News Nation Logo
NCB के DDG ज्ञानेश्वर सिंह समेत NCB की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से मुंबई पहुंची NCB की टीम प्रभाकर के भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगी प्रभाकर मुंबई के क्रूज़ ड्रग्स मामले में एक गवाह है सभी गवाहों के कॉल डिटेल की जांच हो: नवाब मलिक सीएम तीर्थयात्रा योजना में अयोध्या शामिल: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली दिल्ली के लोग रामलला के दर्शन कर सकेंगे: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान, कहा- सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव पेगासस जासूसी मामले की जांच करेगी एक्सपर्ट कमेटी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश कोविड के चलते दक्षिण 24 परगना जिले के सोनारपुर इलाके में 3 दिन का लॉकडाउन बॉम्बे हाईकोर्ट में नवाब मलिक के खिलाफ PIL दायर, ड्रग्स केस में टिप्पणी से रोकने की मांग पंजाब में दिवाली पर 2 घंटे पटाखे चलाने की इजाजत, रात 8 से 10 बजे तक कर सकेंगे आतिशबाजी अक्टूबर महीने में 20वीं बार महंगा हुआ पेट्रोल और डीजल दिल्ली में पेट्रोल 35 पैसे और डीजल 35 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ पीएम मोदी आज ईस्ट एशिया समिट को संबोधित करेंगे, वर्चुअली होंगे शामिल

Evergrande Crisis क्या है? सिर्फ एक दिन में दुनिया के 500 बड़े अमीरों के 10,000,00 करोड़ रुपये डूबे

एवरग्रांड संकट (Evergrande Crisis): दुनियाभर के दिग्गज कारोबारियों को इस संकट की वजह से भारी नुकसान उठाना पड़ा है. यहां तक कि जेफ बेजोस, वॉरेन बफे और एलन मस्क आदि भी इससे अछूते नहीं रह गए हैं.

Business Desk | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 22 Sep 2021, 03:45:03 PM
एवरग्रांड संकट (Evergrande Crisis):

एवरग्रांड संकट (Evergrande Crisis): (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • 1996 में बोतलबंद पानी बेचने की कंपनी के तौर पर एवरग्रैंड की शुरुआत हुई थी 
  • सिर्फ एक दिन में दुनिया के 500 बड़े अमीरों के 10 लाख करोड़ रुपये डूबे

नई दिल्ली:

एवरग्रांड संकट (Evergrande Crisis): हाल के दिनों में पूरी दुनिया में एवरग्रांड संकट चर्चा में है और हो भी क्यों ना. अकेले इस संकट की वजह से सिर्फ एक दिन में दुनिया के 500 बड़े अमीरों के 10 लाख करोड़ रुपये जो डूब चुके हैं. दुनियाभर के दिग्गज कारोबारियों को इस संकट की वजह से भारी नुकसान उठाना पड़ा है. यहां तक कि जेफ बेजोस, वॉरेन बफे और एलन मस्क आदि भी इससे अछूते नहीं रह गए हैं. चीन की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनियों में से एक एवरग्रांड के भारी कर्ज में डूबने के चलते संकट पैदा हो गया है जिसकी वजह से दुनियाभर में कारोबारी माहौल को चिंता में डाल दिया है. जानकारों का अनुमान है कि एवरग्रांड संकट की वजह से स्थितियां और बिगड़ने का खतरा बना हुआ है. इन सब स्थितियों को देखते हुए हम सभी के लिए यह जानना जरूरी हो गया है कि आखिर यह एवरग्रांड संकट है क्या और इसके क्या दूरगामी परिणाम हो सकते हैं. 

यह भी पढ़ें: राहत भरी खबर, देश में इस साल रिकॉर्ड खरीफ फसल का उत्पादन

1996 में बोतलबंद पानी बेचने की कंपनी के तौर पर हुई थी शुरुआत
जानकारों का कहना है कि चीन की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनियों में से एक Evergrande के दिवालिया होने का खतरा पैदा हो गया है. दरअसल, कंपनी बैंकों के भारी भरकम कर्ज को चुकाने में नाकाम साबित हो रही है. बता दें कि Evergrande चीन की दूसरी सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी है और मौजूदा समय में यह कंपनी 280 से ज्यादा शहरों में काम कर रही है. मौजूदा समय में कंपनी के पास 1,300 बड़े प्रोजेक्ट हैं. बता दें कि 1996 में बोतलबंद पानी बेचने की कंपनी के तौर पर एवरग्रैंड की शुरुआत हुई थी. कंपनी ने रियल एस्टेट के धंधे में उतरने के बाद मध्यमवर्गिय लोगों के लिए जबर्दस्त स्कीमें पेश की और समय बीतने के साथ ही यह चीन की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक बन गई. यही नहीं Evergrande के पास चीन की एक प्रोफेशनल फुटबॉल टीम ग्वांगझू फुटबॉल क्लब का मालिकाना हक है.

यह भी पढ़ें: इस प्रोडक्ट की खेती से होती है मोटी कमाई, देश-विदेश में है भारी मांग

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन ने इस साल डिजिटल इकोनॉमी और डिजिटल एजुकेशन जैसे सेक्टर्स पर पाबंदियां लगाईं तो उस समय रियल एस्टेट सेक्टर में भी डर फैल गया. दरअसल, रियल एस्टेट सेक्टर में इस बात का डर फैल गया कि चीन कर्ज की सीमा को सीमित करने के लिए सीलिंग तय कर सकता है. बता दें कि पिछले साल भी चीन की सरकार ने रियल एस्टेट मालिकों के लिए कुछ नियम बनाए थे जिसके तहत उनको मिलने वाले कर्ज के ऊपर नियंत्रण लगाया जाना तय किया गया था. यही वजह थी कि Evergrande ने अपने कारोबार की बिक्री शुरू कर दी थी. साथ ही कोविड महामारी की वजह से कंपनी को अपनी सपंत्तियों को काफी सस्ती कीमतों पर बेचना पड़ा था.

First Published : 22 Sep 2021, 03:40:38 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.