News Nation Logo

BREAKING

Banner

बिहार : गांव में नहर खोदने वाले लौंगी मांझी का सपना हुआ पूरा

लौंगी मांझी ने अपने काम के प्रति समर्पण और जिद को लेकर अपने ही गया जिले के 'माउंटेन मैन' दशरथ मांझी की याद दिला दी, जिसने 22 साल तक कड़ी मेहनत कर एक पहाड़ को चीरकर अपने गांव के लिए सड़क बना दी थी.

By : Shailendra Kumar | Updated on: 20 Sep 2020, 07:21:18 AM
longi manjhi

लौंगी मांझी (Photo Credit: फोटो)

गया:

बिहार के गया जिले के एक सुदूरवर्ती गांव में 20 साल तक कठिन परिश्रम कर नहर खोदकर पानी पहुंचाने वाले लौंगी मांझी का ख्वाब शनिवार को पूरा हो गया. महिंद्रा कंपनी ने उन्हें एक ट्रैक्टर भेंट किया. गया के महिंद्रा ट्रैक्टर्स के अधिकृत डिस्ट्रीब्यूटर सिद्धार्थ ट्रैक्टर के प्रबंध निदेशक सिद्धनाथ ने लौंगी मांझी को अपने शोरूम से एक ट्रैक्टर भेंट कर उनके सपने को पूरा किया. इस मौके पर महिंद्रा कंपनी के बिहार क्षेत्रीय प्रबंधक अभय मनी के साथ कई लोग मौजूद थे.

यह भी पढ़ें :Fact Check : क्या केंद्र सरकार महिलाओं के खाते में डाल रही है 1 लाख रु? जानें सच्चाई

महिंद्रा के बिहार राज्य प्रमुख आशीष श्रीवास्तव ने पत्रकारों से कहा, महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने ट्वीट के माध्यम से लौंगी मांझी को ट्रैक्टर देने का वायदा किया था, जिसे तुरंत पूरा किया गया. यह हमारा सौभाग्य है कि लौंगी मांझी जैसे कर्मयोद्धा अब महिंद्रा ट्रैक्टर का इस्तेमाल कर पइन के बचे हुए कार्य को पूरा करेंगे. उन्होंने कहा कि लौंगी जैसे कर्मठ व्यक्ति समाज के लिए प्रेरणास्रोत हैं.

यह भी पढ़ें : आज राज्यसभा में पेश होंगे कृषि विधेयक, कांग्रेस ने अपने सदस्यों को ये हिदायत

इधर, लौंगी मांझी भी ट्रैक्टर पाकर खुश हैं. उन्होंने कहा कि अब आगे का काम ट्रैक्टर की मदद से आसानी और तेजी से कर सकेंगे. गया के बांके बाजार के कोठिलवा गांव के लौंगी मांझी ने गांव तक पानी लाने के लिए 20 साल की मेहनत से पांच किलोमीटर नहर खोद डाली है. उन्होंने नहर खोदने के बाद अपनी इच्छा जताते हुए कहा था कि अगर ट्रैक्टर मिल जाए तो इस पइन को और चौड़ा कर वह खेतों में भी पानी ले जा सकेंगे.

यह भी पढ़ें : एक्ट्रेस पायल घोष को मिला NCW का साथ, अनुराग कश्यप के खिलाफ मांगी लिखित शिकायत

लौंगी मांझी ने अपने काम के प्रति समर्पण और जिद को लेकर अपने ही गया जिले के 'माउंटेन मैन' दशरथ मांझी की याद दिला दी, जिसने 22 साल तक कड़ी मेहनत कर एक पहाड़ को चीरकर अपने गांव के लिए सड़क बना दी थी. मांझी ने बताया कि जब सूखे की मार के कारण गांव के युवाओं को बाहर जाते देखा तो उन्हें पीड़ा हुई और उन्होंने यह काम करने की ठानी थी. पथरीले और पहाडी क्षेत्र होने के कारण यहां सिंचाई के लिए बारिश का पानी रुक नहीं पाता था. गांव में खेती के अलावा रोजगार का कोई साधन नहीं था. लोगों के पलायन को देखकर मांझी ने नहर बनाने को ठानी.

First Published : 20 Sep 2020, 07:21:18 AM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो