News Nation Logo

सख्त नियमों की वजह से IPL के उद्घाटन में नहीं शामिल होंगे प्रदेश इकाइयों के प्रतिनिधि

बीसीसीआई आमतौर पर अपने प्रदेश संघों के अधिकारियों को आईपीएल समारोहों और प्लेआफ के लिये आमंत्रित करता है.

Bhasha | Updated on: 25 Aug 2020, 08:04:29 PM
ipl opening

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

भारतीय क्रिकेट बोर्ड की प्रदेश ईकाइयों के प्रतिनिधि यूएई में 19 सितंबर से शुरू हो रही इंडियन प्रीमियर लीग के ‘कम से कम शुरूआती चरण’ में नहीं जा सकेंगे क्योंकि जैविक सुरक्षित माहौल को लेकर कड़ी पाबंदियां लागू होंगी. बोर्ड सचिव जय शाह ने मंगलवार को सदस्य संघों को इसकी जानकारी दी. शाह ने उम्मीद जताई कि टूर्नामेंट के आखिरी चरण तक पाबंदियों में कुछ रियायत दी जायेगी जिससे सदस्य यूएई जा सकेंगे. आईपीएल का फाइनल 10 नवंबर को खेला जायेगा.

ये भी पढ़ें- बैट बनाने वाले बीमार अशरफ चौधरी की मदद के लिए आगे आए सचिन तेंदुलकर

बीसीसीआई आमतौर पर अपने प्रदेश संघों के अधिकारियों को आईपीएल समारोहों और प्लेआफ के लिये आमंत्रित करता है. शाह ने प्रदेश संघों को भेजे पत्र में लिखा ,‘‘मुझे यकीन है कि यह यादगार टूर्नामेंट होगा लेकिन टूर्नामेंट की शुरूआत में सभी सदस्यों की कमी खलेगी. जैसा कि आपको पता है बीसीसीआई आईपीएल के उद्घाटन समारोह और लीग मैचों में प्रदेश ईकाइयों के अध्यक्षों, सचिवों और अपने पूर्व पदाधिकारियों को बुलाता है.’’

ये भी पढ़ें- गिरफ्तारी के बावजूद इंग्लैंड की टीम में शामिल किए गए हैरी मैग्वायर

भारत में कोरोना वायरस महामारी की स्थिति को देखते हुए टूर्नामेंट यूएई में हो रहा है और सभी को बीसीसीआई के दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन करना होगा. फिलहाल सारी टीमें छह दिन के पृथकवास पर हैं. शाह ने कहा, ‘‘लोगों की गतिविधियों पर लगे कड़े प्रतिबंधों और स्वास्थ्य प्रोटोकॉल के चलते हम हमेशा की तरह सभी को आमंत्रित नहीं कर सकते , कम से कम टूर्नामेंट की शुरूआत में तो नहीं. कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिये संपर्क से बचना जरूरी है. यह एक और बलिदान हमें देना होगा. मुझे उम्मीद है कि प्लेऑफ चरण तक पहुंचते पहुंचते पाबंदियां कुछ कम होंगी और आप यूएई आ सकेंगे.’’

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 25 Aug 2020, 08:04:29 PM

For all the Latest Sports News, Indian Premier League News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.