News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

ईस्ट एशिया समिट में शामिल हुए PM मोदी, समावेशी इंडो-पैसिफिक पर जोर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने आज यानी बुधवार को 16वें पूर्वी-एशिया शिखर सम्मेलन ( 16th East Asia Summit ) में भाग लिया. पीएम मोदी ने इस दौरान खुले और समावेशी इंडो-पैसिफिक ( Indo-Pacific  ) पर जोर दिया

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 28 Oct 2021, 12:08:26 AM
PM Narendra Modi

PM Narendra Modi (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने आज यानी बुधवार को 16वें पूर्वी-एशिया शिखर सम्मेलन ( 16th East Asia Summit ) में भाग लिया. पीएम मोदी ने इस दौरान खुले और समावेशी इंडो-पैसिफिक ( Indo-Pacific  ) पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि खुला हिंद प्रशांत क्षेत्र और साउथ- ईस्ट एशियाई राष्ट्रों के संगठन आसियान ( ASEAN  ) की केंद्रीयता का समर्थन भारत के व्यापक दृष्टिकोण के मूल केंद्र में है. आपको बता दें कि एशिया शिखर सम्मेलन का आयोजन डिजीटल प्लेटफॉर्म पर हुआ. सम्मेलन की मेजबानी ब्रुनेई के सुल्तान हसनल बोलकिया ने की. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत इंटरनेशनल लॉ और सभी राष्ट्रों की क्षेत्रीय एकता के लिए प्रतिबद्ध है. 

यह भी पढ़ें: समीर वानखेड़े को हटाने की मांग करने वालों को झटका, बने रहेंगे जांच अधिकारी, लेकिन...

आपको बता दें कि इससे पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र को खुला व समावेशी बनाने के भारत के विजन को दोहराया था. 13वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के दौरान बहुपक्षीय सहयोग बढ़ाने की आवश्यकता बताई थी. मोदी ने शिखर सम्मेलन के बाद ट्वीट के जरिए कहा था, "सिंगापुर में पूर्वी एशिया शिखर-सम्मेलन में मैंने सदस्य देशों के बीच बहुपक्षीय सहयोग, आर्थिक व सांस्कृतिक संबंध बढ़ाने का अपना विचार साझा किया."

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी के बयान पर BJP का पलटवार, Pegasus पर क्यों कोर्ट नहीं गई कांग्रेस?

विदेश मंत्रालय की ओर जारी बयान में बताया गया था कि मोदी ने शांत, खुला व समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र के भारत के विजन को दोहराया और समुद्री क्षेत्र में सहयोग मजबूत करने व संतुलित क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) की प्रतिबद्धता पर बल दिया. पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन हिंद-प्रशांत क्षेत्र के प्रमुख नेताओं का एक मंच है. इसमें दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्र संगठन (आसियान) के 10 सदस्य देश-ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, सिंगापुर, थाईलैंड, फिलीपींस और वियतनाम और इसके आठ संवाद साझेदार-भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और रूस शामिल हैं.

First Published : 27 Oct 2021, 10:47:09 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.