News Nation Logo

एयर इंडिया के कर्मचारियों को घर खाली करने का आदेश, हड़ताल पर जाएंगे कर्मचारी

Air India News: कंपनी की ओर से एयर इंडिया के कर्मचारियों को आवंटित मकानों को 6 महीने के अंदर खाली करने का आदेश जारी किया गया है. एयर इंडिया यूनियन ने मुंबई लेबर कमिश्नर को 2 नवंबर 2021 से हड़ताल पर जाने को लेकर अवगत कराया है.

Sayyed Aamir Husain | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 14 Oct 2021, 10:25:16 AM
Air India News

Air India News (Photo Credit: IANS)

highlights

  • आवंटित मकानों को 6 महीने के अंदर खाली करने का आदेश जारी किया गया
  • यूनियन ने मुंबई लेबर कमिश्नर को 2 नवंबर से हड़ताल पर जाने को लेकर अवगत कराया

नई दिल्ली:

Air India News: एयर इंडिया (Air India) की नीलामी के बाद उसके कर्मचारियों के ऊपर संकट के बादल गहराने लग गए हैं. एयर इंडिया के टाटा संस (Tata Sons) के हाथों में जाने के बाद अब एयर इंडिया के यूनियन ने हड़ताल पर जाने की योजना बनाई है. दरअसल, कंपनी की ओर से एयर इंडिया के कर्मचारियों को आवंटित मकानों को 6 महीने के अंदर खाली करने का आदेश जारी किया गया है. कर्मचारियों में इस आदेश के खिलाफ काफी रोष है. एयर इंडिया यूनियन ने मुंबई लेबर कमिश्नर को 2 नवंबर 2021 से हड़ताल पर जाने को लेकर अवगत कराया है. बता दें कि एयर इंडिया की खरीद बोली में टाटा संस ने बाजी मारी थी.

यह भी पढ़ें: आर्यन खान के केस में कब-कब क्या हुआ, देखें पूरी टाइम लाइन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नियमों के तहत हड़ताल पर जाने से पहले यूनियन को 2 हफ्ते का नोटिस देना जरूरी होती है. एयर इंडिया संयुक्त कार्रवाई समिति (Joint Action Committee) की ओर से मुंबई के क्षेत्रीय श्रम आयुक्त को यह नोटिस दिया गया है. बता दें कि 5 अक्टूबर को कर्मचारियों को एक नोटिस मिला था. इस नोटिस में कहा गया था कि कर्मचारी 20 अक्टूबर 2021 तक लिखकर दें कि एयर इंडिया का निजीकरण होने के 6 महीने के भीतर मकान को खाली करना होगा. 

यह भी पढ़ें: पंजाब में अब कैप्टन अमरिन्दर और सीएम चन्नी आमने सामने, BSF के अधिकार पर रार

बता दें कि केंद्र सरकार ने टाटा संस की सहायक कंपनी टैलेस को विनिवेश प्रक्रिया के तहत राष्ट्रीय वाहक एयर इंडिया के लिए सबसे अधिक बोली लगाने वाला घोषित किया था. टैलेस ने एयर इंडिया एक्सप्रेस और एआईएसएटीएस के साथ एयर इंडिया में केंद्र की 100 फीसदी इक्विटी हिस्सेदारी के लिए 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी. 18,000 करोड़ रुपये में से टैलेस 15,300 करोड़ रुपये अपने पास रखेगा, जबकि बाकी का भुगतान केंद्र को नकद किया जाएगा. बोली उद्योगपति अजय सिंह के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम से अधिक थी. कंसोर्टियम ने 15,100 करोड़ रुपये के ईवी की बोली लगाई थी. -इनपुट आईएएनएस

First Published : 14 Oct 2021, 10:16:10 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.