News Nation Logo
उत्तर प्रदेश : आज तीन बड़े मामले ज्ञानवापी, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा और ताजमहल पर सुनवाई प्रधानमंत्री आवास पर कैबिनेट और CCEA की बैठक, कुछ MoU समेत अहम मुद्दों पर हो सकता है फैसला कपिल सिब्बल सपा कार्यालय में अखिलेश यादव के साथ मौजूद, बनेंगे राज्यसभा उम्मीदवार राज्यसभा के लिए कपिल सिब्बल, डिंपल यादव और जावेद अली होंगे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार- सूत्र पंजाब : ग्रुप सी और डी के पदों के लिए पंजाबी योग्यता टेस्ट कंपलसरी, भगवंत मान सरकार का फैसला मथुरा : जिला अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में 31 मई को होगी अगली सुनवाई मुंबई : मोटरसाइकिल पर दोनों सवारों को हेलमेट पहनना अनिवार्य होगा, 15 दिनों में नियम पर अमल यासीन मलिक की सजा पर बहस पूरी- ऑर्डर रिजर्व, दोपहर बाद विशेष NIA कोर्ट सुनाएगी सजा ज्ञानवापी हिंदुओं को सौंपने-पूजा की मांग वाला नया मामला सिविल जज फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्थानांतरित अयोध्या : 1 जून को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह का शिला पूजन होगा, सीएम योगी होंगे शामिल उत्तराखंड : मौसम सामान्य होने के बाद आज दोबारा सुचारू रूप से शुरू हुई चारधाम यात्रा औरंगजेब की कब्र के बाद अब सतारा में मौजूद अफजल खान के कब्र पर बढ़ाई गई सुरक्षा
Banner

ट्रे में नवजात और कंधे पर ऑक्सीजन सिलेंडर को लेकर सदर अस्पताल पहुंचे दंपती, कागजी कार्यवाही ने ली जान

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे के संसदीय क्षेत्र स्थित सदर अस्पताल से मानवता को शर्मसार करने वाली एक तस्वीर सामने आई है. बक्सर सदर अस्पताल में 23 जुलाई को ली गई दो तस्वीरें बहुत तेजी से वायरल हो रही हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 27 Jul 2020, 01:38:23 PM
baby

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: फाइल फोटो)

बक्सर:  

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे के संसदीय क्षेत्र स्थित सदर अस्पताल से मानवता को शर्मसार करने वाली एक तस्वीर सामने आई है. बक्सर सदर अस्पताल में 23 जुलाई को ली गई दो तस्वीरें बहुत तेजी से वायरल हो रही हैं. तस्वीर में एक महिला ट्रे में अपने नवजात को ले रखा है और कंधे पर ऑक्सीजन सिलेंडर लिए एक व्यक्ति दिख रहा है. कांधे पर ये सिलेंडर कोई मामूली सिलेंडर नहीं, बल्कि बक्सर की स्वास्थ्य व्यवस्था की है, जहां कागजी कार्रवाई पूरी होते-होते एक नवजात की जान चली गई. पीड़ित व्यक्ति ने फोन पर निजी अस्पताल से लेकर सरकारी अस्पताल के बदइंतजामी की सारी कहानी सुनायी. वहीं, आनन-फानन में सिविल सर्जन ने डीएस को तो जिलाधिकारी ने उप विकास आयुक्त को पूरे मामले की जांच की जिम्मेवारी दे दी.

यह भी पढ़ें- पूरी दुनिया में हो रही दिल्ली मॉडल की चर्चा , अब अर्थव्यवस्था पर देना होगा ध्यान- सीएम केजरीवाल

अस्पताल के कर्मचारियों ने डिलिवरी कराने से कर दिया इनकार

बता दें कि राजपुर के सखुआना गांव के निवासी सुमन कुमार ने अपनी पत्नी को डिलीवरी के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया था, लेकिन अस्पताल के कर्मचारियों ने डिलिवरी कराने से इनकार कर दिया. जिसके बाद वो अपनी पत्नी को निजी अस्पताल में लेकर चला गया. वहां डिलीवरी तो हुई, लेकिन शिशु को सांस लेने में तकलीफ होने पर कर्मियों ने पिता के कंधे पर ऑक्सीजन का सिलेंडर और प्रसूता को ट्रे में नवजात को देकर सदर अस्पताल का रास्ता दिखा दिया. 18 किमी की दूरी तयकर लाचार दंपती सदर अस्पताल पहुंचे. जहां कागजी कार्यवाही पूरा करते-करते डेढ़ घंटे में ही नवजात ने दम तोड़ दिया.

यह भी पढ़ें- मैं झूठ नहीं बोलने वाला, चाहे मेरा भविष्य डूब जाए- भारत-चीन विवाद पर बोले राहुल

मामला सोशल मीडिया पर वायरल

अस्पताल प्रशासन की बेशर्मी यहीं नहीं रुकी. शव के साथ दपंती को घर भेजने के लिए अस्पातल प्रशासन की तरफ से कई इंतजाम भी नहीं किया गया. इस दौरान सदर अस्पताल में ही मौजूद किसी व्यक्ति ने इस घटना की दो तस्वीर खींचकर मीडिया को दे दिया. जिसके बाद ये मामला उजागर हो सका. सिविल सर्जन जितेंद्रनाथ ने बताया कि जांच के लिए डिप्टी सुपरिटेंडेंट को जिम्मेदारी दी गई है. इस मामले में जुड़े सभी दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

First Published : 27 Jul 2020, 01:36:41 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.