News Nation Logo

सेना ने नागालैंड में पकड़ा हथियार डीलर, चीन के लिए काम करने का शक

सेना ने नागालैंड में पकड़ा हथियार सप्लायर. ड्रैगन के इशारे पर काम करने का शक. सेना कर रही पूछताछ. उसके पास से एक एके-47 राइफल, तीन मैगजीन और 60 लाइव राउंड बरामद

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 24 Aug 2020, 12:17:39 PM
Nagalaind 3

नागालैंड (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

चीन भारत के खिलाफ चालबाजी करने से बाज नहीं आ रहा है. ड्रैगन लगातार भारत में तनाव बढ़ाने में जुटा है. वह भारत में आशंति का कायम करना चाहता है. भारत के खिलाफ चीन जहां पाकिस्तान-नेपाल (Pakistan-Nepal) को इस्तेमाल कर रहा है. वहीं, भारत के पूर्वोत्तर राज्यों के उग्रवादियों को हथियार की सप्लाई कर रहा है. अभी कुछ दिन पहले ही चीन ने म्यांमार के रोहिंग्या जिहादियों को हथियार देकर उन्हें भारत के खिलाफ उकसा रहा था. ऐसा करके चीन (China) पूर्वोत्तर के राज्यों में अशांति फैलाना चाहता है. वहीं, सुरक्षा बलों ने 22 अगस्त को नागालैंड (Nagaland) के ज़ुनहेबोतो जिले में खोलेबोतो के पास एक हथियार डीलर को पकड़ा है. जिसके पास से एक एके-47 राइफल, तीन मैगजीन और 60 लाइव राउंड बरामद किए है. भारतीय सेना के अनुसार उसके पास एक पत्रिका और तीन लाइव राउंड के साथ एक एमके-3 राइफल भी मिली है.

यह भी पढ़ेंचीन आतंकियों को दे रहा पनाह और मुहैया करा रहा धन

माना जा रहा है कि ये हथियार डीलर चीन के लिए काम करता है. वह उसके इशारे पर पूर्वोत्तर राज्यों के उग्रवादियों को हथियार सप्लाई करता है. चीन भारत के खिलाफ भारत में काम करे कुछ उग्रवादी संगठनों को चोरी-चोरी हथियार देकर उन्हें भारत के खिलाफ इस्तेमाल करने की कोशिश में लगा है, ताकि भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में तनाव के हालात बने रहे.

यह भी पढ़ें : म्यांमार में खदान में भूस्खलन में 162 की मौत, सैकड़ों अभी भी फंसे

रोहिंग्या जिहादियों को समर्थन करता है चीन

चीन पर हमेशा से आरोप लगता रहा है कि वह अपने पड़ोसी देशों को दबा कर रखना चाहता है. जिसके लिए वह किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार रहता है. अभी हालही में म्यांमार सरकार ने बिना नाम लिए चीन पर आरोप लगाया था. वह म्यांमार (Myanmar) के रोहिंग्या जिहादियों को हथियार सप्लाई करता है. माना जाता है कि
चीन लंबे समय से म्यांमार के आतंकी संगठन रोहिंग्या जिहादियों को समर्थन देता रहा है.  

यह भी पढ़ें : नागालैंड में स्थिति खतरनाक, 6 महीने के लिए बढ़ी AFSPA की अवधि

म्यांमार में रहते हैं पूर्वोत्तर के उग्रवादी संगठन 

भारत के पूर्वोत्तर राज्यों के कई उग्रवादी संगठनों ने म्यांमार में शरण ले रखी है. म्यांमार की रोहिंग्या जिहादी भारतीय उग्रवादियों की मदद करते हैं. भारत ने अपनी ‘एक्ट ईस्ट’ पॉलिसी के तहत पूर्वोत्तर राज्यों में ढांचागत सुविधाएं मजबूत की है. यहां के उग्रवादियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाए हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक, इन बातों से चीन की भारत के खिलाफ रणनीति पर असर पड़ा है और वह अब भारत के खिलाफ उग्रवादियों को शह दे रहा है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 24 Aug 2020, 12:17:39 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.