News Nation Logo
3 लोकसभा और 7 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आज PM मोदी आज 'मन की बात' कार्यक्रम को करेंगे संबोधित भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा कोरोना संक्रमित दिल्ली: बादली इलाके के प्लास्टिक गोदाम में लगी आग, मौके पर फायर ब्रिगेड फायर उत्तर प्रदेश: आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के लिए मतगणना जारी पाकिस्तान के जेल में मारे गए सरबजीत सिंह की बहन का हार्ट अटैक से निधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मन प्रेसीडेंसी के तहत G7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जर्मनी पहुंचे एकनाथ शिंदे ने 12 बजे गुवाहाटी के होटल में विधायकों की बैठक बुलाई है भारत में आज 11,739 नए Covid19 मामले सामने आए, सक्रिय मामले 92,576 हैं विपक्षी पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा कल दाखिल करेंगे अपना नामांकन केंद्र सरकार ने शिवसेना के 15 बागी विधायकों को 'Y+' श्रेणी के सशस्त्र केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF दिल्ली: राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर जीते AAP के दुर्गेश पाठक रामपुर में बीजेपी ने लहराया विजय पताका, 42 हजार से ज्यादा वोटों से जीत दर्ज की

राजद-जदयू को सीट बचाना चुनौती, भाजपा बढ़त बनाने में जुटी

महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में शामिल जनता दल (JDU) के लिए जहां अपनी पुरानी सीटों को बचाए रखना चुनौती है.

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 05 Nov 2020, 02:44:40 PM
Bihar Elections 2020

तीसरे चरण का चुनाव शनिवार को. प्रतिष्ठा दांव पर. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

पटना:  

बिहार (Bihar Assembly Elections 2020) में तीसरे और अंतिम चरण के विधानसभा चुनाव के लिए सात नवंबर को 78 सीटों के मतदाता मतदान करेंगे. इस चरण का चुनाव तो ऐसे सभी राजनीतिक दलों के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में शामिल जनता दल (JDU) के लिए जहां अपनी पुरानी सीटों को बचाए रखना चुनौती है वहीं भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता 2010 के चुनाव वाली सफलता दोहराने के लिए मेहनत कर रही है.

यह भी पढ़ेंः अमित शाह बोले- दो-तिहाई बहुमत से आ रही BJP, ममता सरकार का जाना तय

इस चरण में भाजपा 35 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, वहीं उसकी सहयोगी जदयू ने 37 उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारे हैं. इसके अलावा राजग में शामिल विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के पांच और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के एक प्रत्याशाी चुनावी मैदान में है. दूसरी ओर महागठबंधन में राजद 46 सीटों पर जबकि उसकी सहयोगी कांग्रेस 25 सीटों में चुनावी मैदान में है. पिछले चुनाव में महागठबंधन ने 78 में से 54 सीटें जीत ली थीं, लेकिन इस चुनाव में स्थिति बदल गई है. जदयू और भाजपा के साथ आ जाने के बाद राजद को पुरानी सफलता को बनाए रखना चुनौती है. राजद पिछले चुनाव में इस क्षेत्र से 20 सीटें अपनी झोली में डाली थी. यही हाल जदयू की भी है. जदयू ने पिछले चुनाव में 23 सीटों पर विजय दर्ज की थी.

यह भी पढ़ेंः CM केजरीवाल की अपील, दीपावली पर पटाखे ना जलाएं

तीसरे चरण के चुनाव में राजद और जदयू 23 सीटों पर आमने-सामने हैं जबकि 20 सीटों पर राजद का भाजपा से कांटे की लड़ाई है. कांग्रेस भी 14 सीटों पर भाजपा और नौ सीटों पर जदयू के मुकाबले में खड़ी है. 2010 में भाजपा को मिली 91 सीटों में से 27 सीटें इस क्षेत्र से आई थी, यहीं कारण है कि भाजपा इस क्षेत्र में अपने पुराने इतिहास को दोहराने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है. वैसे, कोशी और सीमांचल का चुनाव किसी भी दल के लिए आसान नहीं रहा है. यहां का गणित बराबर उलझा रहा है. सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआइएमआइएम) पहले से ही इस मुस्लिम बहुल सीमांचल इलाके में अपने प्रत्याशी उतारकर राजद के मुस्लिम वोटबैंक में सेंध लगाने की तैयारी में है.

यह भी पढ़ेंः भागलपुर में बड़ा हादसा, 100 लोगों से भरी नाव पलटी, 70 लापता

महागठबंधन में शामिल कांग्रेस के लिए भी इस चरण का चुनाव कम चुनौतीपूर्ण नहीं है. इस चरण में पार्टी के आधे निवर्तमान विधायकों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. पिछले चुनाव में पार्टी ने 27 सीटों पर चुनाव जीता था, लेकिन उसकी चार सीटिंग सीटें सहयोगी दलों के खाते में चली गई है. इस चुनाव में कांग्रेस को जो 70 सीटें मिली हैं, उसमें 23 सीटिंग हैं, जिसमें इसी चरण में 11 सीटें हैं, जिनमें फिर से अपने कब्जे में रखना बड़ी चुनौती है.

First Published : 05 Nov 2020, 02:44:40 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.