News Nation Logo

देश के 11 राज्यों में सीरो सर्वे (Sero Survey), जानें क्या आया परिणाम

सीरो सर्वे (Sero Survey) के निष्कर्षों के अनुसार, 11 राज्यों में किये गये सर्वेक्षण में कम से कम दो-तिहाई आबादी में कोरोना वायरस एंटीबॉडी (Coronavirus Antibodies) विकसित पाई गई.

News Nation Bureau | Edited By : Rajneesh Pandey | Updated on: 29 Jul 2021, 09:15:05 AM
SERO SURVEY IN 11 STATES OF INDIA

SERO SURVEY IN 11 STATES OF INDIA (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • सर्वेक्षण में दो-तिहाई आबादी में कोरोना वायरस एंटीबॉडी विकसित मिला
  • 14 जून से 6 जुलाई के बीच किया गया था सर्वेक्षण
  • देश में एक दिन में आए 43 हजार से ज्यादा केस

नई दिल्ली:

सीरो सर्वे (Sero Survey) के निष्कर्षों के अनुसार, 11 राज्यों में किये गये सर्वेक्षण में कम से कम दो-तिहाई आबादी में कोरोना वायरस एंटीबॉडी (Coronavirus Antibodies) विकसित पाई गई. ये सर्वेक्षण भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) द्वारा 14 जून से 6 जुलाई के बीच किया गया था. इस सर्वे में मध्य प्रदेश 79 प्रतिशत ‘सीरोप्रीवैलेंस’ के साथ सूची में सबसे ऊपर है, जबकि केरल 44.4 प्रतिशत के साथ सबसे नीचे है. असम में ‘सीरोप्रीवैलेंस’ 50.3 प्रतिशत और महाराष्ट्र में 58 प्रतिशत है. आईसीएमआर द्वारा भारत के 70 जिलों में  किए गए राष्ट्रीय सीरो सर्वे के चौथे दौर के निष्कर्षों को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को साझा किया. सर्वेक्षित जनसंख्या में ‘सीरोप्रीवैलेंस’ राजस्थान में 76.2 प्रतिशत, बिहार में 75.9 प्रतिशत, गुजरात में 75.3 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में 74.6 प्रतिशत, उत्तराखंड में 73.1 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 71 प्रतिशत, आंध्र प्रदेश में 70.2 प्रतिशत, कर्नाटक में 69.8 प्रतिशत, तमिलनाडु में 69.2 प्रतिशत और ओडिशा में 68.1 प्रतिशत पाई गई. सर्वे के परिणामों के बारे में बताते हुए, स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सलाह दी है कि वे आईसीएमआर के परामर्श से स्वयं के सीरो अध्ययनों का संचालन करें, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि ये अध्ययन एक मानकीकृत प्रोटोकॉल का पालन करते हैं.

यह भी पढ़ें : मानसून में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया से बचने के लिए अपनाए ये टिप्स

राज्यों को जिला स्तर पर आंकड़े तैयार करने के निर्देश

वहीं केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को ये भी सलाह दी है कि वे आईसीएमआर के परामर्श से सीरो सर्वेक्षण करें ताकि स्थानीय स्तर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को तैयार करने में आवश्यक ‘सीरोप्रीवैलेंस’ पर जिला-स्तरीय आंकड़ा तैयार किया जा सके.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण द्वारा सभी राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के अतिरिक्त मुख्य सचिवों / प्रधान सचिवों / सचिवों (स्वास्थ्य) को लिखे गए एक पत्र में यह कहा गया है.

देश में एक दिन में आए 43 हजार से ज्यादा केस

ध्यान देने की बात है कि भारत में बुधवार को कोविड-19 के 43,654 नए मामले सामने आए जिससे संक्रमण के कुल मामले 3,14,84,605 पर पहुंच गए जबकि 640 और लोगों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या 4,22,022 हो गयी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 1,336 की वृद्धि के साथ 3,99,436 हो गयी जो संक्रमण के कुल मामलों का 1.27 प्रतिशत है. कोविड-19 से उबरने वाले मरीजों की राष्ट्रीय दर 97.39 प्रतिशत हो गयी है.

मिले आंकड़ों के मुताबिक, मंगलवार को कोविड-19 के लिए 17,39,857 नमूनों की जांच की गयी और इसके साथ ही अब तक कुल 46,09,00,978 नमूनों की जांच की जा चुकी है. दैनिक संक्रमण दर मंगलवार को 1.73 प्रतिशत थी जो अब बढ़कर 2.51 प्रतिशत हो गयी है. साप्ताहिक संक्रमण दर 2.36 प्रतिशत है.

First Published : 29 Jul 2021, 08:35:56 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.