logo-image
लोकसभा चुनाव

Farmers Protest: किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल की तबीयत बिगड़ी, आज चढ़ूनी गुट करेगा हाईवे जाम

Farmers Protest: केन्द्र सरकार के बातचीन के न्योते के बाद किसान संगठनों ने भले ही अपने आंदोलन को दो दिन के लिए टाल दिया हो, लेकिन आज यानी गुरुवार को भारतीय किसान यूनियन(चढ़ूनी गुट) हरियाणा में हाइवे जाम करने वाला है

Updated on: 22 Feb 2024, 09:00 AM

New Delhi:

Farmers Protest: केन्द्र सरकार के बातचीत के न्योते के बाद किसान संगठनों ने भले ही अपने आंदोलन को दो दिन के लिए टाल दिया हो, लेकिन आज यानी गुरुवार को भारतीय किसान यूनियन(चढ़ूनी गुट) हरियाणा में हाइवे जाम करने वाला है. चढ़ूनी गुट ने दोपहर 12 बजे से लेकर 2 बजे तक हाइवे जाम करने का ऐलान किया है.  संगठन के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कल इस बात का ऐलान किया था. वहीं, सरकार की नजर अब किसानों को अगले कदम पर होगी. हालांकि किसान संगठनों से साफ कर दिया है कि आंदोलन आगे चलेगा या खत्म होगा यह सरकार के फैसले और मंशा पर निर्भर करता है. अगर सरकार एमएसपी पर फसलों की खरीद की गांरटी समेत अन्य मांगों को मांग लेती है किसान शांति के साथ अपने घरों को लौट जाएंगे. 

यह खबर भी पढ़ें- Farmers Protest: टोहाना बॉर्डर पर तैनात दरोगा समेत 3 पुलिसकर्मियों की मौत, किसान आंदोलन 2 दिन के लिए स्थगित

जगजीत सिंह डल्लेवाल की कल शाम अचानक तबीयत बिगड़ गई

उधर, किसान आंदोलन के बड़े चेहरे के रूप में उभरे जगजीत सिंह डल्लेवाल की कल शाम अचानक तबीयत बिगड़ गई.  डल्लेवाल को पटियाला स्थित राजिंदरा अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. फिलहाल इमरजेंसी वार्ड में उनका इलाज चल रहा है. किसानों का कहना है कि पुलिस द्वारा आंसू गैस का इस्तेमाल किए जाने से डल्लेवाल को सांस लेने में परेशानी हो रही है, जिसके चलते उनको अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है. जानकारी के अनुसार जगजीत सिंह डल्लेवाल को सीने में जलन और बुखार की भी शिकायत थी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जगजीत सिंह डल्लेवाल भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धपुर के प्रधान हैं और किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं. 

यह खबर भी पढ़ें- Weather Update: अब बस सुबह-शाम की सर्दी, जानें कितनी ठंड शेष और क्या मौसम का अपडेट?

किसानों ने दो दिन के लिए टाला आंदोलन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि किसान संगठन सरकार से न्यूनतम समर्थन मूल्य समेत अन्य मांगें कर रहे हैं. इस क्रम में सरकार और किसान नेताओं के बीच चार दौर की वार्ता भी हो चुकी हैं. लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल सका. यही वजह है कि कल यानी बुधवार को किसानों ने आरपार की लड़ाई का ऐलान करते हुए शंभू बॉर्डर से राजधानी दिल्ली के लिए कूच किया. लेकिन केंद्र सरकार ने किसान संगठनों को फिर से बातचीत का न्योता भेजा, जिसके बाद किसानों ने अपने आंदोलन को दो दिन के लिए टाल दिया है