News Nation Logo
Banner

बिहार चुनाव: नीतीश ने खेला बड़ा दांव: रघुवंश प्रसाद के बेटे सत्य प्रकाश JDU में शामिल

रघुवंश प्रसाद के बेटे सत्य प्रकाश सिंह (Satya prakash singh) ने जेडीयू का दामन थाम लिया है. गुरुवार को जेडीयू कार्यालय में वशिष्ठ नारायण सिंह की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली.

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 08 Oct 2020, 06:05:05 PM
satya prash

नीतीश ने खेला बड़ा दांव: रघुवंश प्रसाद के बेटे सत्य प्रकाश JDU में शाम (Photo Credit: @Jduonline)

नई दिल्ली :

बिहार की सियासत नए-नए खबरों से लबरेज है. चुनावी मौसम में एक पार्टी को छोड़कर दूसरी पार्टी में जाने का सिलसिला भी जारी है. इस बीच एक बड़ी खबर ये आ रही है कि दिवंगत राजद (आरजेडी) नेता रघुवंश प्रसाद सिंह के बेटे जेडीयू (जदयू) में शामिल हो गए हैं.

रघुवंश प्रसाद जिन्होंने अपना पूरा जीवन लालू प्रसाद यादव के साथ गुजार दिया और अंतिम समय में तेजस्वी यादव के कदम से दुखी होकर आरजेडी छोड़ने का फैसला किया, उनके बेटे सत्य प्रकाश सिंह (Satya prakash singh) ने जेडीयू का दामन थाम लिया है. गुरुवार को जेडीयू कार्यालय में वशिष्ठ नारायण सिंह की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली.

खबर है कि वो चुनाव नहीं लड़ेंगे बल्कि गवर्नर कोटे से उन्हें एमएलसी बनाने की तैयारी चल रही है. सदस्यता ग्रहण समारोह में वशिष्ठ नारायण सिंह के अलावा कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी के अलावा कई और नेता भी मौजूद रहे.

इसे भी पढ़ें:Bihar Election 2020: LJP ने 42 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की, देखें किसे कहां से मिला मौका

जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने इस मौके पर कहा कि ये बहुत ख़ुशी का पल है. रघुवंश प्रसाद सिंह का व्यक्तित्व पाक साफ़ रहा, उन्होंने जहां भी काम किया अपनी अमिट छाप छोड़ी. अंतिम समय में उन्होंने सीएम नीतीश को काम के लिए पत्र लिखा था.

वहीं जेडीयू की सदस्यता लेने के बाद सत्य प्रकाश सिंह ने कहा कि मेरे पिताजी का कहना था कि परिवार में एक ही व्यक्ति को राजनीति में आना चाहिए. जब तक थे वो तब तक वहीं राजनीति में थे. उन्होंने कहा कि आरजेडी के मेनिफस्टो में गरीब सवर्ण आरक्षण हटाने से वो दुखी थे. उन्होंने लालू जी से बात की थी , तब लालू जी ने कहा था कि उसे ठीक कर लिया जाएगा.

और पढ़ें:15 सौ कार्यकर्ताओं के जख्मी होने पर बोले रविशंकर प्रसाद, बंगाल में लोकतंत्र नहीं, जनता चाहती है बदलाव

उन्होंने कहा कि पिताजी ने मरते समय जो पत्र लिखा, उसमें उन्होंने इशारा किया कि मैं राजनीति में आऊं.पिताजी श्रद्धेय कर्पूरी ठाकुर जी के आदर्शों को मानते थे.

First Published : 08 Oct 2020, 06:05:05 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो