News Nation Logo
Banner

'हिंदू राष्ट्र कोई राजनीतिक संकल्पना नहीं, भारत में 130 करोड़ लोग हिंदू'

संघ के हिंदू राष्ट्र कहने के पीछे कोई राजनीतिक और सत्ता केंद्रित संकल्पना नहीं होती. संघ मानता है कि हिंदू शब्द, भारत वर्ष को अपना मानने वाले सभी 130 करोड़ बंधुओं पर लागू होता है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 25 Oct 2020, 11:50:28 AM
Mohan Bhagwat

मोहन भागवत ने स्पष्ट की हिंदू औऱ हिंदुत्व की अवधारणा. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नागपुर:

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने हिंदू, हिंदुत्व और हिंदू राष्ट्र के मुद्दे पर संघ का दृष्टिकोण स्पष्ट किया है. उन्होंने कहा है कि संघ के हिंदू राष्ट्र कहने के पीछे कोई राजनीतिक और सत्ता केंद्रित संकल्पना नहीं होती. संघ मानता है कि हिंदू शब्द, भारत वर्ष को अपना मानने वाले सभी 130 करोड़ बंधुओं पर लागू होता है. नागपुर (Nagpur) के रेशिमबाग से संघ के विजयादशमी उत्सव को रविवार को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने कहा, देश की एकात्मता व सुरक्षा के हित में 'हिंदू' शब्द को आग्रहपूर्वक अपनाकर, उसके स्थानीय तथा वैश्विक, सभी अर्थों को कल्पना में समेटकर संघ चलता है. संघ जब 'हिंदुस्तान हिंदू राष्ट्र है' इस बात का उच्चारण करता है तो उसके पीछे कोई राजनीतिक अथवा सत्ता केंद्रित संकल्पना नहीं होती.ॉ

यह भी पढ़ेंः विजयदशमी पर मोहन भागवत बोले- भारत के जवाब से सहमा चीन

पूजा पद्धित से जोड़ संकुचित किया गया हिंदू
मोहन भागवत ने कहा कि 'हिंदुत्व' ऐसा शब्द है, जिसके अर्थ को पूजा से जोड़कर संकुचित किया गया है. संघ की भाषा में उस संकुचित अर्थ में उसका प्रयोग नहीं होता. वह शब्द अपने देश की पहचान को, अध्यात्म आधारित उसकी परंपरा के सनातन सातत्य तथा समस्त मूल्य सम्पदा के साथ अभिव्यक्ति देने वाला शब्द है. मोहन भागवत ने कहा, संघ मानता है कि 'हिंदुत्व' शब्द भारतवर्ष को अपना मानने वाले, उसकी संस्कृति के वैश्विक व सर्वकालिक मूल्यों को आचरण में उतारने वाले तथा यशस्वी रूप में ऐसा करके दिखाने वाली उसकी पूर्वज परम्परा का गौरव मन में रखने वाले सभी 130 करोड़ समाज बन्धुओं पर लागू होता है.

यह भी पढ़ेंः विजयदशमी पर जवानों के साथ रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने किया शस्त्र पूजन

हिंदू समस्त राष्ट्र का प्रतीक
मोहन भागवत ने कहा कि 'हिंदू' शब्द के विस्मरण से हमको एकात्मता के सूत्र में पिरोकर देश व समाज से बांधने वाला बंधन ढीला होता है. इसीलिए इस देश व समाज को तोड़ने की चाह रखने वाले, हमें आपस में लड़ाने वाले, इस शब्द को, जो सबको जोड़ता है, अपने तिरस्कार व टीका टिप्पणी का पहला लक्ष्य बनाते हैं. उन्होंने कहा, हिंदू किसी पंथ, संप्रदाय का नाम नहीं है, किसी एक प्रांत का अपना उपजाया हुआ शब्द नहीं है, किसी एक जाति की बपौती नहीं है, किसी एक भाषा का पुरस्कार करने वाला शब्द नहीं है. समस्त राष्ट्र जीवन के सामाजिक, सांस्कृतिक, इसलिए उसके समस्त क्रियाकलापों को दिग्दर्शित करने वाले मूल्यों का व उनके व्यक्तिगत, पारिवारिक, व्यवसायिक और सामाजिक जीवन में अभिव्यक्ति का नाम 'हिंदू' शब्द से निर्दिष्ट होता है.

First Published : 25 Oct 2020, 11:50:28 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो