News Nation Logo
प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट किया जा रहा है: सत्येंद्र जैन कोविड का नया वेरिएंट ओमीक्रॉन चिंता का विषय है: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से कोविड मामले और पॉजिटिविटी रेट काफी कम है: सत्येंद्र जैन आंदोलनकारी किसानों की मौत और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में नारेबाजी की गृहमंत्री अमित शाह आज यूपी दौरे पर रहेंगे दिल्ली में आज भी प्रदूषण का स्तर काफी खराब, AQI 342 पर पहुंचा बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, मुंबई BJP के एक नेता ने दर्ज कराई FIR यूपी सरकार ने भी ओमीक्रॉन को लेकर कसी कमर, बस स्टेशन- रेलवे स्टेशन पर होगी RT-PCR जांच

अब शिक्षा मंत्रालय के नाम से पहचाना जाएगा HRD मंत्रालय, नई शिक्षा नीति को मोदी कैबिनेट की मंजूरी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) हमेशा कुछ नया करने के लिए जाने जाते हैं. अपने कार्यकाल में उन्होंने कई मंत्रालयों के नाम में बदलाव किया है. इसी कड़ी में मोदी कैबिनेट ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD Ministry) का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय (Education Ministry) करने का फैसला लिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 29 Jul 2020, 01:21:41 PM
Modi Cabinet

अब शिक्षा मंत्रालय के नाम से पहचाना जाएगा HRD मंत्रालय (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) हमेशा कुछ नया करने के लिए जाने जाते हैं. अपने कार्यकाल में उन्होंने कई मंत्रालयों के नाम में बदलाव किया है. इसी कड़ी में मोदी कैबिनेट ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD Ministry) का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय (Education Ministry) करने का फैसला लिया है. इस बैठक के दौरान मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को भी मंजूरी दे दी है. इसके बारे में विस्तृत जानकारी सरकार की ओर से शाम 4 बजे होने वाली कैबिनेट ब्रीफिंग में दी जाएगी.

यह भी पढ़ेंः Rafale Live: काउंटडाउन शुरू, राफेल ने यूएई से अंबाला के लिए भरी उड़ान

कैबिनेट बैठक में मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया था कि मंत्रालय का मौजूदा नाम बदल कर शिक्षा मंत्रालय कर दिया जाए. इस प्रस्ताव पर मोदी कैबिनेट ने मुहर लगा दी है. इस फैसले के साथ ही 34 साल बाद नई शिक्षा नीति को भी मंजूरी दे दी गई है. अब पूरे उच्च शिक्षा क्षेत्र के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी होगी ताकि शिक्षा क्षेत्र में अव्यवस्था को खत्म किया जा सके.

यह भी पढ़ेंः देश में 15 लाख के पार पहुंची कोरोना मरीजों की संख्या, 24 घंटों में 768 लोगों की मौत

ये होगा फायदा
शिक्षा मंत्रालय ने उच्च शिक्षा के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी 'नेशनल हायर एजुकेशन रेगुलेटरी अथॉरिटी (एनएचईआरए) या हायर एजुकेशन कमिशन ऑफ इंडिया' तय किया है. राष्ट्रीय शिक्षा नीति का निर्माण 1986 में किया गया था और 1992 में इसमें कुछ बदलाव किए गए थे. तीन दशक बाद भी कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है.

First Published : 29 Jul 2020, 12:28:44 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.