News Nation Logo
Banner

कल होगा सुशांत सिंह राजपूत की मौत का सच उजागर, CBI और मेडिकल बोर्ड की होगी बैठक

Sushant singh rajput case: इस मामले में मंगलवार को एम्स के मेडिकल बोर्ड और सीबीआई की बैठक होनी है. इस बैठक में सुशांत की मौत का सच सामने आ सकता है.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 21 Sep 2020, 11:05:21 AM
sushant

कल होगा सुशांत की मौत का सच उजागर, CBI और मेडिकल बोर्ड की होगी बैठक (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

देशभर की निगाहें मंगलवार को आने वाली सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की विसरा रिपोर्ट पर टिकी है. यह रिपोर्ट सुशांत की मौत को नई दिशा देगी. सीबीआई की जांच आगे किस दिशा में चलेगी यह एम्स की मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद तय होगा. सुशांत की मौत मामले में सीबीआई की एसआईटी (SIT) के जांचकर्ता और मेडिकल बोर्ड (Medical Board) के अधिकारी मंगलवार को एक बैठक करेंगे. जानकारी के मुताबिक मेडिकल बोर्ड की तरफ से दिल्‍ली स्थित एम्स अस्पताल में फॉरेंसिक जांच विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता (Dr. Sudhir Gupta) इस टीम को लीड करेंगे.

यह भी पढ़ेंः राज्यसभा में हंगामे को लेकर 8 सांसदों पर बड़ी कार्रवाई, सप्ताह भर के लिए सस्पेंड

सीबीआई की सीएफएसएल (CFSL) यानी सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरीज़ की फाइंडिंग और सीबीआई (CBI) की एसआईटी (SIT) द्वारा इस मामले में अब तक हुई जांच की रिपोर्ट को देखा जाएगा. सीबीआई इस मामले में अभी तक की अपनी जानकारी मेडिकल बोर्ड को देखी. यह बोर्ड अभी तक की अपनी जानकारी और सुशांत के विसरा की रिपोर्ट को लेकर इस मामले में अपना ओपीनियन (अंतिम सलाह ) सीबीआई को देगा.

यह भी पढे़ंः रवि किशन ने लोकसभा में उठाया बेटियों के यौन शोषण का मुद्दा, बोले- मैं भी पिता हूं

एम्स के फॉरिंसक विभाग ने सीबीआई की मांग के बाद सुशांत के विसरा की जांच की है. इस मामले को लेकर पहले 20 सितंबर को ही बैठक होनी थी लेकिन इसे कुछ कारणों को लेकर टाल दिया गया था. सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को होने वाली बैठक सीबीआई मुख्यालय में हो सकती है. सीबीआई की सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरीज़ (CFSL) में सुशांत सिंह की मौत के बाद मुंबई पुलिस के द्वारा संरक्षित किए गए विसरा नमूने को जांचा गया था. इसके साथ ही दिल्ली के सीजीओ कॉम्पलेक्स स्थित सीएफएसएल लैब में विसरा, जिसमें अंतर्गत प्रमुख तौर पर अग्नाशय , आंत सहित जिगर और शरीर के कुछ अन्य आंतरिक अंगों के हिस्से को एक नमूने के तौर पर कई बोतलों में संरक्षित करती है, उसके बाद ही उन विसरा नमूनों को विषाक्तता या नशा से मुक्त संबंधित जांच के मसलों के लिए फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए मुंबई स्थित लैब में जांचा गया, उसके बाद अब सीबीआई की लैब उस नमूनों से संबंधित जांच कर रही है.

First Published : 21 Sep 2020, 11:05:21 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.