News Nation Logo

प्रियंका ने की आशा कार्यकर्ताओं से मुलाकात, बोलीं, सरकार आने पर दस हजार प्रतिमाह का मानदेय

प्रियंका ने की आशा कार्यकर्ताओं से मुलाकात, बोलीं, सरकार आने पर दस हजार प्रतिमाह का मानदेय

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Nov 2021, 10:25:01 PM
Priyanka Gandhi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लखनऊ: कांग्रेस के महासचिव प्रियंका गांधी ने मंगलवार को शाहजहांपुर में कथित तौर पर पुलिस की पिटाई की शिकार आशा कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। लखनऊ आवास पर पीड़ित आशा कर्मचारियों का प्रतिनिधिमंडल प्रियंका से मिलने पहुंचा तो उन्होंने हर तरह की मदद का आश्वासन दिया।

प्रियंका गांधी ने उन्हें हर संभव कानूनी मदद का आश्वासन देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी आशा बहनों के मानदेय के हक और उनके सम्मान के प्रति प्रतिबद्ध है और सरकार बनने पर आशा बहनों को दस हजार प्रतिमाह का मानदेय दिया जायेगा।

यूपी कांग्रेस के मीडिया विभाग के वाइस चेयरमैन पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी लखनऊ पहुंचने के तुरंत बाद अपने आवास पर आशा बहनों से मुलाकात की। इनमें कुछ बुरी तरह घायल थीं और उन्हें प्लास्टर भी बंधा हुआ था। उन्होंने बताया कि उन्हें 2018 से अपना बकाया नहीं मिला है जिसकी मांग को लेकर वे दो दिन पहले शाहजहांपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने जा रही थीं, लेकिन उन्हें पुलिस ने रास्ते में रोककर बुरी तरह पीटा। पिटाई करने वालों में महिला ही नहीं पुरुष पुलिसकर्मी भी थे। उनकी जिस तरह पिटाई की गयी, वैसा तो जानवरों को भी नहीं पीटा जाता। कुछ बहनों ने रोते हुए कहा कि उन्होंने कोरोना काल में घर-घर जाकर दवाइयां और रिपोर्ट बांटी लेकिन बदले में योगी सरकार ने पुलिस पिटाई का ईनाम दिया। यही नहीं, दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई न करके आशा बहनों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में एफआईआर दर्ज करा दी गयी है।

प्रियंका ने आशा बहनों के साथ सहानुभूति जताते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी उनके हक की लड़ाई में हर कद़म पर साथ देगी और कानूनी लड़ाई में भी पूरी मदद करेगी। प्रियंका ने कहा कि कोरोना काल में आशा बहनों ने अपनी जान जोखिम में डालकर पीड़ित जनों की मदद की। इसके लिए उन्हें सरकार के स्तर पर अतिरिक्त सराहना मिलनी चाहिए थी, लेकिन संवेदनहीन सरकार उनकी पिटाई कर रही है। आशा बहनों पर किया गया एक-एक वार उनके समर्पण और निष्ठा का अपमान है।

उन्होंने कहा कि मानदेय पाना आशा बहनों का हक है और उनकी बात सुनना सरकार का कर्तव्य। आशा बहुओं के साथ हुआ बर्बर व्यवहार यूपी की महिलाओं का अपमान है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने नारा दिया है कि लड़की हूं, लड़ सकती हूं और आशा बहने अपने साथ हुई क्रूरता का जवाब अपनी लड़ाई से देंगी। यूपी में कांग्रेस की सरकार बनने पर आशा बहनों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दस हजार रुपये का मानदेय दिया जायेगा।

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को शाहजहांपुर गए थे। सीएम योगी की सभा के पहले आशा कार्यकर्ता मानदेय और पदोन्नति की मांग को लेकर उनसे मिलने के लिए गई थीं। उन्हें सभा में जाने से रोका गया और थाने ले जाया गया। आरोप है कि पुलिस ने आशा कार्यकर्ताओं की पिटाई की गई।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Nov 2021, 10:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.