News Nation Logo

Google ने डूडल बना याद किया सरला ठुकराल को, जानें कौन थीं यह खास महिला

सरला ठुकराल ने 21 साल की उम्र में अकेले विमान उड़ा कर भारतीय महिलाओं की उपलब्धियों में एक मील का पत्थर जोड़ा था. गूगल ने इसी उपलब्धि का जश्न मनाने के लिए खास डूडल तैयार किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 08 Aug 2021, 12:10:55 PM
Google Doodle

लाहौर से प्राप्त किया था विमान उड़ाने का लाइसेंस. (Photo Credit: गूगल )

highlights

  • भारत की पहली महिला पायलट सरला ठुकराल का है आज 107वां जन्मदिन
  • गूगल ने वृंदा झावेरी की डूडल डिजाइन से याद किया महान महिला को
  • लाहौर में 1000 घंटे विमान उड़ाकर हासिल किया था पायलट का लाइसेंस

नई दिल्ली:

भारत की पहली महिला पायलट सरला ठुकराल को उनके 107वें जन्मदिन पर इंटरनेट सर्च इंजन गूगल ने आकर्षक डूडल बना कर याद किया है. गेस्ट आर्टिस्ट वृंदा झावेरी द्वारा डिजाइन किए गए इस डूडल में एक महिला को दर्शाया गया है, जो विमान उड़ा रही है. इस डूडल पर क्लिक करते ही यूजर्स को सरला ठुकराल से जुड़ी सारी जानकारी मिल जाती है. सरला ठुकराल ने 21 साल की उम्र में अकेले विमान उड़ा कर भारतीय महिलाओं की उपलब्धियों में एक मील का पत्थर जोड़ा था. गूगल ने इसी उपलब्धि का जश्न मनाने के लिए खास डूडल तैयार किया है.

पति से प्रेरित होकर बनी पायलट
उद्यमी औऱ डिजायनर रही सरला ठुकराल का जन्म 8 अगस्त 1914 में ब्रिटिश शासनकाल के दौरान दिल्ली में हुआ था. बाद में वह वर्तमान पाकिस्तान की लाहौर में चली गई. अपने पति एयरमिल पायलट से प्रेरित होकर उन्होंने पायलट बनने की ठानी और उनके नक्शेकदम पर चलकर प्रशिक्षण प्राप्त किया. 21 साल की उम्र में उन्होंने पारंपरिक साड़ी पहन कर अपनी पहली एकल उड़ान के लिए एक छोटे से दो पंख वाले विमान के कॉकपिट में कदम रखा. इसके बाद उन्होंने भारत में नया इतिहास रच दिया. उस वक्त समाचार पत्रों में यह लिखा गया था कि अब आकाश केवल पुरुषों का नहीं रह गया है.

यह भी पढ़ेंः लाल चौक पर 15 अगस्त से पहले चढ़ा तिरंगे का रंग, जहां झंडा लहराना था बड़ा चैलेंज

1000 घंटे विमान उड़ाने पर मिला था लाइसेंस
सरला ठुकराल ने लाहौर के फ्लाइंग क्लब में 1000 घंटे तक विमान उड़ाकर लाइसेंस प्राप्त किया था. उस दौरान वह पहली महिला थी, जिसने विमान उड़ाने का लाइसेंस प्राप्त किया था. इसके बाद कॉमर्शियल पायलट के लिए ट्रेनिंग शुरू की, लेकिन दूसरे विश्वयुद्ध की वजह से उन्हें प्रशिक्षण रोकना पड़ा. पायलट की ट्रेनिंग के बाद सरला ठुकराल ने लाहौर के नेशनल कॉलेज ऑफ आर्ट्स से फाइन आर्ट्स और पेंटिंग की पढ़ाई की है. फिर वह दिल्ली आ गईं, जहां उन्होंने ज्वेलरी डिजाइनिंग का काम किया.

यह भी पढ़ेंः ओलंपिक से बड़ा कुछ नहीं, खुश हूं कि मेरी वजह से देश खुश है - नीरज चोपड़ा

गूगल ने दिया यह खास संदेश भी
गूगल ने इस डूडल को जारी करते हुए संदेश दिया है, 'हमने पिछले साल भारत में सरला ठुकराल के सम्मान में इसी डूडल को चलाने की योजना बनाई थी. मगर, जब केरल में दुखद विमान दुर्घटना हुई तो हमने घटना और राहत प्रयासों के संबंध में डूडल को रोक दिया. हम आमतौर पर एक से अधिक बार डूडल नहीं चलाते हैं, लेकिन ठुकराल ने उड्डयन में महिलाओं के लिए एक ऐसी स्थायी विरासत छोड़ी है कि हमने इस साल उनके 107 वें जन्मदिन के सम्मान में डूडल चलाने का फैसला किया है.'

First Published : 08 Aug 2021, 12:07:15 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.