News Nation Logo
Banner

सावधान! मधुमेह, हाई बीपी ने कोविड मरीजों में बढ़ा दिया ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

यूके में साउथेम्प्टन विश्वविद्यालय में एक टीम के नेतृत्व में किए गए अध्ययन से पता चला है कि मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे जोखिम कारकों ने युवा लोगों सहित कई लोगों में स्ट्रोक के जोखिम का योगदान दिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 29 Jul 2021, 01:16:44 PM
मधुमेह, हाई बीपी ने कोविड मरीजों में बढ़ा दिया ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

मधुमेह, हाई बीपी ने कोविड मरीजों में बढ़ा दिया ब्रेन स्ट्रोक का खतरा (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • 267 मामलों में से स्ट्रोक सबसे अधिक बार रिपोर्ट की गई स्थितियां थीं
  • 60 वर्ष से कम उम्र के रोगियों में एक चौथाई से अधिक स्ट्रोक हुए

नई दिल्ली:

शोधकतार्ओं ने पाया है कि गंभीर कोविड -19 के साथ अस्पताल में भर्ती वयस्कों में स्ट्रोक एक सामान्य जटिलता थी, जिसमें युवा लोगों में यह अपेक्षा से अधिक थी. यूके में साउथेम्प्टन विश्वविद्यालय में एक टीम के नेतृत्व में किए गए अध्ययन से पता चला है कि मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे जोखिम कारकों ने युवा लोगों सहित कई लोगों में स्ट्रोक के जोखिम का योगदान दिया है. ब्रेन कम्युनिकेशंस जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन में यूके में कोविड-19 से संबंधित न्यूरोलॉजिकल और मनोरोग संबंधी समस्याओं के 267 मामलों की जांच की गई.

यह भी पढ़ें: Swimming करने से आती है दिमाग और शरीर में स्फूर्ति, बड़ी बड़ी बीमारियां भी हो सकती हैं दूर

267 मामलों में से, स्ट्रोक सबसे अधिक बार रिपोर्ट की गई स्थितियां थीं, जो लगभग आधे रोगियों को प्रभावित करती थीं. 60 वर्ष से कम उम्र के रोगियों में एक चौथाई से अधिक स्ट्रोक हुए, जिनमें से कई में परिवर्तनीय जोखिम कारक थे, जिसका अर्थ था कि वे पहले से ही स्ट्रोक के जोखिम में थे. अन्य सामान्य स्थितियों में प्रलाप, मनोरोग संबंधी घटनाएं और मस्तिष्क को नुकसान के अन्य सबूत (एन्सेफालोपैथी) शामिल हैं. 10 प्रतिशत से अधिक रोगियों ने एक से अधिक न्यूरोलॉजिकल स्थिति का अनुभव किया, और इन रोगियों को गहन देखभाल और वेंटिलेशन की आवश्यकता होने की अधिक संभावना थी.

एमी रॉस-रसेल, यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल साउथेम्प्टन एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट में एनआईएचआर साउथेम्प्टन क्लिनिकल रिसर्च फैसिलिटी में रिसर्च फेलो ने बताया कि यह न केवल इस अध्ययन में हमने कितनी अलग-अलग न्यूरोलॉजिकल और मनोरोग संबंधी घटनाओं को देखा, बल्कि यह भी देखा कि इनमें से कुछ स्थितियां एक ही रोगियों के भीतर एक साथ हुईं. इससे पता चलता है कि कोविड एक ही रोगी में तंत्रिका तंत्र के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है. रॉस-रसेल ने कहा, "स्ट्रोक वाले मरीजों के शरीर में कहीं और रक्त वाहिका रुकावट या घनास्त्रता भी थी, इसलिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि कोविड के दौरान कुछ स्ट्रोक क्यों होते हैं.

यह भी पढ़ें: देश के 11 राज्यों में सीरो सर्वे (Sero Survey), जानें क्या आया परिणाम

खोज से पता चलता है कि कोविड युवा लोगों सहित स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ाता है. सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय इसे कम कर सकते हैं, जिसमें मधुमेह और उच्च रक्तचाप के विकास से बचने के लिए जीवनशैली के उपाय, रक्त शर्करा और रक्तचाप का अच्छा नियंत्रण और टीकाकरण और अन्य सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के माध्यम से गंभीर कोविड के जोखिम से बचना शामिल है.

First Published : 29 Jul 2021, 01:16:44 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.