News Nation Logo
Banner

कल्पना चावला के बाद अब अंतरिक्ष यात्रा पर जाएगी भारत की बेटी सिरिशा बांदला

अमेरिकी अंतरक्षियान कंपनी वर्जिन गेलेक्टिक के मालिक रिचर्ड ब्रैनसन 11 जुलाई को अंतरिक्ष में जाएंगे. यात्रा में उनके साथ भारतीय मूल की सिरिशा बांदला भी होंगी.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 05 Jul 2021, 12:28:18 PM
Sirisha Bandla

कल्पना चावला के बाद अब अंतरिक्ष यात्रा पर जाएगी भारत की बेटी सिरिशा (Photo Credit: Virgin Galactic ( Twitter ))

न्यूयॉर्क:

भारत पूरी दुनिया में अपना परचम लहराता है. चाहे कोई भी क्षेत्र हो, किसी न किसी भारतीय का योगदान रहता ही है. अंतरिक्ष के क्षेत्र में भी भारतीय पीछे नहीं हैं और जब अंतरिक्ष यात्रा का जिक्र किया जाता है तो भारत की कल्पना चावला का नाम भी याद आता है. कल्पना चावला एक ऐसा नाम बन गईं, जिसने भारत और पूरी दुनिया में लड़कियों के सपनों को पंख लगा दिए थे. कल्पना चावला के बाद अब अंतरिक्ष का यात्रा करने वालों की लिस्ट में भारत की एक और बेटी का नाम शामिल होने जा रहा है. अमेरिकी अंतरक्षियान कंपनी वर्जिन गेलेक्टिक के मालिक रिचर्ड ब्रैनसन 11 जुलाई को अंतरिक्ष में जाएंगे. यात्रा में उनके साथ भारतीय मूल की सिरिशा बांदला भी होंगी.

यह भी पढ़ें : Facebook ने कट्टरता को रोकने के लिए उठाया ये बड़ा कदम 

सिरिशा कंपनी में सरकारी विभाग से संबंधित अधिकारी हैं. रिचर्ड के साथ पांच अन्य यात्री भी होंगे. सिरिशा अंतरिक्ष यात्रा पर जाने वाली दूसरी भारतीय महिला होंगी. ब्रैनसन का अंतरिक्ष यान न्यू मैक्सिको से उड़ान भरेगा. चालक दल के सभी सदस्य कंपनी के कर्मचारी होंगे. यह वर्जिन गेलेक्टिक की चौथी अंतरिक्ष उड़ान होगी. इससे पहले जेफ बेजोस की कंपनी ब्लू ओरिजिन ने घोषणा की थी कि बेजोस 20 जुलाई को अंतरिक्ष में जाएंगे.

अंतरिक्ष के सफर हो लेकर सिरिशा काफी खुश हैं. उन्होंने ट्विटर पर अपनी खुशी साझा भी की. सिरिशा बांदला ने ट्विटर पर लिखा, 'मैं यूनिटी 2022 के दल और ऐसी कंपनी का हिस्सा बनने के लिए अविश्वसनीय रूप से सम्मानित महसूस कर रही हूं, जिसका मिशन सभी के लिए जगह उपलब्ध कराना है.'

यह भी पढ़ें : पृथ्वी की तरफ तेजी से बढ़ रहा है विशालकाय उल्कापिंड, यह है तबाही की तारीख!

बता दें कि सिरिशा बांदला का जन्म आंध्र प्रदेश में हुआ था. सिरिशा की शिक्षा अमेरिका के ह्यूस्टन में हुई थी. उन्होंने वैमानिकी के साथ-साथ वैमानिकी इंजीनियरिंग का भी अध्ययन किया क्योंकि उनकी अंतरिक्ष विज्ञान में रुचि थी. बाद में उन्होंने जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी से एमबीए किया. इसके बाद उन्होंने CASF के स्पेस पॉलिसी डिवीजन में काम किया, जो स्पेसफ्लाइट कंपनियों में से एक था.

कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय बेटी

इससे पहले कल्पना चावला अंतरिक्ष में गई थीं. दुर्भाग्य से दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई. कल्पना चावला ने 16 जनवरी 2003 को स्पेस शटल कोलंबिया से अंतरिक्ष में दूसरी बार उड़ान भरी थी. मगर यह उड़ान अंतिम साबित हुई थी, क्योंकि मिशन के बाद पृथ्वी पर लौटते हुए 1 फरवरी 2003 को उनका यान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. चालक दल के अन्य छह सदस्यों के साथ उनकी मौत हो गई थी. 1995 में कल्पना अमेरिका के अंतरिक्ष एजेंसी नासा में अंतरिक्ष यात्री के तौर पर शामिल हुईं. 1998 में उन्हें अपनी पहली उड़ान के लिए चुना गया. कल्पना ने अंतरिक्ष के लिए पहली उड़ान 19 नवंबर 1997 को भरी थी. बता दें कि कल्पना चावला का जन्म 1 जुलाई 1961 को हरियाणा के करनाल कस्बे में हुआ था. 

First Published : 05 Jul 2021, 12:28:18 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.