News Nation Logo
Banner

Dhan Devta Kuber Kripa on Palmistry: अगर हाथों में होते हैं ये निशान, धन के देवता कुबेर रहते हैं मेहरबान

News Nation Bureau | Edited By : Megha Jain | Updated on: 31 Mar 2022, 09:44:38 AM
Dhan Devta Kuber Hastrekha

Dhan Devta Kuber Hastrekha (Photo Credit: social media)

नई दिल्ली:  

लोगों की किस्मत उनके हाथों की लकीरों में छिपी होती है. ऐसा ही कुछ हस्तरेखा शास्त्र (hastrekha shastra) में भी बताया गया है. हस्तरेखा शास्त्र में हथेली की रेखाएं, चिह्न और पर्वतों का अध्ययन किया जाता है. जिसके बाद भविष्यवाणी की जाती है. हस्तरेखा शास्त्र (palm rahu line) के जानकार मानते हैं कि हाथ की रेखाएं कर्म के अनुसार बदलती (palmistry) रहती हैं. जन्म से लेकर मृत्यु तक रेखाएं बदलती रहती हैं. हस्तरेखा शास्त्र के मुताबिक हाथ की कुछ रेखाएं और खास चिह्न आर्थिक स्थिति को दर्शाती है. ऐसे में जानते हैं कि हथेली की कौन-सी रेखाएं धनवान (surya parvat in hand) होने का संकेत देती हैं.   

यह भी पढ़े : Sai Baba Aarti: गुरुवार को करेंगे साईं बाबा की ये आरती, दूर हो जाते हैं जीवन के दुख और परेशानी

कुबेर की कृपा (kuber kripa) 

हस्तरेखा शास्त्र के मुताबिक गुरु यानी बृहस्पति पर्वत पर बना स्क्वायर का निशान व्यक्ति को गुणवान बनाता है. जिनकी हथेली में गुरु पर्वत पर ऐसी स्थिति बनती है, ऐसे लोग कुशल प्रशासक होते हैं. इसके अलावा ऐसे लोग गरीब घर में जन्म लेने के बावजूद भी अपनी मेहनत से उच्च (surya parvat) पद हासिल करते हैं.  

यह भी पढ़े : Palmistry: हाथों में अगर होती हैं ये रेखा, झेलनी पड़ती है पैसों की तंगी और ढोना पड़ता है कर्ज का बोझा

हस्तरेखा शास्त्र के मुताबिक सकारात्मक और नकारात्मक काम से भी हथेली की रेखाओं पर असर पड़ता है. हथेली में राहु क्षेत्र पर त्रिभुज का होना अत्यंत शुभ माना जाता है. जिन लोगों की हथेली में राहु क्षेत्र पर त्रिभुज होता है. उन्हें जीवन में पैसों की कमी का सामना कभी नहीं करना पड़ता है. ऐसे लोगों पर मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है. इसके अलावा राहु पर्वत पर त्रिभुज का निशान बिजनेस में उन्नति का भी संकेत देता है. ऐसे लोग अपनी बुद्धि से धन अर्जित करते हैं. इसके साथ ही ऐसे लोग जीवन में धन कुबेर होते हैं. राहु पर्वत पर त्रिभुज को मनी ट्राइएंगल (dhan devta kuber kripa) के नाम से भी जाना जाता है.

यह भी पढ़े : Shardiya and Chaitra Navratri Difference: चैत्र और शारदीय नवरात्रि के बीच का अंतर ला सकता है व्रत पालन में बदलाव

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, सूर्य पर्वत पर बना त्रिकोण शुभ होता है. सूर्य पर्वत पर त्रिभुज होने से लोग ज्ञानी और संगीत में निपुण होते हैं. ऐसे लोग बचपन में कितने भी निर्धन क्यों ना हो, लेकिन वे अपनी मेहनत के दम पर बेहिसाब पैसा हासिल करते हैं. इसके साथ ही ऐसे लोग जिस क्षेत्र में काम करते हैं, उसमें अपार प्रसिद्धि हासिल (palm rahu area) करते हैं. 

First Published : 31 Mar 2022, 09:42:11 AM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.