News Nation Logo
कर्नाटकः कोडागू जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में 32 बच्चे कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई जम्मू-कश्मीरः डोडा में खाई में गिरी मिनी बस, 8 लोगों की मौत आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

भारत का लक्ष्य उन्नत होना है, मगर पर्यावरण की कीमत पर नहीं : हरदीप पुरी

भारत का लक्ष्य उन्नत होना है, मगर पर्यावरण की कीमत पर नहीं : हरदीप पुरी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 12 Oct 2021, 12:35:02 AM
Hardeep Singh

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि भारत का लक्ष्य विकसित देशों की तरह आर्थिक विकास हासिल करना है, लेकिन वह उनके विकास के रास्ते की नकल नहीं करेगा, क्योंकि वह पर्यावरण की कीमत से वाकिफ है।

उन्होंने कहा, भारत देश के परिवर्तन में अपने शहरों के महत्व को पहचानता है, क्योंकि 2030 तक भारत के शहरी क्षेत्रों के राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद में 70 प्रतिशत तक योगदान करने की उम्मीद है। हमें अपनी आर्थिक आकांक्षाओं को प्राप्त करना होगा और अपनी पर्यावरणीय जिम्मेदारियों को महसूस करना होगा।

उन्होंने संयुक्त राष्ट्र विश्व पयार्वास दिवस 2021 पर एक कार्यक्रम में कार्बन मुक्त दुनिया के लिए शहरी कार्रवाई में तेजी विषय पर अपने संबोधन में नई और नवीन निम्न-कार्बन प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देने का आह्वान किया।

आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, मंत्रालय का लक्ष्य ऐसी तकनीकों को विकसित करना है जो सभी के लिए आवास, सेवा वितरण और बेहतर गतिशीलता सुनिश्चित करें, और लोगों को अधिक कार्बन पदचिह्न् पैदा किए बिना, स्थायी शहरी विकास में सबसे आगे रखें।

पुरी ने कहा, एक कार्बन मुक्त विश्व के लिए शहरी कार्य में तेजी न केवल उपयुक्त है, बल्कि भारत के संदर्भ में भी बहुत प्रासंगिक है। बढ़ते वैश्विक शहरी पदचिह्न् शहरों में अधिक ऊर्जा की मांग करते हैं जो पहले से ही ग्रीनहाउस गैस (जीएचजी) उत्सर्जन वैश्विक ऊर्जा खपत के 78 प्रतिशत और 70 प्रतिशत ऊर्जा खपत के लिए जिम्मेदार हैं।

उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन मानव बस्तियों को कमजोर बनाता है, विशेष रूप से हाशिए पर रहने वाले और शहरी गरीबों के लिए, जो अत्यधिक मौसम की घटनाओं के संपर्क में हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 12 Oct 2021, 12:35:02 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो