में कई स्थानों पर भूस्खलन हुआ. जिसके चलते संगकालांग में पिछले साल अक्टूबर में बनाया गया एक पुल ढह गया. जिसके चलते उत्तरी सिक्किम में बड़ी संख्या में पर्यटक फंस गए हैं. यहां एक बांस का पुल भी टूट गया है.

ये भी पढ़ें: NEET Paper Leak: EOU का बड़ा एक्शन, पटना में 9 स्टूडेंट्स को भेजा नोटिस, अबतक 19 गिरफ्तार