News Nation Logo

NCB के निशाने पर ड्रग पेडलर्स, नहीं होगी रिया के खून की जांच

ड्रग एंगल की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने सुशांत सिंह राजपूत की प्रेमिका और मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के रक्त और नाखून के नमूने एकत्र नहीं करने के संकेत दिए हैं.

IANS | Updated on: 30 Aug 2020, 02:30:31 PM
Rhea Chakraborty

ड्रग एंगल में फंसती जा रही है रिया चक्रवर्ती. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में ड्रग एंगल की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने उनकी प्रेमिका और मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के रक्त और नाखून के नमूने एकत्र नहीं करने के संकेत दिए हैं. इसके अलावा एनसीबी उन ड्रग पेडलर्स का पता लगाने का काम करेगी, जिन्होंने कथित तौर पर रिया को ड्रग्स मुहैया कराई थी और यही जांच का मुख्य केंद्र बिंदु होगा. रिया के कुछ मैसेज चैट से यह बात सामने आई है कि वह कथित तौर पर ड्रग्स की अवैध रूप से सप्लाई करने वाले लोगों के संपर्क में थीं और उन्होंने कथित तौर पर सुशांत को ड्रग्स देने के लिए उनसे संपर्क रखा.

ड्रग्स एंगल सामने आने के बाद ही केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) के साथ ही अब एनसीबी भी सुशांत की मौत के मामले में जांच में जुट चुकी है. एक साक्षात्कार में रिया ने ड्रग्स सेवन का पता लगाने के लिए अपने खून का नमूना प्रस्तुत करने की इच्छा भी व्यक्त की, जैसा कि पहले उनके वकील ने भी इसका उल्लेख किया था. एनसीबी के एक शीर्ष सूत्र के मुताबिक ताजा नमूने से एक सप्ताह से अधिक समय के बाद रक्त में ड्रग्स की मौजूदगी का कभी पता नहीं लगाया जा सकता. रक्त का नमूना परीक्षण केवल तभी प्रभावी होता है जब यह एक सप्ताह के भीतर किया जाता है.

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस का आरोप- संदीप सिंह ने BJP ऑफिस किया 53 बार फोन

सूत्र के मुताबिक पहले से ही दो महीने से अधिक समय हो गया है. इसलिए एजेंसी को रक्त के नमूनों से कुछ भी नहीं मिलेगा. सुशांत के करीबी सिद्धार्थ पिठानी, सैमुएल मिरांडा, जया साहा और अन्य के साथ रिया की कथित चैट के बाद मामले में ड्रग एंगल सामने आया. रिया की ओर से वकील सतीश मानशिंदे ने दावा किया कि उन्होंने अपने जीवन में कभी ड्रग्स का सेवन नहीं किया और वह रक्त परीक्षण के लिए भी तैयार है.

एनसीबी के एक सूत्र ने कहा, 'हमारा मुख्य ध्यान ड्रग्स पेडलर्स, आपूर्तिकर्ताओं और उपयोगकर्ताओं की पहचान करना है, जिन्होंने मामले में नामित इन लोगों को ये ड्रग्स प्रदान की हैं. सूत्र ने कहा कि पेडलर्स के माध्यम से एजेंसी ड्रग्स आपूर्तिकताओं के मुख्य सरगना तक पहुंच जाएगी. इससे पहले एनसीबी द्वारा रिया, उनके भाई शोविक, टेलेंट मैनेजर साहा, सुशांत की सह-प्रबंधक श्रुति मोदी और गोवा स्थित होटल व्यवसायी गौरव आर्य के खिलाफ नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक अधिनियम में धारा 20 (बी) 28, 29 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

यह भी पढ़ेंः Sushant Case LIVE: सुशांत की बहनों पूछताछ करेगी CBI

ईडी ने रिया और श्रुति मोदी, मिरांडा और पिठानी के बीच व्हाट्सएप संदेशों के सामने आने के बाद एनसीबी को सूचित किया था, जिसके बाद उसने मामला दर्ज किया. जांच से जुड़े एनसीबी के सूत्रों ने कहा कि एजेंसी ने इस मामले में ड्रग्स की आपूर्ति के लिए गौरव आर्य, स्वेद लोहिया, क्वान एंटरटेनमेंट पार्टनर जया साहा, पूर्व बिग बॉस प्रतियोगी एजाज खान, फारुख बत्ता और बकुल चंदानी सहित अन्य 20 संदिग्धों की सूची तैयार की है.

सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने भी पिछले साल के कई व्हाट्सएप चैट के स्क्रीनशॉट साझा किए हैं, जहां अभिनेत्री रिया और उनके भाई शोविक किसी को डौबी का आर्डर देते हुए दिखाई दे रहे हैं. डौबी आमतौर पर गांजे की सिगरेट को कहा जाता है. श्वेता ने जो स्क्रीनशॉट शेयर किए हैं वो एनआईएफडब्ल्यू नाम के व्हाट्सएप ग्रुप के हैं. इस ग्रुप में आयुष, आनंदी सिद्धार्थ पिठानी, सैमुअल मिरांडा, रिया सहित कई नाम हैं. इस चैट में ज्यादातर लोगों की पहचान उनके नाम से हो रही है, लेकिन ये किसके मोबाइल की चैट है ये नहीं पता चल पाया है.

यह भी पढ़ेंः घाटी में आतंकी नेतृत्व विहीन! सुरक्षाबलों के आगे पाक की हर रणनीति फेल

सुशांत की बहन ने स्क्रीनशॉट साझा करते हुए उनके भाई की मौत के जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार करने की मांग भी की. इस बीच, डीआरडीओ के गेस्ट हाउस में लगातार दूसरे दिन सीबीआई की एसआईटी द्वारा रिया से पूछताछ की जा रही है, जहां दिल्ली से आने के बाद से एजेंसी के लोग मुंबई में रह रहे हैं. सीबीआई टीम को बीएमसी द्वारा अनिवार्य क्वारंटीन अवधि से छूट दी गई है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 30 Aug 2020, 02:30:31 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.