News Nation Logo
Banner

तेलंगाना में एक और उपचुनाव में TRS और BJP होंगे आमने-सामने, एटाला राजेंद्र बीजेपी में शामिल

पूर्व मंत्री एटाला राजेंदर के तेलंगाना विधानसभा से इस्तीफा देने के साथ, राज्य में एक और उपचुनाव होने वाला है. इसमें सत्तारूढ़ टीआरएस और विपक्षी बीजेपी एक बार फिर आमने-सामने होंगे. वहीं, सोमवार को पूर्व मंत्री एटाला राजेंद्र बीजेपी में शामिल हो गए.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 14 Jun 2021, 04:47:03 PM
Eatala Rajender  joins BJP

तेलंगाना के पूर्व मंत्री एटाला राजेंद्र बीजेपी में शामिल (Photo Credit: @ANI)

highlights

  • तेलंगाना में एक और उपचुनाव में बीजेपी की वापसी की कोशिश
  • उपचुनाव में सत्तारूढ़ टीआरएस और विपक्षी होंगे आमने-सामने
  • तेलंगाना के पूर्व मंत्री एटाला राजेंद्र बीजेपी में शामिल

नई दिल्ली :

पूर्व मंत्री एटाला राजेंदर के तेलंगाना विधानसभा से इस्तीफा देने के साथ, राज्य में एक और उपचुनाव होने वाला है. इसमें सत्तारूढ़ टीआरएस और विपक्षी बीजेपी एक बार फिर आमने-सामने होंगे. वहीं, सोमवार को पूर्व मंत्री एटाला राजेंद्र बीजेपी में शामिल हो गए. जिन्होंने 12 जून को एक विधायक के रूप में इस्तीफा दे दिया, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और जी किशन रेड्डी की उपस्थिति में बीजेपी में शामिल हो हुए. बताया जा रहा है कि राजेंद्र ने भगवा खेमे को 2023 के विधानसभा चुनावों के लिए तेलंगाना राष्ट्र समिति के वास्तविक विकल्प के रूप में खुद को पेश करने का एक और मौका दिया है.

राजेंद्र साल 2009 से हुजुराबाद निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे थे

राजेंद्र साल 2009 से हुजुराबाद निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, उस सीट पर कड़ी टक्कर देखने की उम्मीद है. बीजेपी अपनी संभावनाओं को लेकर उत्साहित होगी क्योंकि राजेंद्र उस सीट से कभी चुनाव नहीं हारे हैं, जहां उनका अच्छा जनाधार है. दूसरी ओर, टीआरएस राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण करीमनगर जिले में सीट बरकरार रखने के लिए हर संभव प्रयास करेगी. यह निर्वाचन क्षेत्र 2004 से पार्टी का गढ़ रहा है.

यह भी पढ़ें : तमिलनाडुः 1 महीने बाद खुलीं शराब की दुकानें, मदुरै में लोगों ने की बोतलों की पूजा

2004 में वी. लक्ष्मीकांत राव हुजूराबाद से टीआरएस के टिकट पर चुने गए थे. उन्होंने 2008 में उपचुनाव में सीट बरकरार रखी. राजेंद्र, जो पहली बार 2004 में कमलापुर निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए थे और उपचुनाव में इसे बरकरार रखा था, उनको 2009 में हुजूराबाद स्थानांतरित कर दिया गया था. तब से वह टीआरएस के लिए सीट जीत रहे थे. टीआरएस के संस्थापक सदस्यों में से एक, राजेंद्र ने निर्वाचन क्षेत्र पर अपनी पकड़ बनाए रखी.

साल 2009 में उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के वी कृष्ण मोहन राव को 15,035 मतों से हराया. 2010 के उपचुनाव में, राजेंद्र ने अपनी जीत का अंतर लगभग 80,000 तक बढ़ा दिया और इस बार उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) के एम. दामोदर रेड्डी थे. तेलंगाना राज्य के गठन से ठीक पहले हुए 2014 के चुनावों में, राजेंद्र ने 57,037 मतों के बहुमत के साथ हुजुराबाद को बरकरार रखा. कांग्रेस के के. सुदर्शन रेड्डी उपविजेता रहे.

यह भी पढ़ें : पश्चिम बंगाल में ममता सरकार ने एक जुलाई तक कोरोना संबंधी पाबंदियां बढ़ाईं

हुजूराबाद से अपनी जीत का सिलसिला जारी रखा

राजेंद्र ने 2018 में हुजूराबाद से अपनी जीत का सिलसिला जारी रखा और अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के कौशिक रेड्डी को 47,803 मतों से हराया. पूर्व में हुए चुनावों में हुजूराबाद में शायद ही बीजेपी की मौजूदगी रही हो. 2018 में, इसके उम्मीदवार पी रघु को केवल 1,683 वोट मिले, जो नोटा वोट (2,867) से कम था. हालांकि, राजेंद्र के पार्टी में शामिल होने के साथ, बीजेपी नेताओं को टीआरएस से यह सीट छीनने का भरोसा है.

भगवा पार्टी हुजूराबाद में अपना प्रदर्शन दोहराएगी

उनका मानना है कि भगवा पार्टी हुजूराबाद में अपना प्रदर्शन दोहराएगी. पिछले साल नवंबर में हुए दुब्बाक विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में बीजेपी ने टीआरएस को चौंकाते हुए सनसनीखेज जीत हासिल की थी. बीजेपी के एक नेता ने कहा, "दुब्बाक में भी, हमारी शायद ही कोई उपस्थिति थी, लेकिन हमने जीत हासिल करने के लिए बहुत मेहनत की. हमें विश्वास है कि हम हुजूराबाद में प्रदर्शन को दोहराएंगे." दुब्बाक की जीत के बाद बीजेपी ने खुद को टीआरएस के एकमात्र विकल्प के रूप में पेश करना शुरू कर दिया. पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने भी तेलंगाना पर ध्यान देना शुरू कर दिया.

नागार्जुन सागर में हालिया उपचुनाव बीजेपी को निराशा हाथ लगी

एक महीने बाद, भगवा पार्टी ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के चुनावों में प्रभावशाली प्रदर्शन के साथ सामने आई. 150 सदस्यीय नगर निकाय में, बीजेपी ने 2016 में सिर्फ चार सीटों से अपनी संख्या बढ़ाकर 48 सीट कर ली. पार्टी न केवल जीएचएमसी में मुख्य विपक्ष के रूप में उभरी, बल्कि टीआरएस को स्पष्ट बहुमत से भी वंचित कर दिया. इन जीत के बाद बीजेपी ने 2023 के विधानसभा चुनाव में सत्ता पाने के लक्ष्य की ओर अपने प्रयास तेज कर दिए हैं. हालांकि, मार्च में विधान परिषद के दो स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों के चुनाव और नागार्जुन सागर में हालिया उपचुनाव के नतीजे पार्टी के लिए निराशा के रूप में आए.

बीजेपी विधान परिषद की एक सीट को बरकरार नहीं रख सकी और दूसरे में चौथे स्थान पर रही. नागार्जुन सागर में, जहां मुख्य मुकाबला टीआरएस और कांग्रेस के बीच था, बीजेपी उम्मीदवार रवि कुमार नाइक को केवल 4 प्रतिशत वोट मिले और उन्हें अपनी जमानत जब्त करनी पड़ी. जिस तरह बीजेपी 2023 के चुनावों से पहले संगठन को मजबूत करने के लिए कुछ सुधार की तलाश कर रही थी, उसी तरह राजेंद्र प्रकरण ने उसे एक बात साबित करने का एक और मौका दिया.

First Published : 14 Jun 2021, 04:08:41 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.