News Nation Logo
Banner

चीन हिंदी फिल्मों-एनजीओ पर पैसा बहाकर भारत में बढ़ा रहा अपना प्रभाव

चीन ने भारत के फिल्म जगत, विश्वविद्यालयों, सामाजिक संस्थानों, शोध थिंक-टैंक, सोशल मीडिया और तकनीकी उद्योग में प्रभाव को खरीदने के लिए काफी धन खर्च किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 10 Sep 2021, 11:38:50 AM
Free Tibet

रॉकस्टार फिल्म में चीन ने हटवा दिया था बैनर पर लिखा तिब्बत का नाम. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • मैपिंग चाइनीज फुटप्रिंट्स एंड इन्फ्लुएंस ऑपरेशन इन इंडिया रिपोर्ट में खुलासा
  • रॉकस्टार सरीखी फिल्म में फ्री तिब्बत का झंडा करा दिया था ब्लर
  • तगड़ी फंडिंग कर थिंक टैंक, हिंदी फिल्मों और एनजीओ में बढ़ा रहा है प्रभाव

नई दिल्ली:

एक शोध में पता चला है कि चीन ने भारत के फिल्म जगत, विश्वविद्यालयों, सामाजिक संस्थानों, शोध थिंक-टैंक, सोशल मीडिया और तकनीकी उद्योग में प्रभाव को खरीदने के लिए काफी धन खर्च किया है. इससे राष्ट्रीय सुरक्षा और लोकतंत्र के लिए गंभीर खतरे का अंदेशा है. 3 सितंबर को लॉ एंड सोसाइटी एलायंस द्वारा जारी 'मैपिंग चाइनीज फुटप्रिंट्स एंड इन्फ्लुएंस ऑपरेशन इन इंडिया' शीर्षक वाली 76 पृष्ठ की रिपोर्ट यह जानने की कोशिश करती है कि भारत में चीनी पैर कितने गहरे और व्यापक हैं. रिपोर्ट में विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है और प्रमुख तत्वों और तरीकों की पहचान करती है, जिसमें चीनी खुफिया सेवाओं और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी सरकार ने मनोरंजन उद्योग से लेकर शिक्षा तक विभिन्न भारतीय क्षेत्रों में खुद को स्थापित किया है.

चीन अपना प्रभाव रहा है बढ़ा
रिपोर्ट में भारतीय उद्योगों और उन क्षेत्रों को उजागर किया गया है, जहां चीन ने रणनीतिक निवेश के माध्यम से अपना प्रभाव वर्षो से बढ़ाता रहा है. यह रिपोर्ट भारत में आम आदमी, मतदाताओं की राय को आकार देने के लिए अपने प्रभाव को बढ़ाने में बीजिंग के छिपे हुए एजेंडे को भी छूती है. चीन वित्तीय निवेशों के संयोजन, कन्फ्यूशियस संस्थानों के माध्यम से सामाजिक-राजनीतिक क्षेत्र में प्रचार करने के लिए, अपनी कोशिश को और आगे बढ़ने के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था व समाज में प्रवेश करने के लिए अपनी प्लेबुक में हर चाल का उपयोग कर रहा है. चीन अपने स्वार्थी आख्यान, कार्यो और उद्देश्यों के संबंध में प्रचार कर भारतीय समाज के भीतर कलह पैदा करने की कोशिश भी कर रहा है.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली में बारिश के साथ हुई सुबह, इन इलाकों में मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी 

फिल्मोद्योग में बनाया लॉबी समूह
पिछले कुछ वर्षो में चीन ने बार-बार भारतीय मनोरंजन उद्योग में घुसपैठ करने और फिल्मों के सह-निर्माण के तंत्र के माध्यम से बॉलीवुड को प्रभावित करने की कोशिश की है. बॉलीवुड को प्रभावित करने के बीजिंग के प्रयास का सबसे स्पष्ट सबूत है 2019 में बीजिंग अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में चीन-भारत फिल्म सह-निर्माण संवाद की मेजबानी. चीनी प्रभाव ने शाहरुख खान और कबीर खान जैसे भारतीय सिनेमा के प्रमुख दिग्गजों की भागीदारी को भी सफलतापूर्वक प्रबंधित किया. रिपोर्ट में इस बात पर भी प्रकाश डाला गया है कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने विशेष रूप से भारतीय फिल्म उद्योग के लिए एक भारतीय पैरवीकार की अध्यक्षता में कैसे लॉबी समूह बनाया है.

यह भी पढ़ेंः  बाराबंकी में भड़काऊ भाषण और कोविड प्रोटोकॉल उल्लंघन पर ओवैसी पर FIR

रॉकस्टार से समझे क्या कर रहा है चीन
बीजिंग का प्रभाव सूक्ष्म, लेकिन व्यवस्थित रहा है. चीनी फिल्म नियामक निकायों में प्रमुख व्यक्तियों को जीतने में कामयाब रहे हैं, जिन्होंने यह सुनिश्चित किया है कि बॉलीवुड में चीनी हितों का अच्छी तरह से प्रतिनिधित्व किया जाता है या कम से कम नुकसान नहीं होता है. इसका एक उदाहरण यह है कि कैसे चीन ने फिल्म 'रॉकस्टार' के निर्माताओं को उस झंडे को धुंधला करने के लिए सफलतापूर्वक प्रभावित किया, जिस पर 'फ्री तिब्बत' लिखा हुआ था. इसे फिल्म के एक लोकप्रिय गीत में दिखाया गया था.

First Published : 10 Sep 2021, 10:20:14 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

LiveScore Live Scores & Results

वीडियो

×