News Nation Logo
Banner

2 करोड़ 55 लाख रुपये में बिका महात्मा गांधी का चश्मा! ब्रिटेन में हुई थी नीलामी

ऐसा बताया जाता है कि इस चश्मे को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने पहना था जिसके बाद उन्होंने इस चश्मे को तोहफे में किसी को दे दिया था.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 22 Aug 2020, 06:47:03 PM
mahatma gandhi

महात्मा गांधी (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

ब्रिटेन (Britain) में हुई नीलामी में एक चश्मा 2,60,000 पौंड (करीब दो करोड़ 55 लाख रुपये) में बिका है. ऐसा बताया जाता है कि इस चश्मे को महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) ने पहना था, जिसके बाद उन्होंने किसी को तोहफे में इसे दे दिया था. इस चश्मे पर सोने की परत भी चढ़ी हुई है. जब इसे नीलामी के लिए रखा गया था तो उम्मीद की जा रही थी कि इसे 10,000 से 15,000 पौंड तक मिल जाएंगे. लेकिन ऑनलाइन नीलामी में बोली बढ़ती ही चली गई और अंततः छह अंकों पर जाकर रुकी.

ये भी पढ़ें- कोरोना की चपेट में न आए कोई गरीब, काढ़ा बनाकर मुफ्त में बांट रहे हैं वंशराज

ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शन्स के नीलामीकर्ता एंडी स्टोव ने शुक्रवार को बोली लगाने की प्रक्रिया का समापन करते हुए कहा, “अविश्वसनीय चीज का अविश्वसनीय दाम! जिन्होंने बोली लगाई उन सभी का धन्यवाद.” उन्होंने कहा, “इन चश्मों ने न केवल हमारे लिए नीलामी का कीर्तिमान बनाया है बल्कि यह ऐतिहासिक रूप से भी महत्वपूर्ण हैं. विक्रेता ने कहा था कि यह चीज दिलचस्प है लेकिन इसका कोई मूल्य नहीं है और यदि यह बिकने लायक न हो तो इसका निस्तारण कर दें.”

ये भी पढ़ें- घुमक्कड़ों के लिए दिल्ली से लंदन तक चलेगी बस, 18 देशों से होते हुए 70 दिनों में पूरा होगा सफर

स्टोव ने कहा, “मुझे लगता है, नीलामी का मूल्य देखकर उसके आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा होगा. यह अद्भुत नीलामी थी. ऐसी जिसकी हम कल्पना करते हैं.” चश्मों के नए अनाम मालिक दक्षिण पश्चिमी इंग्लैंड के साउथ ग्लूसेस्टरशायर के मंगोट्सफील्ड के एक वृद्ध हैं जो अपनी बेटी के साथ मिलकर 2,60,000 पौंड का भुगतान करेंगे.

ये भी पढ़ें- दरिंदे ने 7 साल के बच्चे के साथ बनाए अप्राकृतिक संबंध, मामला जान पैरों तले खिसक जाएगी जमीन

विक्रेता के परिवार के पास यह चश्मा काफी पहले से था. उनके पिता ने उन्हें बताया था कि उनके एक रिश्तेदार को यह तोहफे में मिला था जब वह दक्षिण अफ्रीका में 1910 से 1930 के बीच ब्रिटिश पेट्रोलियम में काम करते थे. चश्मों की प्रमाणिकता के बारे में स्टोव ने बताया, “विक्रेता ने जो कहानी बताई वह एकदम वैसी ही प्रतीत होती है जो उनके पिता ने उन्हें 50 साल पहले सुनाई थी.” माना जा रहा है कि दक्षिण अफ्रीका में शुरुआती वर्षों में गांधी जी के पास यही चश्मा था.

First Published : 22 Aug 2020, 06:47:03 PM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.