logo-image
लोकसभा चुनाव

सीने में दर्द होना (Chest Pain) कहीं खतरे की घंटी तो नहीं, जानें लक्षण और बचाव (symptoms and prevention)

सीने में दर्द उठना जितना आम है उतना ही गंभीर भी. इसके प्रति लापरवाही बरतना बेहद ही खतरनाक साबित हो सकता है. इसीलिए आज हम आपके लिए लाए हैं सीने में दर्द (Chest Pain) के पीछे के कारण, इसके लक्षण और इससे बचाव की डिटेल्ड इन्फॉर्मेशन.

Updated on: 10 Sep 2021, 09:27 AM

highlights

  • पसीना आना और सांस लेने में तकलीफ हैं चेस्ट पेन के गंभीर लक्षण 
  • एसिड-रिफ्लक्स भी है एक सीरियस चेस्ट पेन सिम्पटम

नई दिल्ली :

सीने में दर्द के कई कारण होते हैं, जैसे कि- मांसपेशियों में दर्द (muscle pain), हड्डी में दर्द, एसिड-रिफ्लक्स, एनजाइना, दिल का दौरा (heart attack) आदि. इनमें से कुछ प्रॉब्लम्स मामूली हैं तो कुछ गंभीर. लेकिन गौर करने वाली बात ये है कि ज़्यादातर लोगों को सीने में उठने वाले दर्द के पीछे की वजह पता ही नहीं चलती. कुछ दर्द ऐसे होते हैं जो सीने में सुई की तरह चुभते हैं तो कुछ हलके होते हैं. ऐसे में इन्हें नज़रंदाज़ करना गलत है. इसे इग्नोर करने से आपकी जान पर भी बन आ सकती है. ऐसे में आज हम आपको chest pain के बारे में डिटेल्ड इन्फॉर्मेशन देने जा रहे हैं जिसके तहत हम आपको इसके कारणों से लेकर इसके इलाज तक की जानकारी साझा करेंगे. 

यह भी पढ़ें: पेट में बढ़ रही है जलन और गर्मी, तो अपनाएं ये होम रेमेडीज

किस तरह के दर्द को न करें इग्नोर 
जब कभी आपको सीने के बीच में यानि सेंटर में दर्द हो या भारीपन महसूस हो तो समझ जाइए कि ये दर्द गंभीर है. इसके अलावा कंधे, हाथ, जबड़े या पीठ में झनझनाहट होना, पसीना आना या थकावट से होने वाले दर्द पर ध्यान दिया जाना भी ज़रूरी है. इन लक्षणों को नज़रंदाज़ करने से आपकी कंडीशन और बिगड़ सकती है. इसलिए बेहतर है कि जब भी कभी ऐसा महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें. 

                                                  

इस तरह से पाएं दर्द से राहत
अगर घरेलू उपचार यानी कि home remedies की बात करें तो हल्का खाना खाना ज़्यादा फायदेमंद होता है. इसके अलावा, अगर कारण मस्कुलोस्केलेटल (musculoskeletal) है, तो आस-पास किसी मेडिकल स्टोर से पेनकिलर ले सकते हैं. इससे आपके दर्द में आराम मिल जाएगा. वहीं, अगर एसिड-रिफ्लक्स आपके दर्द का कारण है, तो एंटासिड आपके काम आ सकती है.

यह भी पढ़ें: अब इन योगासनों (Yogasan) को कर, बाजुओं की चर्बी (Arms Fat) करें छूमंतर

ध्यान दें कि, अगर ये दर्द कार्डियक है, तो डॉक्टर के पास जाने की हड़बड़ी न दिखाएं बल्कि पहले खुद को शांत करने की कोशिश करें. क्योंकि ऐसी सिचुएशन में आपकी घबराहट आपकी सबसे बड़ी दुश्मन बन सकती है. खुद को रिलैक्स करने के लिए, कुछ हेल्थ रिपोर्ट्स के मुताबिक, आप अपनी जीभ के नीचे नाइट्रेट जैसी दवा रख सकते हैं. इसकी मदद से आपको सीने में दर्द से उतनी राहत तो मिल ही जाएगी कि जितने में आप डॉक्टर के पास जा सकें. 

                                                  

दर्द के कारण 
बता दें कि, सीने में दर्द के कई कारण होते हैं. यह मस्कुलोस्केलेटल हो सकता है, जो त्वचा (skin), मांसपेशियों, हड्डी या जोड़ों से पैदा होता है. इसके अलावा, ये एसिड-रिफ्लक्स हो सकता है जो फूड-पाइप या पेट में बनने वाले एसिड से पैदा होता है. सीने में दर्द फेफड़े से भी उठ सकता है. दर्द का एक कारण धमनियां यानी कि arteries भी हैं. मतलब कि, सीने में दर्द हृदय की धमनियों यानी कि heart arteries में रुकावट आने से भी हो सकता है, जिससे हृदय की मांसपेशियों (heart muscle) में ब्लड और ऑक्सीजन की सप्लाई कम हो जाती है.

यह भी पढ़ें: जानकर अंडे के नुकसान, खिसक जाएगी पैरों तले जमीन

सीने में दर्द के लक्षण
- पसीना आना
- सांस लेने में तकलीफ 
- धड़कन कम होना
- सिर में मंद दर्द होना 
- डकार लेना 
- उल्टी होना