News Nation Logo

बच्चों को कोरोना से बचाने में 'गेम चेंजर' बनेगी भारत में बनी नेज़ल वैक्सीन

भारत में बनी नेज़ल वैक्सीन बच्चों के लिए गेम चेंजर साबित हो सकती है. इसे बच्चों में लगाना आसान होगा.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 23 May 2021, 12:01:32 PM
Saumya Swaminathan

अभी दुनिया भर में 12 साल से कम के बच्चों को नहीं लगाई जा रही वैक्सीन. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • फिलहाल दुनिया में 12 से कम साल के बच्चों को नहीं लग रही कोरोना वैक्सीन
  • ऐसे में भारत में कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी, जो बनाएगी बच्चों को शिकार
  • ऐसे में डब्ल्यूएचओ का मानना है कि गेमचेंजर होगी भारत में बन रही नेजल वैक्सीन

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण की दूसरी लहर का कहर झेल रहे भारत में बच्चों को सर्वाधिक प्रभावित करने की आशंका जताने वाली तीसरी लहर को लेकर वैज्ञानिक चेतावनी जारी कर चुके हैं. बच्चों को प्रभावित करने की आशंका के बीच यह जानना कम जरूरी नहीं होगा कि दुनिया में 12 साल से कम उम्र के बच्चों को फिलहाल कोरोना की वैक्सीन (Vaccine) नहीं लगाई जा रही है. वह भी तब जब देश में 18 साल से कम उम्र के लोगों के लिए किसी भी वैक्सीन को हरी झंडी नहीं मिली है. ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन (Saumya Swaminathan) ने कहा है कि कोराना की नेज़ल वैक्सीन बच्चों के लिए गेमचेंजर साबित हो सकती है. 

कहीं ज्यादा प्रभावी है नेजल वैक्सीन
गौरतलब है कि इस तरह की वैक्सीन नाक के ज़रिये दी जाती है. माना जा रहा है कि ये इंजेक्शन वाली वैक्सीन के मुकाबले ज्यादा असरदार है. साथ ही इसे लेना भी आसान है. ऐसे में सीएनएन-न्यूज़ 18  से बातचीत में सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा स्कूल टीचर को वैक्सीन लगाने की जरूरत है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बच्चों को तभी स्कूल भेजना चाहिए जब कम्युनिटी ट्रांसमिशन का खतरा कम हो. स्वामीनाथन ने आगे कहा, 'भारत में बनी नेज़ल वैक्सीन बच्चों के लिए गेम चेंजर साबित हो सकती है. इसे बच्चों में लगाना आसान होगा. साथ ही ये रेस्पिरेटरी ट्रैक में इम्यूनिटी बढ़ाएगी.'

यह भी पढ़ेंः मई में पहली बार 2.50 लाख से कम मिले कोरोना केस, मौत भी घटी

बच्चों पर खतरा कम
केंद्र सरकार ने शनिवार को कहा कि बच्चे संक्रमण से सुरक्षित नहीं हैं, लेकिन ये भी कहा कि फिलहाल वायरस का असर बच्चों पर कम हो रहा है. दुनिया और देश के आंकड़ों पर नजर डालें तो सिर्फ 3-4 फीसदी बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराने की नौबत आती है. नीति आयोग (स्वास्थ्य) के सदस्य वीके पॉल ने कहा, 'अगर बच्चे कोविड से प्रभावित होते हैं, तो या तो कोई लक्षण नहीं होंगे या कम से कम लक्षण होंगे. उन्हें आम तौर पर अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं होती है. लेकिन हमें 10-12 साल के बच्चों पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है'

यह भी पढ़ेंः  Alert: नए वेरिएंट पर कोरोना वैक्सीन असरदार, लेकिन एक डोज नाकाफी

भारत बायोटेक कर रही ट्रायल
हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक कंपनी ने नेज़ल वैक्सीन का ट्रायल शुरू कर दिया है. इस वैक्सीन के जरिए नाक के जरिए डोज दी जाएगी, जो कोरोना को मात देने में कारगर साबित हो सकती है. कंपनी के मुताबिक नेजल स्प्रे की सिर्फ 4 बूंदों की जरूरत होगी. नाक के दोनों छेदों में दो-दो बूंदें डाली जाएंगी. क्लीनिकल ट्रायल्स रजिस्ट्री के अनुसार, 175 लोगों को नेजल वैक्सीन दी गई है. इन्हें तीन ग्रुप में बांटा गया है. पहले और दूसरे ग्रुप में 70 वालंटियर रखे गए हैं और तीसरे में 35 वालंटियर रखे गए हैं. ट्रायल के नतीजे अभी आने बाक़ी है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 23 May 2021, 11:07:50 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो